राजनीति

Abhishek Banerjee attacks BJP : अभिषेक बनर्जी का भाजपा पर बड़ा हमला, बोले - टीएमसी है 'बीजेपी वायरस' का टीका

Janjwar Desk
1 Nov 2021 1:30 AM GMT
Abhishek Banerjee attacks BJP : अभिषेक बनर्जी का भाजपा पर बड़ा हमला, बोले - टीएमसी है बीजेपी वायरस का टीका
x

(टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी ने बीजेपी को वायरस बताते हुए बड़ा हमला किया है)

Abhishek Banerjee attacks BJP : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे और तृणमूल कांग्रेस के महासचिव अभिषेक बनर्जी ने बीजेपी को वायरस बताया है।

Abhishek Banerjee attacks BJP : पश्चिम बंगाल (West Bengal News) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) के भतीजे और तृणमूल कांग्रेस के महासचिव अभिषेक बनर्जी (Abhishek Banerjee) ने बीजेपी को वायरस बताया है।

त्रिपुरा (Tripura news) में एक सभा को संबोधित करते हुए अभिषेक बनर्जी ने कहा कि टीएमसी 'बीजेपी वायरस' के लिए टीका है और शहरी निकाय चुनाव इसकी पहली खुराक होगी जबकि 2023 के विधानसभा चुनाव बूस्टर शॉट होंगे।

ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस (TMC) के महासचिव अभिषेक बनर्जी ने रविवार, 31 अक्टूबर 2021 को अगरतला (Agartalla) में दावा किया कि त्रिपुरा में 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव में हमारी पार्टी (तृणमूल कांग्रेस) जीत हासिल करेगी और सरकार बनाएगी। बनर्जी ने वादा किया कि तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की सरकार बनने के बाद राज्य में भाजपा का 'कुशासन' खत्म किया जाएगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीजेपी पर निशाना साधते हुए अभिषेक बनर्जी ने कहा कि उनकी पार्टी 25 नवंबर को होने वाले त्रिपुरा नगर निकायों (Tripura Nagar nikay elections) में सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी और लोगों से भाजपा के 'कुशासन' के खिलाफ मतदान करने की अपील की।

अभिषेक बनर्जी की अगरतला में पहली जनसभा में बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी समिति के सदस्य राजीव बनर्जी (Rajiv Banerjee) और त्रिपुरा के भाजपा विधायक आशीष दास (Ashish Das) टीएमसी में शामिल हुए।

त्रिपुरा की सत्ताधारी पार्टी बीजेपी पर गुंडागर्दी और भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए टीएमसी नेता ने कहा कि पार्टी सुप्रीमो ममता बनर्जी टेस्ट में पूरे भारत में बीजेपी के खिलाफ एकमात्र सफल दावेदार साबित हुई हैं।

अभिषेक ने त्रिपुरा के लोगों से चुपचाप टीएमसी को वोट देने के लिए कहा। रैली के दौरान तृणमूल में शामिल हुए राजीव बनर्जी और आशीष दास को टीएमसी के झंडे दिए गए।

अभिषेक बनर्जी ने भाजपा को निशाने पर लेते हुए आरोप लगाया कि जब से पार्टी त्रिपुरा की सत्ता में आई है यहां कानून-व्यवस्था तबाह हो गई है और विकास ठप पड़ गया है। उन्होंने भाजपा के सभी चुनावी वादों को 'जुमला' करार दिया और दावा किया कि साढ़े तीन साल से भी अधिक समय तक सत्ता में रहने के बावजूद भगवा दल अपने वादों को पूरा नहीं कर पाया है।

बता दें राजीव बनर्जी ममता बनर्जी की पिछली सरकार में कैबिनेट मंत्री थे, इस साल की शुरुआत में विधानसभा चुनाव से पहले वो बीजेपी में शामिल हो गए।

बनर्जी ने कहा कि भाजपा को सत्ता से हटाने के लिए हम 2023 में होने वाले विधानसभा चुनावों में भी सभी सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेंगे, अन्यथा त्रिपुरा में भी अफगानिस्तान जैसे हालात हो जाएंगे।

बीजेपी पर निशाना साधते हुए अभिषेक बनर्जी ने दावा किया कि अगर हम हरी झंडे देते हैं तो कम से कम 15 बीजेपी विधायक हमारी पार्टी में शामिल होंगे, लेकिन हम चुनी हुई सरकारों को गिराना नहीं चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि त्रिपुरा में बीजेपी के नेतृत्व वाली सरकार की एक्सपायरी डेट 14 महीने है। फरवरी 2023 के बाद टीएमसी यहां एक लोकतांत्रिक सरकार बनाएगी।

अभिषेक बनर्जी ने कहा कि बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी की प्रमुख ममता बनर्जी दिसंबर में त्रिपुरा का दौरा करेंगी। इस दौरान वह स्वामी विवेकानंद स्टेडियम में एक विशाल रैली को संबोधित करेंगी।

टीएमसी का त्रिपुरा को लेकर ऐसा रुख इसका संकेत है कि पार्टी का बंगाल में विशाल जीत से विश्वास बढ़ा है कि अन्य राज्यों में भी वह ऐसा ही प्रदर्शन कर सकेगी।

जनसभा को संबोधित करते हुए अभिषेक बनर्जी ने कहा कि उनकी पार्टी ने बंगाल में बीजेपी को शर्मनाक हार दी है और अब त्रिपुरा में भी बीजेपी को चुनावों में हराएंगे।

उन्होंने कहा, "टीएमसी कांग्रेस या वामदलों की तरह नहीं है। हम एक-एक इंच और एक-एक डोर पर लड़ेंगे। हम त्रिपुरा में लेफ्ट और राइट दोनों को खत्म कर देंगे।"

Next Story

विविध