राजनीति

असम चुनाव: छोटी पार्टियां बीपीएफ, यूपीपीएल और एजेपी निभा सकती हैं किंग मेकर की भूमिका

Janjwar Desk
19 March 2021 10:34 AM GMT
असम चुनाव: छोटी पार्टियां बीपीएफ, यूपीपीएल और एजेपी निभा सकती हैं किंग मेकर की भूमिका
x
पिछले साल दिसंबर में बीटीसी के चुनावों में 40 निर्वाचित सीटों में से यूपीपीएल ने 12, बीजेपी ने नौ, जीएसपी ने एक, कांग्रेस ने एक और बीपीएफ ने 17 सीटें जीती थीं।

जनज्वार ब्यूरो/गुवाहाटी। असम विधानसभा चुनाव में कुछ छोटी पार्टियां किंग मेकर की भूमिका निभा सकती हैं। इन क्षेत्रीय दलों का अंचल विशेष में जनाधार है और बड़े दलों के साथ बनाए गए गठबंधनों में उनकी बड़ी भूमिका हो सकती है। इस चुनावी समर में कुछ महत्वपूर्ण क्षेत्रीय पार्टियां हैं: बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (बीपीएफ), यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल (यूपीपीएल), असम जातीय परिषद (एजेपी), राइजर दल (आरडी) और आंचलिक गण मोर्चा (एजीएम)। राज्य में त्रिकोणीय मुकाबले की संभावना के साथ इन दलों ने भाजपा के नेतृत्व वाले गठबंधन, कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन और एजेपी-आरडी के तीसरे गठबंधन के साथ समझौता किया है।

यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल (यूपीपीएल) राज्य के बोडोलैंड क्षेत्र में एक क्षेत्रीय पार्टी, है जो पिछले साल के अंत में चर्चा में आई थी, जब उसने बोडोलैंड प्रादेशिक परिषद (बीटीसी) में सत्तारूढ़ गठबंधन बनाने के लिए भाजपा के साथ हाथ मिलाया था। पार्टी का नेतृत्व ऑल बोडो स्टूडेंट्स यूनियन के पूर्व अध्यक्ष प्रमोद बोरो कर रहे हैं। वह विभिन्न बोडो समूहों के साथ केंद्र द्वारा हस्ताक्षरित शांति और विकास समझौते के हस्ताक्षरकर्ताओं में से एक थे। यूपीपीएल भाजपा के साथ गठबंधन में आठ सीटों पर चुनाव लड़ेगी और तीन सीटों पर भाजपा के खिलाफ दोस्ताना मुकाबला करेगी।

बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (बीपीएफ) बोड़ोलैंड क्षेत्र में एक प्रभावशाली पार्टी है जिसका नेतृत्व हाग्रामा मोहिलरी कर रहे हैं। यह पार्टी पहले भाजपा के साथ गठबंधन में थी और निवर्तमान सरकार में इसके तीन मंत्री थे। उन्होंने हाल ही में कांग्रेस के नेतृत्व वाले महागठबंधन के साथ हाथ मिलाया है। बीपीएफ निवर्तमान विधानसभा में 12 सीटें रखती है।


पिछले साल दिसंबर में बीटीसी के चुनावों में 40 निर्वाचित सीटों में से यूपीपीएल ने 12, बीजेपी ने नौ, जीएसपी ने एक, कांग्रेस ने एक और बीपीएफ ने 17 सीटें जीती थीं। बीपीएफ के एक प्रमुख नेता और राज्यसभा सदस्य बिस्वजीत दैमारी ने पिछले साल भाजपा में शामिल होने के लिए इस्तीफा दे दिया था और इस बार भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं।

भाजपा ने बीटीसी पर शासन करने के लिए बीपीएफ के साथ गठबंधन नहीं किया, बल्कि यूपीपीएल के साथ हाथ मिलाया। आंचलिक गण मोर्चा (एजीएम) अनुभवी पत्रकार और राज्यसभा सांसद अजीत कुमार भुइयां द्वारा बनाई गई एक नई पार्टी है। यह पार्टी गठबंधन की दो सीटों से चुनाव लड़ रही है।

असम में सीएए विरोधी आंदोलन ने पिछले साल के अंत में दो नए क्षेत्रीय दलों असम जातीय परिषद (एजेपी) और राइजर दल (आरडी) को जन्म दिया। एजेपी के पीछे असम के दो सबसे प्रभावशाली युवा संगठनों, ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (आसू) और असम जातीयतावादी युवा छात्र परिषद (एजेवाईसीपी) का समर्थन है। पार्टी का नेतृत्व लुरिनज्योति गोगोई कर रहे हैं, जो आसू के पूर्व महासचिव हैं।

किसानों के नेता अखिल गोगोई, जो एक साल से अधिक समय से जेल में हैं, और जेल से चुनाव लड़ेंगे, कृषक मुक्ति संग्राम समिति (केएमएसएस) का नेतृत्व करते हैं। राइजर दल पार्टी का गठन पिछले साल केएमएसएस और 70 अन्य संगठनों द्वारा किया गया था जो जातीय समुदायों का प्रतिनिधित्व करते थे। आसू, एजेवाईसीपी और केएमएसएस सभी सीएए विरोधी आंदोलन में एक साथ थे। कम से कम नौ सीटों पर ये दोनों पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ मुकाबले में हैं।

Next Story

विविध

Share it