Top
राजनीति

'JNU-AMU और जामिया में वेस्ट यूपी को 10 फीसदी आरक्षण देकर देखो, टुकड़े-टुकड़े गैंग भूल जायेगा आजादी का नारा'

Prema Negi
23 Jan 2020 11:24 AM GMT
JNU-AMU और जामिया में वेस्ट यूपी को 10 फीसदी आरक्षण देकर देखो, टुकड़े-टुकड़े गैंग भूल जायेगा आजादी का नारा
x

मोदी के कैबिनेट मंत्री के बिगड़े बोले, जामिया और JNU-AMU में CAA-NRC के खिलाफ नारा लगाने वालों का एक ही इलाज है, इन यूनिवर्सिटीज में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 10 फीसदी छात्रों को आरक्षण दिलवा दीजिए, सबका इलाज कर देंगे, टुकड़े-टुकड़े गैंग भूल जायेगा आजादी का नारा...

जनज्वार। भाजपा नेताओं-मंत्रियों और विवादित बयानों का चोली-दामन का साथ है। हर रोज कोई न कोई भाजपाई कुछ ऐसा बोल देता है, जो विवादित ही होता है। अभी 2 दिन पहले भाजपा के एक पूर्व मंत्री ने मध्य प्रदेश की कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर के बारे में जो बयानबाजी की, उसका वीडियो पहले से ही मीडिया में वायरल हो रहा है। अब मोदी के मंत्री संजीव बालियान ने जेएनयू—जामिया के छात्रों को खुलेआम मंच से धमकाने का काम किया है।

बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने उत्तर प्रदेश के मेरठ में कल 22 जनवरी को विवादित बयान देते हुए मोदी सरकार के कैबिनेट मंत्री राजनाथ सिंह से कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के छात्रों को जेएनयू, जामिया मिल्लिया इस्लामिया और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सटी (एएमयू) में 10% आरक्षण दे दिया जाए तो वहां लोग ‘टुकड़े-टुकड़े’ का नारा लगाना भूल जाएंगे।जामिया, एएमयू और जेएनयू में CAA-NRC के खिलाफ नारा लगाने वालों का एक ही इलाज है कि इन यूनिवर्सिटीज में पश्चिमी यूपी के 10 फीसदी छात्रों को आरक्षण करवा दीजिए, सबका इलाज करवा देंगे।

संजीव बालियान सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में कहते सुनाई दे रहे हैं, ‘8 हजार छात्र जेएनयू, 8 हजार जामिया व एएमयू में हैं, जहां विरोध हो रहा है। उनसे ज्यादा छात्र तो हमारे मेरठ कॉलेज में ही हैं, जो सीएए और एनआरसी का समर्थन कर रहे हैं। एएमयू और जामिया विश्वविद्यालय में जो विरोध कर रहे हैं, वह सब राजनीति के तहत हो रहा है।’

ल 22 जनवरी को उत्तर प्रदेश के मेरठ में नागरिकता संशोधन कानून यानी CAA के समर्थन में बीजेपी की ओर से आयोजित रैली में केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने जामिया और जेएनयू के छात्रों को यह कहकर एक तरह से धमकी देने का ही काम किया है। गौरतलब है कि यह वही संजीव बालियान हैं जो 2013 में हुए मुजफ्फरनगर दंगे में आरोपी थे।

हां संजीव बालियान ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से कहा कि जेएनयू और जामिया यूनिवर्सिटी में पश्चिम उत्तर प्रदेश के लोगों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिलवा दें तो देश के विरोध में नारे लगाने वालों का इलाज अपने आप हो जायेगा। फिर कोई नारा नहीं लगा पाएगा। देश के खिलाफ नारा लगाने की फिर किसी की हिम्मत नहीं होगी। ये पश्चिमी उत्तर प्रदेश की भूमि है। जब भाजपा मंत्री सार्वजनिक मंच से JNU-AMU, जामिया के छात्रों को धमका रहे थे, उस समय मंच पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के अलावा कई अन्य मंत्री भी बैठे हुए थे।

स दौरान संजय बालियान ने न सिर्फ CAA-NRC के खिलाफ आवाज उठा रहे जेएनयू—जामिया के छात्रों को धमकाया, बल्कि हिंदुस्तान और पाकिस्तान में हिंदुओं और मुसलमानों की जनसंख्या में अंतर पर भी भाषण दे डाला। कहा कि जब देश आजाद हुआ तब 7 करोड़ मुसलमान थे। अब 20 प्रतिशत हैं और पश्चिम उत्तर प्रदेश में 50 प्रतिशत, जबकि पाकिस्तान में हिंदू 23 प्रतिशत से 3 प्रतिशत और मुसलमान 7 प्रतिशत से 40 प्रतिशत। अंतर इतना बड़ा है, अपने आप देख लें।

बीजेपी के कई अन्य नेता भी CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों को लेकर विवादित बयानबाजी कर रहे हैं। पश्चिम बंगाल में बीजेपी सांसद सौमित्र खान ने CAA-NRC का विरोध करने वाले बौद्धिक लोगों को टीएमसी का कुत्ता करार दिया था। 18 जनवरी को बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष ने विवादित बयान दिया था कि कहा जो बुद्धिजीवी नागरिकता संशोधित कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं, वह शैतान और कीड़े हैं।

हीं CAA-NRC पर दिलीप घोष तो यहां तक बोल गये कि 'CAA-NRC को लेकर हिंसक प्रदर्शनों के दौरान जिस तरह उत्तर प्रदेश में उपद्रवियों को गोली मारी गई, उसी तरह बंगाल में भी अराजक तत्वों को कुत्तों की तरह गोली मारेंगे।'

बंगाल भाजपा अध्यक्ष की जुबान यहीं नहीं रुकी, बल्कि आगे बोले, 'अगर हम सत्ता में आए तो देश विरोधी लोग जो सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हैं, उनको लाठियों से मारेंगे, गोली मारेंगे और जेल भेजेंगे।”

हीं योगी सरकार के तो एक महान राज्यमंत्री रघुराज सिंह ने अलीगढ़ में आयोजित एक रैली में CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों को धमकाते हुए कहा, मोदी—योगी के खिलाफ नारे लगाने वालों को मैं जिंदा दफना दूंगा। देश में मोदी और प्रदेश में योगी बैठा है। सोच लो, बचोगे नहीं। POTA में जाओगे, जमानत नहीं होगी। भविष्य के साथ खिलवाड़ मत करो।

Next Story

विविध

Share it