राजनीति

CWC Meeting : सोनिया गांधी बोलीं- लखीमपुर खीरी की घटना ने उजागर की भाजपाई मानसिकता

Janjwar Desk
16 Oct 2021 6:59 AM GMT
CWC Meeting : सोनिया गांधी बोलीं- लखीमपुर खीरी की घटना ने उजागर की भाजपाई मानसिकता
x

(कांग्रेस की वर्किंग कमिटी की बैठक)

CWC Meeting : सोनिया गांधी ने कहा कि हाल ही में लखीमपुर खीरी की भयावह घटना ने भाजपाई मानसिकता को उजागर किया है कि वो किसान आंदोलन को कैसे देखती है।

CWC Meeting। कांग्रेस के मुख्यालय पर पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) के नेतृत्व में वर्किंग कमिटी की बैठक जारी है। इस दौरान सोनिया गांधी ने कहा कि हाल ही में लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri Violence) की भयावह घटना ने भाजपाई मानसिकता को उजागर किया है कि वो किसान आंदोलन (Farmers Movement) को कैसे देखती है, किसानों द्वारा अपने जीवन और आजीविका की रक्षा के लिए इस दृढ़ संघर्ष से कैसे निपटती है।

कांग्रेस अध्यक्ष ने आगे कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के न केवल सामरिक और आर्थिक उद्देश्य (Strategic And Economic Goals) रहे हैं बल्कि इसके सामाजिक लक्ष्य भी हैं। लेकिन ये सब मोदी सरकार (Modi Govt) के बेचो, बेचो, बेचो के सिंगल-पॉइंट एजेंडे के चलते खतरे में है।

कांग्रेस वर्किंग कमिटी (Congress Working Committie) की बैठक में सोनिया गांधी ने जी-23 नेताओं को साफ संदेश दिया है कि वे पार्टी की फुल टाइम प्रेसिडेंट हैं। बता दें कि जी-23 से आशय कांग्रेस के उन 23 नेताओं से है जिन्होंने पिछले साल सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर कांग्रेस में बड़े बदलाव और फुल टाइम प्रेसिडेंट (Congress President) की जरूरत बताई थी। सोनिया गांधी ने बिना नाम लिए पार्टी के नेताओं को नसीहत भी दी है कि वे साफगोई के समर्थक हैं लेकिन उनसे मीडिया के जरिए बात न करें।

सोनिया गांधी ने कहा कि संगठन चुनावों का शेड्यूल तैयार है और वेणुगोपाल जी (KC Venugopal) इसकी पूरी प्रक्रिया के बारे में जानकारी देंगे। गांधी ने कहा कि पूरा संगठन चाहता है कि कांग्रेस फिर से खड़ी हो लेकिन इसके लिए एकता और पार्टी हितों को सबसे ऊपर रखना जरूरी है। इससे भी ज्यादा जरूरत खुद पर काबू रखने और अनुशासन की है।

सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने कहा कि पार्टी के अंदर विशेष तौर पर युवाओं की भागीदारी बढ़ी है। चाहे वह किसानों का मुद्दा हो, महामारी के दौरान रात पहुंचाना हो या फिर युवाओं व महिलाओं का मुद्दा हो। लखीमपुर हिंसा पर उन्होंने कहा कि यह घटना भाजपा (BJP) की मानसिकता को दर्शाता है।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सहकारी संघवाद केवल एक नारा बनकर रह गया है और केंद्र गैर-भाजपाई शासित राज्यों को नुकसान में रखने का कोई मौका नहीं छोड़ती है। सोनिया गांधी ने आगे कहा कि हाल ही के दिनों में, जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में हत्याओं के मामलों में अचानक उछाल आया है। अल्पसंख्यकों (Minorities) को स्पष्ट रूप से निशाना बनाया गया है। इसकी कड़ी से कड़ी निंदा की जानी चाहिए।

बता दें कि पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव (Assembly Election) नजदीक हैं ऐसे में उससे पहले कांग्रेस कार्यसमिति (Congress Working Committie) की यह बैठक जारी है। बैठक में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi), सोनिया गांधी (Sonia Gandhi), अशोक गहलोत (Ashok Gehlot), आनंद शर्मा (Anand Sharma) समेत पार्टी के 52 वरिष्ठ नेता मौजूद हैं।

Next Story

विविध