Top
अंधविश्वास

अंधविश्वास ने ली 2 माह के बच्चे की जान, शैतानी साया बताकर 6 जगह चिमटे से दागा

Vikash Rana Rana
12 March 2020 3:11 PM GMT
अंधविश्वास ने ली 2 माह के बच्चे की जान, शैतानी साया बताकर 6 जगह चिमटे से दागा

अस्पताल के कर्मचारियों ने एमएलसी के लिए पुलिस चौकी में सूचना दी। लेकिन परिजन किसी तरह की पुलिस कार्रवाई नहीं कराने की बात कहकर मासूम के शव को लेकर चले गए और उसका दाह-संस्कार कर दिया...

जनज्वार। राजस्थान के लोहावट क्षेत्र के फतेहसागर गांव में अंधविश्वास का एक मामला सामने आया है। लोहावट में अंधविश्वास के कारण परिजनों ने बच्चे पर शैतान का साया होने की आंशका को लेकर अपने घर के लाल की जिंदगी को छीन लिया। बच्चे पर शैतान के साया होने की आंशका पर बच्ची के शरीर पर 6 जगह गर्म चिमटे लगाए गए। जिसके कारण बच्चे की तबीयत काफी ज्यादा खराब हो गई। बच्चे को तुरंत पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन हालत नहीं सुधरने के बाद बच्चे ने दम तोड़ दिया।

तेहसागर गांव की 2 महीने के स्वरूप को करीब 15 जिन से निमोनिया की शिकायत थी। तबीयत में सुधार नहीं होने पर तीन दिन पहले उसकी मां परिजनों के साथ बेटे को एक रिश्तेदार भोपे के पास ले गई। भोपे ने उस पर शैतान का साया होने की बात कह कर शैतान को दूर करने के लिए उसने डाम (गर्म चिमटा) लगाने की बात कही।

संबंधित खबर: अंधविश्वास: करंट की चपेट में आया युवक, इलाज की बजाय गोबर में दबाने से हुई मौत

जिसके बाद परिजनों ने अंधविश्वास में आकर शैतान को भगाने के लिए हामी भी भर दी। परिजनों के रिश्तेदार भोपे ने बच्चे की छाती पर 6 जगह गर्म चिमटे लगाए जिसके बाद बच्चा गंभीर रूप में झुलस गया और उसकी तबीयत खराब होना शुरू हो गई। स्वरूप को उसके परिजन बुधवार दोपहर 3:30 बजे उम्मेद अस्पताल लेकर पहुंचे।

हां उसे तुरंत गहन चिकित्सा इकाई में भर्ती कर इलाज करना शुरू कर दिया गया। लगातार हालत बिगड़ने पर शाम 4:30 बजे उसे यूनिट 3 में ट्रांसफर किया गया। बच्चे की जान बचाने के लिए कई जीवनरक्षक दवाएं भी दी गई। लेकिन रात करीब 9:30 बजे मासूम ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। अस्पताल के कर्मचारियों ने एमएलसी के लिए पुलिस चौकी में सूचना दी। लेकिन परिजन किसी तरह की पुलिस कार्रवाई नहीं कराने की बात कहकर मासूम के शव को लेकर चले गए और उसका दाह-संस्कार कर दिया।

संबंधित खबर: अंधविश्वास खत्म करने वाला 10 करोड़ का बजट खत्म करेगी महाराष्ट्र सरकार

मामले पर जनज्वार से बात करते हुए लोहावट थाने के हेड कॉस्टेबल सीताराम ने बताया कि इस संबध में हमें कोई जानकारी नहीं मिली है। घटना पर अभी तक किसी तरह की कोई एफआईआर परिजनों के द्वारा दर्ज नहीं कराई गई है। मामले को लेकर किसी तरह की कोई रिपोर्ट पुलिस में कराई जाती है तो दोषियों पर जल्द कार्रवाई की जाएगी।

Next Story

विविध

Share it