Top
दिल्ली

लूट के बाद साले ने उतारा जीजा को मौत के घाट, 'लॉकडाउन' में भी कार में लेकर घूमता रहा लाश

Prema Negi
16 April 2020 5:47 AM GMT
लूट के बाद साले ने उतारा जीजा को मौत के घाट, लॉकडाउन में भी कार में लेकर घूमता रहा लाश
x

ओमप्रकाश पत्नी की मौत से बाद से ही दूसरी शादी को लिए था परेशान, जिसके लिए वह कोई भी कीमत अदा करने को था तैयार, उसके साले ने उठाया था इसी बात का फायदा...

नई दिल्ली, जनज्वार। दिल्ली पुलिस ने दो दिन पहले रोहिणी सेक्टर-24 में कार के अंदर मिले लावारिस शव का मामला सुलझा लिया है। हत्यारे शव को लॉकडाउन के सख्त पहरे में भी कार में लेकर घूमते रहे। मौका मिलने पर कार में शव छोड़कर फरार हो गये। मामला लूट का निकला।

स सिलसिले में पुलिस ने मृतक की पत्नी के भाई (साले) और उसके दोस्त को गिरफ्तार किया है। गुरुवार 16 अप्रैल को आईएएनएस को यह जानकारी रोहिणी जिले के एडिशनल पुलिस कमिश्नर एस.डी. मिश्रा ने दी। उन्होंने कहा, गिरफ्तार हत्यारोपियों का नाम संदीप उर्फ देवा और सैफ अली खान है। दोनों आपस में दोस्त और आवारागर्द हैं। देवा आठवीं पास और सैफ अली खान पेशे से मंडी में लेबर है। इनके पास से लूट में हासिल दो लाख रुपये नकद और मोबाइल फोन भी मिला है।

यह भी पढ़ें : संसद से कुछ मीटर दूर बेहाल हैं बेघर मजदूर, बोले सरकार हमें रहने के लिए जगह दे नहीं तो उड़ा दे गोली से

टनाक्रम के मुताबिक, 11 अप्रैल को सुबह करीब साढ़े सात बजे दिल्ली पुलिस कंट्रोल रूम को एक कार में शव रखे होने की सूचना मिली थी। सूचना पाकर थाना बेगमपुर पुलिस मौके पर गयी। सेक्टर -24 रोहिणी की पार्किंग में लावारिस हाल में खड़ी मिली सफेद रंग की स्विफ्ट डिजायर कार में शव रखा था। शव के कान, मुंह और नाक में कपड़ा ठूंसा हुआ था। मरने वाले की पहचान 50 वर्षीय ओमप्रकाश, निवासी प्रेम नगर किरारी के रूप में हुई।

त्या की इस वारदात की जांच के लिए एसएचओ बेगमपुर इंस्पेक्टर जय भगवान के निर्देशन में इंस्पेक्टर मनोहर लाल, सब इंस्पेक्टर डीपी सिंह, सहायक सब-इंस्पेक्टर नीरज, हवलदार यशपाल, राजकुमार, सिपाही विकास और प्रमोद की तीन टीमें बनाई गयीं। इन तीनों टीमों के सुपरविजन की जिम्मेदारी दी गयी बेगमपुर सब-डिवीजन के सहायक पुलिस आयुक्त रमेश कुमार को।

यह भी पढ़ें : लॉकडाउन में राशन के नाम पर केजरीवाल बांट रहे गरीबों को गेहूं, क्या वे इसे कच्चा चबायेंगे

जांच में जुटी पुलिस टीमों को मरने वाले शख्स ओमप्रकाश का मौके से मोबाइल गायब मिला। मोबाइल रिकार्ड खंगालने पर पुलिस देवा और सैफ अली खान तक जा पहुंची। दोनों ने पूछताछ में कबूल लिया कि उन्होंने ओमप्रकाश की हत्या की है। पुलिस के मुताबिक देवा, ओमप्रकाश की पत्नी जिसकी कुछ समय पहले बीमारी से मौत हो चुकी है, का सगा भाई है। यानी रिश्ते में ओमप्रकाश का साला है।

देवा के मुताबिक ओमप्रकाश पत्नी की मौत से बाद से ही दूसरी शादी को लिए परेशान था। इसके लिए वो कोई भी कीमत अदा कर सकता था। देवा ने इसी कमजोरी का फायदा उठाते हुए घटना वाले दिन ओमप्रकाश को फोन करके बुलाया। कहा कि, उसकी शादी के लिए महिला मिल गयी है। खर्चा दो लाख रुपये होगा। दो लाख रुपये साले देवा को देकर ओमप्रकाश शादी करने के लालच में तैयार हो गया। वो देवा के बताये स्थान पर पहुंच गया।

यह भी पढ़ें : भूख से तड़पते मजदूर अपने साथी की मौत से हुए आक्रामक, जला दिया शेल्टर होम ही

मौका देखकर देवा और उसके साथी बदमाश सैफ अली खान ने कमरे में ही ओमप्रकाश की हत्या कर दी। इसके बाद उसके पास मौजूद 2 लाख रुपये लूट लिये। शव को ओमप्रकाश की ही कार में ले जाकर रोहिणी सेक्टर-24 की पार्किंग में छोड़ कर दोनों फरार हो गये।

Next Story

विविध

Share it