Top
सिक्योरिटी

शी जिनपिंग दूसरी बार चुने गए सीपीसी महासचिव

Janjwar Team
25 Oct 2017 7:52 PM GMT
शी जिनपिंग दूसरी बार चुने गए सीपीसी महासचिव
x

शी का उत्तराधिकारी 1960 के बाद जन्मा नेता ही बन सकता है, क्योंकि चीन में राजनीतिक रिटायरमेंट की उम्र 68 साल है...

बीजिंग से जय प्रकाश पांडे की रिपोर्ट

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) ने आज 25 अक्तूबर को अगले पांच साल के लिए नए नेतृत्व की घोषणा की। शी जिनपिंग को दूसरे कार्यकाल के लिए पार्टी महासचिव और केंद्रीय मिलटेरी कमीशन का चेयरमैन चुना गया है।

सीपीसी की सात सदस्यीय सर्वोच्च समिति पोलित ब्यूरो स्टैंडिंग कमेटी में राष्ट्रपति शी जिनपिंग के अलावा प्रीमियर ली खछीआंग को भी दुबारा जगह मिली है, जबकि पांच नए सदस्यों को इस समिति में चुना गया है। नए सदस्यों में ली चानशु, वांग यांग, वांग हुनिंग, चाओ लची और हान चंग शामिल हैं।

वर्ष 2022 में इन नेताओं में से कोई शी का उत्तराधिकारी बन पाएगा, कहा नहीं जा सकता है। स्टैंडिंग कमेटी में 1957 में पैदा हुए चाओ लची सबसे कम उम्र के हैं। उनको सीपीसी के अनुशासन निरीक्षण केंद्रीय आयोग का सचिव चुना गया है। उनके पास महत्वपूर्ण माने जाने वाले भ्रष्टाचार विरोधी अभियान की कमान भी बनी रहेगी। शी का उत्तराधिकारी 1960 के बाद जन्मा नेता ही बन सकता है। क्योंकि चीन में राजनीतिक रिटायरमेंट की उम्र 68 साल है।

शी ने ग्रेट हॉल में पत्रकारों से पोलित ब्यूरो स्टैंडिंग कमेटी का परिचय कराया। शी ने कहा कि दूसरे कार्यकाल के लिए उन्हें महासचिव चुना जाना उनके काम का अनुमोदन नहीं है, बल्कि यह प्रोत्साहन उन्हें प्रेरणा देगा। उन्होंने विश्वास जताया कि सुधार और खुलेपन के दौरान चीन की कायाकल्प वास्तविकता बन जाएगी।

शी ने 2020 तक सामान्य रूप से समृद्ध समाज बनाने और गरीबी उन्मूलन के लक्ष्य को भी रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि निरंतर और स्वस्थ आर्थिक विकास के लिए प्रयास किये जाएंगे जिसका फायदा चीन और दुनिया को होगा। चीन साझा भविष्य का वैश्विक समुदाय बनाने के लिए दूसरे राष्ट्रों के साथ मिलकर काम करेगा।

सीपीसी की 19वीं कांग्रेस में शी जिनपिंग के नाम और उनके वैचारिक योगदान को पार्टी संविधान में शामिल किया गया है। माओ त्से तुंग और तंग शिआओपिंग के बाद शी को यह सम्मान मिला है। इसके बाद शी और ताकतवर नेता बनने के साथ ही चीन के कम्युनिस्ट इतिहास में उनका कद भी बढ़ गया है।

संबंधित खबरें :

राष्ट्रीय अधिवेशन के बाद और ताकतवर हो गए चीनी राष्ट्रपति

भारत से विवादों को बातचीत से सुलझायेगा चीन : शी जिनपिंग

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का सम्मेलन कल से, भारत भी एजेंडे में

Next Story

विविध

Share it