Top
राजनीति

असम चुनाव: बिखरी हुई कांग्रेस को गठबंधन बनाने के बाद मिला नया जीवन

Janjwar Desk
23 March 2021 3:30 AM GMT
असम चुनाव: बिखरी हुई कांग्रेस को गठबंधन बनाने के बाद मिला नया जीवन
x
गौरव गोगोई का कहना है कि असम में हमारा अभियान सबसे एकजुट और समन्वित अभियानों में से एक है, जो मैंने देखा है। इस बार हमारे महागठबंधन की सरकार बनेगी। उसके बाद हमारे कांग्रेस अध्यक्ष ही तय करेंगे कि सीएम कौन होगा।

जनज्वार ब्यूरो, गुवाहाटी। चुनावों से पहले, असम में बिखरी हुई कांग्रेस खुद को शक्तिशाली बनाने में सफल हुई है। उसने अंदरूनी कलह पर काबू पा लिया है और महागठबंधन बनाकर सत्ताधारी भाजपा को चुनौती दे रही है। दिग्गज नेता तरुण गोगोई की मृत्यु के बाद कांग्रेस अपना पहला चुनाव लड़ रही है।

कांग्रेस के चुनावी अभियान के चेहरे के रूप में उभरने वाले चार नेताओं में गोगोई के पुत्र गौरव, कलियाबर के सांसद हैं; प्रद्योत बोरदोलोई, नगांव के सांसद हैं; रिपुन बोरा, राज्य कांग्रेस प्रमुख और राज्यसभा सांसद हैं जो गोहपुर से चुनाव लड़ रहे हैं; और देवव्रत सैकिया, पूर्व सीएम हितेश्वर सैकिया के बेटे और नाज़िरा के एक विधायक हैं। कांग्रेस ने भाजपा की तरह अपने मुख्यमंत्री उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है।

गौरव गोगोई का कहना है- असम में हमारा अभियान सबसे एकजुट और समन्वित अभियानों में से एक है, जो मैंने देखा है। इस बार हमारे महागठबंधन की सरकार बनेगी। उसके बाद हमारे कांग्रेस अध्यक्ष ही तय करेंगे कि सीएम कौन होगा।

बोरदोलोई ने कहा कि वे राज्य के कांग्रेसी में एकता कायम करने की दिशा में काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा-इससे हमें मदद मिली है।

पिछले साल के अंत में तरुण गोगोई की मृत्यु के बाद पार्टी ने गुटबाजी की आशंका जताई थी। बोरा के नेतृत्व के खिलाफ शिकायतें थीं, जब क्षेत्रीय दलों से कांग्रेस गठबंधन की संभावना तलाश कर रही थी। उसके बाद एआईसीसी महासचिव जितेंद्र सिंह और छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल जैसे वरिष्ठ नेताओं ने संगठनात्मक ढांचे को मजबूत करने में मदद की है।

निवर्तमान विधानसभा में 19 सीटें रखने वाली कांग्रेस ने एआईयूडीएफ (14 सीटें) और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (12 सीटें) के साथ ही अन्य वाम और क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन किया है।

गोगोई ने कहा कि वे एआईयूडीएफ को लेकर भाजपा के भय को गंभीरता से नहीं लेते हैं। ध्रुवीकरण वास्तविक मुद्दों से दूर भागने का भाजपा का सामान्य तरीका है।

गोगोई ने कहा कि उनके पिता ने राज्यसभा चुनाव के दौरान पिछले साल की शुरुआत में एआईयूडीएफ और अन्य समान विचारधारा वाले दलों के साथ गठबंधन के लिए जोर दिया था। उन्होंने कहा--जब हमने आधिकारिक तौर पर जनवरी में गठबंधन की घोषणा की, तो यह पहले से ही तय हो चुका था। असम में लोग चाहते हैं कि सभी पक्ष सीएए के विरोध में एकजुट हों।

बोरदोलोई ने कहा कि भाजपा सांप्रदायिकता का इस्तेमाल करेगी क्योंकि उसके पास कहने के लिए और कुछ नहीं है।

कांग्रेस ने सत्ता में आने पर असम के लिए पांच गारंटी की घोषणा की है - सीएए को निरस्त करना, पांच लाख सरकारी नौकरी, चाय श्रमिकों के वेतन को बढ़ाकर 365 रुपये करना, प्रति घर 200 यूनिट तक मुफ्त बिजली और गृहणियों को 2,000 रुपये मासिक आय सहायता।

इस महीने की शुरुआत में प्रियंका गांधी वाड्रा ने असम में चाय बागानों का दौरा किया। पिछड़ी चाय जनजातियों के लोग - जिसमें राज्य की आबादी का 17% शामिल है - लगभग 40 सीटों पर प्रभाव रखते हैं।

बोरदोलोई ने कहा कि कांग्रेस की चुनावी रणनीति भाजपा से अलग है। भाजपा बहुत पैसा खर्च कर रही है, प्रशासन उनके साथ है। लेकिन कांग्रेस जमीनी स्तर पर ध्यान केंद्रित कर रही है।

यह पूछे जाने पर कि वह अपने पिता के निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव क्यों नहीं लड़ रहे हैं, गोगोई ने कहा--यह मेरे पिता का निर्णय था। जब वे अस्पताल में थे, तो उन्होंने मुझसे कहा कि टिकट परिवार के बाहर किसी को दिया जाना चाहिए।

Next Story

विविध

Share it