शिक्षा

बची रहेगी उर्जा तो बचे रहेंगे पृथ्वी पर आप भी और हम भी

Janjwar Team
29 Jan 2018 10:03 AM GMT
बची रहेगी उर्जा तो बचे रहेंगे पृथ्वी पर आप भी और हम भी
x

केंद्रीय विद्यालय के छात्रों ने की तहजीब से उर्जा इस्तेमाल की अपील

कटनी, मध्यप्रदेश। आज दुनिया में तेजी से हो रहे विकास के चलते ऊर्जा की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। उद्योग, स्वास्थ्य सेवाएँ, शिक्षा, विज्ञान, रिसर्च आदि क्षेत्रों में हो रहे विकास और लोगों की बढ़ती महत्वाकांक्षाओं को मूर्त रूप देने के लिए संसाधनों का तेजी से दोहन हो रहा है। ऊर्जा के अधिकतर संसाधन असीमित नहीं हैं। हमें अपनी आवश्यकताएं भी सीमित करनी पड़ेंगी साथ ही यह भी समझना होगा कि जितना ज्यादा से ज्यादा वह ऊर्जा स्रोतों की बचत करेंगे, भविष्य में वह उतना ही उनके काम आएगी।

यह बात कटनी रेलवे स्टेशन पर मौजूद केंद्रीय विद्यालय संगठन सिंहरौली के छात्र-छात्राओं ने कही। छात्र-छात्राओं के मुताबिक आजादी के सात दशकों के बाद भी हिन्दुस्तान के करोड़ों घरों को एक अदद रौशनी की दरकार है। हालाँकि देश में बिजली का उत्पादन बढ़ा है लेकिन जिस प्रकार से जनसंख्या तीव्र गति से बढ़ रही है और संसाधनों का दोहन हो रहा है।

आज संपूर्ण विश्व में थर्मल पावर से निर्मित बिजली, ग्लोबल वॉरमिंग और वातावरण में उत्सर्जित होने वाली कई हानिकारक गैसों के चलते होने वाले वायु प्रदूषण के कारण एक गहन चिंता का विषय बनी हुई है, यहाँ तक कि जीवाश्म ईंधन होने के कारण कोयले के भंडार भी सीमित हैं, हाइड्रो को भी हमने पूरी तरह से लगभग दोहन कर लिया है, साथ ही पवन और सौर ऊर्जा की अपनी अपनी सीमायें हैं।

सौर और पवन की उत्पादन क्षमता, ज्यादा जगह, धूप और हवा के प्रवाह की समुचित उपलब्धता पर निर्भर हैं। ऐसे में परमाणु ऊर्जा एक स्वच्छ और हरित ऊर्जा का किफायती विकल्प साबित हो रहा हैै।

इसके अलावा साथ ही आज हमें कुछ और उपायों पर भी ध्यान देना होगा ताकि हम बिजली बनाने के साथ-साथ इसका संरक्षण भी भली भांति कर सकें। उदाहरण के तौर पर हमें आज ज्यादा से ज्यादा एलईडी बल्बों को उपयोग में लाना चाहिए ताकि एक तरफ हमें कम वाट पर अच्छी रौशनी मिल सके और दूसरी तरफ बिजली की भी खपत कम हो सके।

जहाँ जरूरी न हो वहां दिन में बल्ब का इस्तमाल न करें। जिस जगह आप न बैठें हो वहां व्यर्थ में एसी, पंखे या फिर अन्य उपकरणों को बंद कर के रखें। घरों और कार्यालयों का भी निर्माण आधुनिक पद्धति से इस प्रकार से किया जाये जहाँ प्राकृतिक रूप से ज्यादा से ज्यादा सूर्य की रौशनी और हवा मिल सके।

सड़कों के किनारे लगे हुए लैंप पोस्टों को दिन में बंद रखा जाये, स्कूल, मॉल एवं मल्टी प्लेक्स में रूफ टॉप पर सोलर पैनल्स को अनिवार्य करना चाहिए, घरों में अगर संभव हो तो सौर ऊर्जा पर आधारित गीजर और कुकर का इस्तेमाल करके हम काफी हद बिजली बचा कर ऊर्जा का संरक्षण कर सकते हैं।

Next Story

विविध

Share it