जनज्वार विशेष

जलियांवाला की यादें ताजा कर देता है उत्तराखण्ड का तिलाड़ी कांड

Prema Negi
29 May 2019 5:12 PM GMT
जलियांवाला की यादें ताजा कर देता है उत्तराखण्ड का तिलाड़ी कांड
x

उत्तराखंड के बड़कोट के तिलाड़ी मैदान में अपने अधिकारों के लिए सभा कर रहे आंदोलनकारियों पर 30 मई, 1930 को राजा नरेन्द्र देव की फौज ने चलवाईं थीं गोलियां, जिसमें शहीद हुए थे 200 लोग

मुनीष कुमार, स्वतंत्र पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता

जनज्वार। 30 मई, 1930 भारत के इतिहास का अविस्मरणीय दिन है। इस दिन उत्तराखंड के बड़कोट में स्थित तिलाड़ी के मैदान में अपने अधिकारों के लिए सभा कर रहे आंदोलनकारियों पर राजा नरेन्द्र देव की फौज ने गोलियां चलवाईं। उत्तराखंड के इस जलियांवाला बाग कांड में 200 लोग शहीद हुए थे।

इन शहीदों का कसूर मात्र इतना था कि वह ब्रिटिश हुकूमत के द्वारा लागू किए गये वन अधिनियम 1927 के आने के बाद जनता के जंगलों से लकड़ी, घास व अपनी जरुरत की वस्तुएं लाए जाने व पशु चराने पर लगाए गये प्रतिबंधों के खिलाफ एक सभा कर रहे थे।

अंग्रेजों द्वारा जनता के जंगलों पर अधिकार व हक-हकूक खत्म किए जाने के खिलाफ उत्तराखंड की जंनता के संघर्षों का गौरवशाली इतिहास रहा है। उत्तराखंड के इतिहासकार शेखर पाठक बताते हैं कि 1921 में जनता के सशक्त प्रतिरोध के कारण अंग्रेजी हुकूमत को 3 हजार वर्ग मील को संरक्षित वन की अधिसूचना रद्द कर उन्हें जनता को वापस करने के लिए मजबूर होता पड़ा था।

जंगलों पर अधिकारों के संघर्ष ने जनता के बीच में स्वतंत्रता संग्राम के महत्व को भी स्थापित किया। वन आंदोलनों ने जनता के बीच में राजशाही व ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ जागृति पैदा की।

1927 के वन अधिनियम के आने के बाद टिहरी रियासत का राजा नरेन्द्र शाह ने जनता के जंगलों पर जाने पर पाबन्दियां लगानी शुरु कर दीं। जंगलों की मुनारबंदी करवा दी गयी। जनता के वनों में जाने पर लगे प्रतिबंधों के कारण जंगलों के कच्चे माल से चलने वाले कुटीर उद्योग ठप हो गये। जंगलों से लकड़ी, बांस, रिंगाल और बांगड़ आदि लाने पर प्रतिबंध लगा दिये गये। जंगलों में मवेशी चुगाने पर भी रोक लगा दी गयी। टिहरी रियासत की जनता राजा द्वारा थोपे गये विभीन्न प्रकार के टैक्सों से पहले से ही बेहद दुखी थी।

राजा ने जंगलों की सीमा विस्तार का कार्य शुरु करवाकर किसानों के गाय व पशु चराने के स्थल भी छीन लिए। दुखी किसानों की समस्या का जंगलात के अधिकारियों ने समाधान करने से इंकार कर दिया तथा कहा कि गाय बछियों के लिए सरकार किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं उठाएगी, तुम इन्हें पहाड़ी से नीचे गिरा दो।

इसको लेकर जनता के बीच अंग्रेजी हुकूमत व उसकी दलाल राजशाही के खिलाफ रोष और भी बढ़ गया। जनता ने संगठित होकर अपनी पंचायत का गठन किया। कन्सेरु गांव के दयाराम, नगाण गांव के भून सिंह व हीरा सिंह, बड़कोट के लुदर सिंह व जमन सिंह व दलपति, भन्साड़ी के दलेबु, चक्रगांव के धूम सिंह, खरादी के रामप्रसाद, खुमन्डी गांव के रामप्रसाद नौटियाल आदि के नेतृत्व में क्षेत्र की जनता संगठित होने लगी।

आंदोलन को दबाने के लिए राजा की सेना ने 20 मई, 1930 को 4 किसान नेता दयाराम, रुद्र सिंह, रामप्रसाद व जमन सिंह को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार लोगों को डीएफओ पदम दत्त रतूड़ी के साथ टिहरी भेज दिया गया।

अपने नेताओं की गिरफ्तारी की खबर सुनकर जनता का आक्रोशित होना स्वभाविक था। बड़ी संख्या में लोग अपने गिरफ्तार नेताओं के पास पहंच गये तथा गिरफ्तारी का विरोध करना शुरु कर दिया। डी.एफ.ओ पदमदत्त ने जनता पर फायरिंग कर दी, जिसमें दो किसान शहीद हो गये। डी.एफ.ओ पदमदत्त मौके से भाग गया।

इस घटना ने जनता के बीच आग में घी का काम किया। आक्रोशित लोगों ने एकत्र होकर शहीद किसानों की लाशों के साथ टिहरी रियासत का राजमहल घेर लिया। जनता के आक्रोश के आगे पुलिस ने गिरफ्तार किये चारों किसान नेता रिहा कर दिये।

अत्याचारों से तंग होकर आंदोलन की आगामी रणनीति बनाने हेतु 30 मई, 1930 को तिलाड़ी के मैदान में एक सभा का आयोजन किया गया। अंग्रेजी हुकूमत व राजशाही ने आंदोलन के बर्बर दमन की तैयारी कर ली। राजा के सैनिकों ने सुबह से ही सभा स्थल को तीन तरफ से घेर लिया।

राजा के दीवान चक्रधर जुयाल ने निहत्थे लोगों पर फायरिंग का आदेश दिया। सैनिकों ने मैदान को घेरकर 3 तरफ से गोलियां बरसानी शुरु कर दीं, जिसमें सैकडों लोग मारे गये। जान बचाने के लिए लोग पेड़ों पर चढ़ गये तथा यमुना की तेज धारा में कूद गये। इस दिन यमुना का जल शहीेदों के रक्त से लाल हो गया।

राजा की फौज ने दमन चक्र को आगे बढ़ाते हुए क्षेत्र में घर-घर जाकर तलाशी अभियान शुरू कर दिया। सभा में शामिल जिन्दा बचे लोगों में से 68 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। अभियुक्तों को बाहर से वकील लाकर पैरवी करने की अनुमति तक नहीं दी गयी। सभी अभियुक्तों को एक वर्ष से लेकर आजीवन कारावास की सजाएं सुनाई गयीं। आंदोलनकारियों पर जेल में भी अत्याचार जारी रहे, जिस कारण सजा काटने के दौरान 15 लोगों की जेल में ही मृत्यु हो गयी।

1947 में देश से अंग्रेजों के जाने के बाद भी टिहरी का अलग अस्तित्व बरकरार रहा। जनता के बीच में टिहरी रियासत के भारत में विलय को लेकर आंदोलन तेज हो गये। 1949 में टिहरी रियासत का भारत में विलय कर दिया गया। ‘आजाद’ भारत में अत्याचारी राजा को गिरफ्तार कर जेल में डालने व उसकी सम्पत्ति जब्त करने की जगह उसका मान-मनोवल किया गया, जो कि आज तक जारी है।

‘आजाद’ भारत के शासकों ने भी औपनिवेशक वन अधिनियम, 1927 को जस का तस बरकरार रखा। आज हमारे देश की मोदी सरकार अंग्रेजों के बनाए इस वन कानून 1927 में बदलाव कर, इससे भी ज्यादा दमनकारी कानून, वन अधिनियम, 2019 लाने की तैयारी में है।

इस प्रस्तावित कानून के बन जाने के बाद वन भूमि पर बसे 20 करोड़ वनवासियों व वनों पर निर्भर देश की आधी से भी अधिक आबादी का जीवन संकट में आ जाएगा। तिलाड़ी कांड के बारे में देश की सरकारों द्वारा जनता को बहुत कम बताया गया है। इसका एक बड़ा कारण यह रहा है कि ‘आजाद’ भारत के शासक भी अंगेजों द्वारा बनाए गये लूट के तंत्र को देश के पूंजीपति व धनी वर्ग के हित में बनाए रखना चाहते हैं।

वन अधिनियम 1927 के बारे में जनता को जानकारी तब मिली, जब यह कानून अंग्रेजों द्वारा लागू कर दिया गया था। नये दमनकारी कानून की जानकारी जनता को आज मिल चुकी है। ऐसे में नये दमनकारी वन कानून को अस्तित्व में लाए जाने से पूर्व ही जनता को सशक्त प्रतिरोध कर इसे पारित हाने से रोकना चाहिए।

30 मई, 1930 का तिलाड़ी का ऐतिहासिक संघर्ष हम देशवासियों की गौरवशाली विरासत है। तिलाड़ी के शहीदों को शत्-शत् नमन।

Next Story

विविध

Share it