राजनीति

Agnipath Scheme Protest : कृषि कानूनों की तरह 'माफीवीर' बनकर PM को माननी होगी युवाओं की बात, राहुल गांधी का अग्निपथ योजना को लेकर हमला

Janjwar Desk
18 Jun 2022 6:30 AM GMT
Agnipath Scheme Protest : कृषि कानूनों की तरह माफीवीर बनकर PM को माननी होगी युवाओं की बात, राहुल गांधी का अग्निपथ योजना को लेकर हमला
x

Agnipath Scheme Protest : कृषि कानूनों की तरह 'माफीवीर' बनकर PM को माननी होगी युवाओं की बात, राहुल गांधी का अग्निपथ योजना को लेकर हमला

Agnipath Scheme Protest : राहुल गांधी ने कहा कि जिस तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विवादित कृषि कानूनों (Farmer Law) को वापस लेना पड़ा था, ठीक उसी तरह युवाओं की मांग को स्वीकार करना होगा और अग्निपथ रक्षा भर्ती योजना (Agnipath Scheme) को वापस लेना पड़ेगा...

Agnipath Scheme Protest : देश भर में सेना में 4 साल के लिए भर्ती वाली अग्निपथ स्कीम का विरोध (Agnipath Scheme Protest) हो रहा है। इसको लेकर लगातार विपक्ष भी केंद्र सरकार पर हमलावर है। बता दें अब इस कड़ी में कांग्रेस (Congress) नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) पर अग्निपथ स्कीम को लेकर हमला बोला है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज शनिवार को कहा कि जिस तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विवादित कृषि कानूनों (Three Farmer Law) को वापस लेना पड़ा था, ठीक उसी तरह युवाओं की मांग को स्वीकार करना होगा और अग्निपथ रक्षा भर्ती योजना (Agnipath Scheme Protest) को वापस लेना पड़ेगा।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर बोला हमला

बात दें कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर अग्निपथ योजना का विरोध किया और साथ ही केंद्र सरकार पर हमला बोला। बता दें कि राहुल गांधी ने लिखा कि '8 सालों से लगातार भाजपा सरकार ने 'जय जवान, जय किसान' के मूल्यों का अपमान किया है। मैंने पहले भी कहा था कि प्रधानमंत्री जी को काले कृषि कानून वापस लेने पड़ेंगे। ठीक उसी तरह उन्हें 'माफीवीर' बनकर देश के युवाओं की बात माननी पड़ेगी और 'अग्निपथ' को वापस लेना ही पड़ेगा।'

अग्निपथ योजना के विरोध में हिंसा जारी

बात दें कि अग्निपथ' योजना के विरोध के बीच बीते शुक्रवार को कुछ राज्यों में राजमार्ग और रेलवे स्टेशन में हिंसा देखी गई। तेलंगाना के सिकंदराबाद में पुलिस की गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी, जबकि कुछ शहरों में ट्रेन में आग लगाए जाने और निजी एवं सार्वजनिक वाहनों में तोड़फोड़ किए जाने की घटनाएं सामने आई थीं। इस योजना के विरोध में आज भी हिंसा जारी है। उत्तर प्रदेश के जौनपुर में भी उग्र युवाओं ने हिंसक प्रदर्शन करते हुए बस को निशाना बनाया और तोड़फोड़ करते हुए उसमें आग लगा दी।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू—ब—रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध