Top
राजनीति

बंगाल में चुनाव परिणाम आने के बाद सुलग उठी हिंसा की आग, BJP-TMC एक दूसरे को ठहरा रहे जिम्मेदार

Janjwar Desk
5 May 2021 3:17 AM GMT
बंगाल में चुनाव परिणाम आने के बाद सुलग उठी हिंसा की आग, BJP-TMC एक दूसरे को ठहरा रहे जिम्मेदार
x
ममता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, परिणामों की घोषणा के बाद भी बीजेपी ने कुछ इलाकों में हमारे समर्थकों पर हमला किया, लेकिन हम अपने लोगों से उकसावे में नहीं आने और पुलिस से शिकायत करने का अनुरोध करते हैं...

दिनकर कुमार की रिपोर्ट

जनज्वार। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के नतीजों के सामने आते ही राज्य के विभिन्न हिस्सों से बड़े पैमाने पर हिंसा की ख़बरें सामने आने लगी हैं। भाजपा का आरोप है कि चुनाव में अप्रत्याशित जीत के बाद टीएमसी के समर्थकों ने जगह-जगह पार्टी कार्यकर्ताओं पर हमले शुरू कर दिए हैं। दूसरी ओर, टीएमसी ने इसे भाजपा की अंतर्कलह का नतीजा बताया है।

पश्चिम बंगाल में चुनावी नतीजे आने के बाद से जारी राजनीतिक हिंसा के बीच भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष जेपी नड्डा बंगाल दौरे पर पहुंचे हैं। यहां उन्होंने पीड़ित परिवारों से मुलाकात की। उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बंगाल की स्थिति को लेकर गवर्नर जगदीप धनखड़ से बात की। गवर्नर ने बताया कि पीएम मोदी ने कॉल करके बंगाल में हिंसा को लेकर चिंता जाहिर की है। उधर ममता बनर्जी ने भी हिंसा को लेकर प्रदेश के आला अधिकारियों के साथ मीटिंग बुलाई है।

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा बंगाल में हिंसा के पीड़ित बीजेपी कार्यकर्ता के दक्षिणी 24-परगना आवास पर गए और उनके परिजन से मुलाकात की। नड्डा ने कहा, 'चुनाव के नतीजे आने के बाद टीएमसी के गुंडे बीजेपी कार्यकर्ता हरन अधिकारी के घर गए और तोड़फोड़ की। महिलाओं और बच्चों को धमकाया, उन पर हमला किया। अधिकारी की पत्नी के दांत तोड़ दिए। इसके बाद उन्होंने अधिकारी को खींचकर घर से बाहर निकाला और उन्हें बुरी तरह पीटा। उनकी मौत हो गई।'

राष्ट्रीय महिला आयोग ने पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम में कुछ महिलाओं की कथित तौर पर पिटाई की घटना पर चिंता जताई है। मंगलवार 4 मई को आयोग ने राज्य पुलिस से कहा कि इस मामले में तत्काल कार्रवाई करते हुए दोषियों को गिरफ्तार किया जाए और समयबद्ध तरीके से जांच की जाए। आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा के नेतृत्व में एक टीम जल्द ही पश्चिम बंगाल का दौरा कर मामले की जांच करेगी।

महिला आयोग ने कहा कि ट्विटर पर किए गए कई पोस्ट से यह पता चलता है कि नंदीग्राम में चुनाव के बाद कुछ गुंडों ने महिलाओं की पिटाई की। आयोग इस घटना को लेकर चिंतित है और इसका गंभीरता से संज्ञान लिया है क्योंकि इससे राज्य में महिला की सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े होते हैं।

पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद हिंसा को लेकर ममता बनर्जी की चौतरफा आलोचना हो रही है। संघी गिरोह अपनी पराजय से बौखलाकर सोशल मीडिया पर सक्रिय हो गया है। इस बीच बनर्जी ने प्रदेश के तमाम बड़े अधिकारियों के साथ मीटिंग बुलाई है। जानकारी के मुताबिक, इस मीटिंग में मुख्य सचिव, गृह सचिव, डीजीपी और कोलकाता के पुलिस कमिश्नर शामिल होंगे।

कोलकाता पहुंचने के बाद जेपी नड्डा ने कहा, 'पश्चिम बंगाल के चुनाव के नतीजों के बाद जो घटनाएं देखने और सुनने को मिली हैं वो हमें हतप्रभ करती हैं, चिंता में डालती हैं। ऐसी घटनाएं भारत के विभाजन के समय मैंने सुनी थीं लेकिन आजाद भारत में चुनाव के नतीजों के बाद इतनी असहिष्णुता हमने आज तक नहीं देखी।'

जेपी नड्डा ने आगे कहा, 'हम इस वैचारिक लड़ाई और टीएमसी की असहिष्णुता से भरी हरकतों से लड़ने के लिए कमिटेड हैं। हम लोकतांत्रिक तरीके से लड़ने के लिए तैयार हैं। मैं अब दक्षिण 24 परगना जाऊंगा और उन कार्यकर्ताओं के परिवारों से मिलूंगा, जिनका जीवन खत्म कर दिया गया।'

उधर, बंगाल में चुनाव के बाद जारी हिंसा को लेकर भाजपा नेता और वरिष्ठ वकील गौरव भाटिया ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। गौरव भाटिया ने बंगाल हिंसा की सीबीआई से जांच कराए जाने की मांग की।

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद बड़े पैमाने पर हिंसा देखने को मिली। बीजेपी और टीएमसी वर्करों के बीच कथित तौर पर झड़प के दौरान कई लोगों की मौत भी खबर है। सोशल मीडिया पर मारपीट, आगजनी और दुकानों को लूटे जाने के वीडियो वायरल हो रहे हैं जो बंगाल के बताए जा रहे हैं।

भाजपा का दावा है कि उसके 6 कार्यकर्ता मारे गए, वहीं जबकि कैलाश विजयवर्गीय के अनुसार, 9 से अधिक वर्कर की हत्या हुई है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से रिपोर्ट तलब की है।भाजपा ने बंगाल में 24 अलग-अलग घटनाओं की लिस्ट जारी की जिसमें उसके कार्यकर्ताओं पर हमला किया गया।

जिन कार्यकर्ताओं की हत्या हुईं भाजपा ने उनके नाम भी जारी किए। इनमें शोवा रानी मोंडल (जगद्दल, उत्तर 24 परगना), उत्तम घोष (रानाघाट, नादिया), अभिजीत सरकार (बेलियाघाट, कोलकाता), होरोम अधिकारी (सोनारपुर दक्षिण, साउथ 24 परगना) मोमिक मोइत्रा (सीतलकूची, कूच बिहार) और गौरव सरकार (बोलपुर, बीरभूम) के नाम शामिल हैं।

भाजपा ने पत्रकारों के साथ एक वीडियो साझा किया है जिसमें नंदीग्राम में पार्टी दफ्तर में हुई तोड़फोड़ को दिखाया गया है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इस सीट पर भाजपा के सुवेंदु अधिकारी से चुनाव हार गई थीं। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल बलूनी ने कहा कि मारे जाने से पहले एक पार्टी कार्यकर्ता फेसबुक पर दो बार लाइव था और उसने कहा कि हमलावरों ने उसके जानवरों और बच्चों को भी नहीं छोड़ा। उन्होंने कई घायल लोगों की तस्वीरें भी साझा कीं।

एक वीडियो में 'हॉन्ग-कॉन्ग फैशन' नामक दुकान से युवक कपड़े लूटकर भागते हुए दिखे। उनमें से कुछ के चेहरों पर हरा रंग लगा था और संभवत: वीडियो बना रहे व्यक्ति की आवाज सुनाई दे रही है जो कहता है, 'यही होना चाहिए था…हम तो मिजाज बना रहे थे।'

एक अन्य वीडियो में बुर्का पहने महिलाओं का एक समूह दुकान के बाहर खड़ा है और गुस्से में चिल्लाते हुए पूछ रहा है, 'यह ममता राज है कि गुंडों का राज है?' उनमें से एक ने कहा कि उसका भाई 'हांग कांग फैशन' चलाता है और बीजेपी के लिए काम करता है।

राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने प्रदेश के गृह सचिव, पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) और कोलकाता के पुलिस आयुक्त को तलब कर उन्हें शांति बहाल करने के निर्देश दिए। धनखड़ ने गृह सचिव एक के द्विवेदी से मुलाकात के बाद ट्वीट किया, 'राज्य में चुनाव के बाद हिंसा की बढ़ती घटनाओं के मद्देनजर मैंने एसीएस गृह को तलब किया था और उन्हें चुनाव बाद हुई राज्य में हुई हिंसा व तोड़फोड़ और उठाए गए कदमों पर रिपोर्ट देने को कहा गया है।'

इस बीच ममता बनर्जी ने समर्थकों से शांति बरकरार रखने और उकसावे के झांसे में नहीं आने की अपील की है। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्रीय बलों ने चुनाव के दौरान तृणमूल समर्थकों के साथ कई ज्यादतियां कीं। ममता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, 'परिणामों की घोषणा के बाद भी बीजेपी ने कुछ इलाकों में हमारे समर्थकों पर हमला किया, लेकिन हम अपने लोगों से उकसावे में नहीं आने और पुलिस से शिकायत करने का अनुरोध करते हैं।'

Next Story
Share it