Top
दिल्ली

राहुल गांधी ने शेयर किया मजदूरों से मुलाकात का वीडियो, प्रवासी बोले- कोरोना नहीं, भूख-प्यास का है डर

Raghib Asim
23 May 2020 8:51 AM GMT
राहुल गांधी ने शेयर किया मजदूरों से मुलाकात का वीडियो, प्रवासी बोले- कोरोना नहीं, भूख-प्यास का है डर
x

लॉकडाउन के चलते बड़ी संख्या में मजदूर पैदल ही अपने-अपने राज्यों की ओर लौटने को मजबूर हो गए हैं। इस बीच राहुल गांधी ने पिछले दिनों प्रवासी मजदूरों के साथ बातचीत के बाद आज अपने यूट्यूब चैनल पर पूरा वीडियो जारी किया है। राहुल की आवाज में इस वीडियो में मजदूरों की मुश्किलों को बयां किया गया है...

जनज्वार। कोरोना वायरस के प्रकोप से बचने के लिए लगाए गए लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों की मुश्किलों को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी लगातार केंद्र सरकार पर हमलावर हैं। लॉकडाउन के चलते बड़ी संख्या में मजदूर पैदल ही अपने-अपने राज्यों की ओर लौटने को मजबूर हो गए हैं। इस बीच कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और केरल के वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने पिछले दिनों प्रवासी मजदूरों के साथ बातचीत के बाद आज अपने यूट्यूब चैनल पर पूरा वीडियो जारी किया है। राहुल की आवाज में इस वीडियो में मजदूरों की मुश्किलों को बयां किया गया है।

राहुल द्वारा आज जारी की गई वीडियो में देखा जा सकता है कि वह मजदूरों से पूछते दिख रहे हैं कि उनके पास पैसा है या नहीं। उन्हें कैसे पता चला कि लॉकडाउन के बारे में। राहुल ने जिन मजदूरों से बात की वह यूपी स्थित झांसी के निवासी हैं। पूरा परिवार ही झांसी के लिए निकल पड़े। वे हरियाणा की एक फैक्ट्री में काम करते थे. राहुल से बातचीत में मजदूरों ने बताया कि उन्हें एक पैसे की मदद नहीं मिली।

‘कोरोना की नहीं पेट की बीमारी सता रही है हमें’

जदूरों ने बताया कि घर से बाहर निकलना गुनाह हो गया था। पुलिस तो पुलिस, स्थानीय लोग भी बाहर निकलने पर मारते थे, पुलिस वाले दो टाइम आते थे और वह पूरा दिन रहते थे। राहुल गांधी से मजदूरों ने बातचीत में कहा कि साहब हमें कोरोना की बीमारी नहीं बल्कि पेट की बीमारी यानी भूख-प्यास की बीमारी सता रही है।

राहुल से कहा- हमको गांव पहुंचा दीजिए

क महिला ने भावुक होते हुए राहुल से कहा कि गांव पहुंचा दीजिए हम लोगों को. हम लोगों को वापस हरियाणा मत पहुंचाना। हमको गांव जाना है। मजदूरों ने बताया कि हरियाणा में जहां रहते थे वहां 5-5 हजार रुपये का सामना छूट गया। अब तो वो वापस आने से रहा।

राहुल की मांग 13 करोड़ परिवारों को 7, 500 रुपए दे सरकार

राहुल ने पूछा कि सरकार अगर मदद कर सके तो उसे क्या करनी चाहिए, आप सुझाव दें। इस पर लोगों ने कहा कि जो लोग गांव जाना चाहें उन्हें गांव जाने दिया जाए। साथ ही रोजगार शुरू हो जाए। वीडियो में राहुल ने मांग की है कि श्रमिकों के साथ न्याय हो। सरकार तुरंत उनके लिए सीधा कैश ट्रान्सफर करे। 13 करोड़ परिवार को 7500 रुपये दे।

स वीडियो के आखिर में राहुल ने कहा कि मेरे प्रवासी श्रमिक भाई बहनों, आप इस देश की शक्ति हो। हिन्दुस्तान की शक्ति को सक्षम बनाना हमारा कर्तव्य है। कहा कि पूरा देश आपके साथ न्याय हो।

यहां देखें पूरा वीडियो-

कर दी जानकारी

पिछले दिनों कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पैदल ही अपने घरों की दूरी तय करने वाले मजदूरों से बातचीत की थी। मजदूरों ने अपनी परेशानियों को राहुल गांधी के साथ साझा किया था। इस बातचीत का वीडियो राहुल गांधी आज सुबह 9 बजे अपने यूट्यूब पर शेयर करेंगे। राहुल गांधी ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है।

कांग्रेस नेता ने ट्वीट कर बताया, 'कुछ दिनों पहले मैंने प्रवासी मजदूरों के एक समूह के साथ बातचीत की थी, जो हरियाणा में काम करते थे और अब उत्तर प्रदेश के झांसी पैदल लौट रहे थे। आज सुबह 9 बजे उनकी दर्द की, इच्छा शक्ति की और जिंदगी की कहानी अपने यूट्यूब चैनल पर शेयर करूंगा।'

वीडियो का टीजर किया शेयर

राहुल गांधी ने इस वीडियो का टीजर भी पेश किया है। वीडियो में राहुल गांधी पूछते नजर आ रहे हैं कि कितनी दूर से आप पैदल चल रहे हैं, वीडियो में एक शख्स जवाब देता है कि 100 किलोमीटर। एक महिला ने कहा कि अब हम लौटकर कभी नहीं वापस जाएंगे।'

राहुल गांधी ने की थी मजदूरों से मुलाकात

रअसल राहुल गांधी दिल्ली की सड़कों पर भटकते मजदूरों से मिलने सड़कों पर उतरे थे। फुटपाथ किनारे बैठे मजदूरों से राहुल गांधी ने बातचीत की थी और उनके दुख-दर्द को सुना था। घर वापसी के लिए 700 किमी. के पैदल सफर पर निकले इन मजदूरों और इनके जैसे दूसरे मजदूरों के हौसले की कुछ कहानियां राहुल गांधी आज पूरे देश से साझा करेंगे।

Next Story

विविध

Share it