Top
आंदोलन

सपा कार्यकर्ताओ का YES BANK के बाहर विरोध प्रदर्शन, राणा कपूर का जलाया पोस्टर

Janjwar Team
8 March 2020 10:05 AM GMT
सपा कार्यकर्ताओ का YES BANK के बाहर विरोध प्रदर्शन, राणा कपूर का जलाया पोस्टर
x

यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर के खिलाफ प्रदर्शन, सपा कार्यकर्ता बोले- इस स्थिति के लिए बैंक के संस्थापक राणा कपूर के साथ केंद्र की भाजपा सरकार व रिजर्व बैंक भी बराबर के दोषी...

जनज्वार। कानपुर के चकेरी के जाजमऊ स्थित यस बैंक की शाखा के बाहर सपाइयो ने यस बैंक के संथापक का पोस्टर जलाकर विरोध प्रदर्शन किया। सपा कार्यकर्ताओं ने इस दौरान प्रधानमंत्री, वित्तमंत्री व रिजर्व बैंक के गवर्नर का इस्तीफा मांगा साथ ही दोषियों को जेल भेजने की मांग की।

पा के व्यापार सभा के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष व उत्तर प्रदेश प्रांतीय व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष अभिमन्यु गुप्ता ने कहा की इस स्थिति के लिए बैंक के संस्थापक राणा कपूर के साथ केंद्र की भाजपा सरकार व रिजर्व बैंक भी बराबर के दोषी है। प्रधानमंत्री, वित्तमंत्री व रिजर्व बैंक यस बैंक के सभी ग्राहकों का पैसा फंसने से बचा सकती थी लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।

संबंधित खबर : YES BANK संकट- धर्मशाला स्मार्ट सिटी का 169 करोड़ रुपए फंसा

भिमन्यु गुप्ता ने कहा कि यह हालात भी नोटबंदी जैसा ही है जिसमे व्यापारी और नौकरीपेशा लोग बुरी तरह बर्बाद हो गए है। अचानक बैंक ने इतना बड़ा कदम कैसे ले लिया। अकेले कानपुर में यस बैंक में ग्राहकों के 20000 से ज़्यादा खाते है, जिसमे ग्राहकों के लगभग 1200 करोड़ रूपए जमा है।

आगे कहा कि अचानक 1 महीने में कुल 50 हजार रूपए निकालने के आदेश ने हजारों लोगों को बर्बाद कर दिया है। इससे इलाज, रियल इस्टेट, पढाई, वेतन सभी पर भयानक असर पड़ेगा। व्यापार भी बुरी तरह ठप हो चुका है। इस आदेश ने ग्राहकों का होली का त्यौहार भी बेरंग व मातम भरा कर दिया है।

पको बताते चलें कि कानपुर में यस बैंक की चार शाखाएं हैं जो गोविंदनगर, किदवई नगर, सिविल लाइन्स और जाजमऊ में हैं। गोविंद नगर शाखा में चार हजार, किदवई नगर में पांच हजार, सिविल लाइन्स में करीब 6 हजार और जाजमऊ शाखा में पांच हजार के करीब खाताधारक हैं। शहर में कुल 20 हजार खाताधारकों की जान सांसत में अटकी हुई है।

स बैंक को प्राइवेट सेक्टर का चौथा बड़ा बैंक कहा जाता है, जिसमे पचास फीसदी खाते कारपोरेट सेक्टर से जुड़े हैं। बैंक में रकम निकासी की सीमा 50 हजार रुपये निर्धारित होने के बाद कारोबारियों को झटका लगा है। तमाम कारोबारियों के भुगतान रुक गए। होली से पहले कामगारों को वेतन तक नहीं मिला।

संबंधित खबर : YES बैंक के मालिक का सोशल मीडिया पर उड़ रहा मजाक, लोग याद दिला रहे वो दिन

ले ही वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने सभी खाताधारकों की रकम को सुरक्षित होना बताया हो या एसबीआई ने निवेश ही कर दिया हो, पर विपरीत इसके सभी खाताधारक हलकान नजर आ रहे हैं। कहीं न कहीं उन्हें ये डर सता रहा है कि कहीं यस बैंक का संस्थापक राणा कपूर मुम्बई के अपने समुद्र महल से सात समंदर पार करके नीरव मोदी या विजय माल्या न बन जाये।

Next Story

विविध

Share it