Top
राजनीति

पत्नी के हत्यारे गनर को बचाने के लिए भाजपा महामंत्री दे रहे परिजनों को एफआईआर वापस नहीं लेने पर जान से मारने की धमकी

Prema Negi
17 Dec 2019 8:38 AM GMT
पत्नी के हत्यारे गनर को बचाने के लिए भाजपा महामंत्री दे रहे परिजनों को एफआईआर वापस नहीं लेने पर जान से मारने की धमकी
x

सीमा के परिजनों ने कहा हमें भाजपा जिला महामंत्री के गुर्गे उनके गनर को बचाने के लिए दे रहे हैं धमकियां कि एफआईआर वापस नहीं ली तो तुमको भी गोली मारकर लगा दिया जायेगा ठिकाने...

जनज्वार। फर्रुखाबाद में 12 दिसंबर को रामगोपाल सिंह ने पुलिस के पास अपनी पत्नी द्वारा खुदकुशी करने का मामला पुलिस में दर्ज कराया था। जब पुलिस घटनास्थल पर पहुंची तो मामला संदिग्ध नजर आने पर रामगोपाल सिंह से ही सख्ती से ही जांच की। शुरू में तो वह कहता रहा कि उसकी पत्नी ने गोली मारकर खुदकुशी की है, मगर बाद में पुलिस के आगे वह टूट गया और उसने स्वीकारा कि उसी ने अपनी पत्नी की हत्या की और हत्या करने के बाद वह अपने दोस्त की शादी में चला गया।उसने पुलिस के सामने कबूल किया कि बीवी ने उसकी पैंट पर प्रेस नहीं की थी, जिस कारण उसने अपनी पत्नी की गोली मारकर हत्या कर दी।

इस मामले में मृतक सीमा के परिजनों ने रामगोपाल सिंह और उसके पिता रघुनंदन सिंह पर एफआईआर दर्ज करवाई और कहा कि दहेज के लिए लंबे समय से उनकी बेटी को प्रताड़ित किया जा रहा था। चूंकि रामगोपाल सिंह भाजपा जिला महामंत्री शैलेंद्र सिंह राठौर का गनर है, इसलिए उन्होंने उसे बचाने के लिए मृतका के मायके वालों को धमकी देनी शुरू कर दी है।

स मामले में अब सीमा के ​परिजनों ने आरोप लगाया है कि उन पर एफआईआर वापस लेने का दबाव बनाया जा रहा है और वापस नहीं लेने की स्थिति में गोली से उड़ा देने की धमकी दी जा रही है।

सीमा के भाई गणेश सोलंकी कहते हैं, भाजपा के जिला महामंत्री शैलेंद्र सिंह राठौर हत्यारे रामगोपाल सिंह और उसके पिता रघुनंदन को बचाने में लगे हुए हैं। रामगोपाल सिंह शैलेंद्र सिंह का गनर है, इसलिए उनके गुर्गे हमें सरेआम धमकी देकर गये हैं कि यह एफआईआर वापस ले लो नहीं तो तुम्हें भी उसी तरह ठिकाने लगा दिया जायेगा, जिस तरह सीमा को लगाया गया है।

ह धमकी सीमा के पिता रामनरेश सिंह सोलंकी और भाई रवि सोलंकी के अलावा चचेरे भाइयों गणेश सोलंकी, अजय, चरणजीत सिंह जादौन और गोविंद सिंह सोलंकी को भी दी गयी है, क्योंकि ये सब लोग एफआईआर करवाने थाने गये थे। गणेश सोलंकी कहते हैं, जब हम लोग सीमा की लाश के पास खड़े थे तो शैलेंद्र सिंह राठौर के पास खड़े लोगों ने हमें धमकाया कि केस वापस नहीं लिया तो गोली मारकर वैसे ही हत्या कर दी जाएगी जैसे बहिन की की थी।

सीमा हत्याकांड को लेकर जब जनज्वार ने भाजपा के जिला महामंत्री शैलेंद्र सिंह राठौर से बात की तो उन्होंने कहा, पहली बात तो ये कि रामगोपाल मेरा गनर नहीं है, भाजपा का बूथ प्रमुख है। मेरे ऊपर जो आरोप लगाए जा रहे हैं, उनसे मैं डरता नहीं हूं, राजनीति करता हूं और आज फिर सब लोगों से मिलने के लिए जाऊंगा। इसके अलावा रामगोपाल ने अपनी पत्नी की हत्या नहीं की है। उसके ऊपर गलत आरोप लगाए जा रहे है। उसकी पत्नी ने खुद सुसाइड किया है।

ब जनज्वार ने शैलेंद्र सिंह राठौर से पूछा कि रामगोपाल ने पुलिस के सामने अपना जुर्म कबूल कर लिया है तो उन्होंने बताया कि पुलिस का क्या है पुलिस के सामने तो कोई भी जुर्म कबूल कर लेगा। किसी के पास कोई सबूत नहीं है कि सीमा की हत्या रामगोपाल ने की है। जहां तक मेरे द्वारा रामगोपाल की मृतक पत्नी के परिजनों को धमकाने का मामला है तो ऐसा कोई सबूत नहीं है जो साबित करता हो कि मैंने उन्हें एफआईआर वापस लेने के लिए धमकाया है। ये कोर्ट और प्रशासन तय करेगा कि सीमा को किसने मारा है। अगर मेरी तरफ से कुछ किया गया है तो मेरे खिलाफ एफआईआऱ कर दीजिए। शैलेंद्र सिंह राठौर ने कहा कि पुलिस ने रामगोपाल के खिलाफ गलत एफआईआर दर्ज की है और उसको गलत अपराध के लिए जेल में डाल दिया गया है।

इसी एफआईआर को वापस लेने के लिए दी जा रही है सीमा के परिजनों को जान से मारने की धमकी

गौरतलब है कि सदर कोतवाली फर्रुखाबाद थाना क्षेत्र के ग्राम सुलखानपुर निवासी रामगोपाल सिंह ने गुरुवार 12 दिसंबर की सुबह शहर कोतवाली पहुंचकर पुलिस को सूचना दी कि उसकी पत्नी सीमा ने तमंचे से गोली मारकर आत्महत्या कर ली है। इंस्पेक्टर देवेंद्र कुमार दुबे ने रामगोपाल को पुलिस जीप से उसके घर ले जाकर मामले की गहराई से छानबीन की, तो पता चला कि रामगोपाल सिंह ने ही अपनी पत्नी की गोली मारी थी।

स मामले में मध्य प्रदेश जिला भिंड थाना महगांव के ग्राम पिपरौली निवासी रामनरेश सिंह जोकि मृतका के पिता हैं, ने रामगोपाल व उसके पिता रघुनंदन के विरुद्ध दहेज हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है। रामनरेश सिंह ने आरोप लगाया कि शादी के बाद दहेज की मांग को लेकर उनकी बेटी को हमेशा प्रताड़ित किया जा रहा था।

हालांकि रामनरेश सिंह ने रामगोपाल की आर्थिक मदद देने की बात भी स्वीकारी। बकौल रामनरेश सिंह 20 दिन पूर्व परिवार में शादी थी। इस शादी में रामगोपाल ने उनकी बेटी सीमा को नहीं भेजा था। 12 दिसंबर को सुबह 7 बजे गांव के ही एक व्यक्ति ने फोन पर हमें सूचना दी कि रामगोपाल ने अपने पिता के साथ मिलकर उनकी बेटी की गोली मारकर हत्या कर दी है।

स मामले में जांच कर रहे कोतवाल देवेंद्र कुमार दुबे कहते हैं, रामगोपाल को बुधवार 11 दिसंबर की शाम को अपने दोस्त की बारात में जाना था। शाम को जब वह घर पहुंचा तो उसकी पैंट प्रेस नहीं थी। इसी बात को लेकर उसका अपनी पत्नी से विवाद हुआ। इसी के बाद उसने देर रात अपनी पत्नी सीमा की गोली मारकर हत्या कर दी और वह खुद गायब हो गया। सुबह घर आया और पुलिस को बताया कि उसकी पत्नी ने आत्महत्या कर ली है।

सने पुलिस में बयान दिया कि वह शाम को बारात में चला गया था और सुबह जब बारात से लौटा तो उसकी पत्नी आत्महत्या कर चुकी थी।

स मामले में मृतक सीमा के परिजनों का कहना है कि बीजेपी के फर्रुखाबाद जिला महामंत्री आरोपियों को बचाने में लगे पड़े हैं। वे पुलिस की जांच में भी अड़ंगा लगा रहे हैं। सीमा के भाई-बहन, मां-बाप को धमकियां दी जा रही हैं कि अगर एफआईआर वापस नहीं ली तो तुम्हारी भी गोली मारकर हत्या कर दी जायेगी।

मृतका सीमा के मामा का लड़का संतोष कहता है, हमारी बहिन की शादी 10 साल पहले रामगोपाल सिंह के साथ हुई थी। उसके दो बच्चे हैं, एक 8 साल का लड़का और 5 साल की लड़की। शादी के बाद से ही सीमा को दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाता रहा है। गरीब बाप बेटी के ससुरालियों की डिमांड पूरी करने में समर्थ नहीं था, जिसकी भरपाई उसके साथ शारीरिक हिंसा करके की जाती। अक्सर उसके साथ मारपीट की जाती थी, जिसकी शिकायत सीमा ने कई बाप अपने मायके में की थी, मगर बाप समाज के रीति-रिवाजों का हवाला देकर अक्सर उसे वापस भेज देते कि तुम्हें समय वही काटना है, फिर हमारे हस्तक्षेप करने से क्या होगा। इसी से उन लोगों की इतनी हिम्मत बढ़ी की बाप की शह पर बेटे ने हमारी बहन की हत्या कर दी।'

Next Story

विविध

Share it