राजनीति

कैबिनेट विस्तार से पहले निशंक की छुट्टी, उत्तराखंड सांसद अजय भट्ट को बनाया जायेगा कैबिनेट मंत्री

Janjwar Desk
7 July 2021 8:31 AM GMT
कैबिनेट विस्तार से पहले निशंक की छुट्टी, उत्तराखंड सांसद अजय भट्ट को बनाया जायेगा कैबिनेट मंत्री
x

(कैबिनेट विस्तार से पहले रमेश पोखरियाल निशंक का इस्तीफा)

कैबिनेट विस्तार से पहले कई मंत्रियों की छुट्टी हो रही है, अब केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है, उनके इस्तीफे के बाद उत्तराखंड के नैनीताल-उधमसिंहनगर से सांसद अजय भट्ट के केंद्रीय कैबिनेट में शामिल होने की अटकलें तेज हो गयी है

दिल्ली जनज्वार। मोदी सरकार 2.0 के कैबिनेट विस्तार (Modi Cabinet Expansion) का काउंटडाउन शुरू हो गया है। बुधवार 7 जुलाई की शाम कैबिनेट में होनेवाले बड़े फेर-बदल से पहले मंत्रियों के इस्तीफे की भी खबर सामने आ रही है। मिली जानकारी के मुताबिक केंद्रीय शिक्षा मंत्री (Education Minister) रमेश पोखरियाल निशंक (Ramesh Pokhriyal) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। खबर है कि निशंक ने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए इस्तीफा देने की बात कही है।

अब निशंक के इस्तीफे के बाद उत्तराखंड के नैनीताल-उधमसिंहनगर से सांसद अजय भट्ट (Ajay Bhatt) के केंद्रीय कैबिनेट में शामिल होने की अटकलें तेज हो गयी है। सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक, अब उनकी जगह अजय भट्ट को मानव संसाधन विकास मंत्री बनाया जा सकता है।

उत्तराखंड से दो नामों पर चर्चा

बता दें कि कैबिनेट विस्तार को लेकर उत्तराखंड के सांसदों की बेचैनी भी बढ़ी हुई है। सूत्रों की मानें तो उत्तराखंड से दो नामों पर चर्चा है। नैनीताल-उधमसिंहनगर सांसद अजय भट्ट और पौड़ी सांसद तीरथ सिंह रावत को कैबिनेट में जगह मिल सकती है। हालांकि, दो में से एक सांसद को ही मोदी कैबिनेट में जगह मिलनी मुमकिन है।

उत्तराखंड से भाजपा के कद्दावर नेता हैं अजय भट्ट

उत्तराखंड के नैनीताल से सांसद अजय भट्ट भारतीय जनता पार्टी के कद्दावर नेता हैं। उत्तराखंड बीजेपी के अध्यक्ष रह चुके अजय भट्ट के पास बीजेपी में काम करने का लंबा अनुभव है। ऐसा माना जाता है कि कैबिनेट में जगह मिलना उनकी मेहनत का फल है, क्योंकि उत्तराखंड में भाजपा की जीत में उनका योगदान काफी रहा है। 2019 में वह नैनीताल लोकसभा सीट से जीते थे।

स्वास्थ्य कारणों से निशंक का इस्तीफा

बता दें कि कुछ दिन पहले कोरोना संक्रमण के कारण रमेश पोशरियाल निशंक एम्स अस्पताल में भर्ती हुए थे। जिसके बाद उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ी गई थी और करीब 15 दिनों तक उन्हें आईसीयू में भी रहना पड़ा था। कोरोना काल में छात्रों की परीक्षाओं और सिलेबस को लेकर रमेश पोखरियाल निशंक ने शिक्षा मंत्री के तौर पर महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

निशंक के अलावे संतोष गंगवार, देबोश्री चौधरी, सदानंद गौड़ा की कैबिनेट से छुट्टी तय मानी जा रही है। इनसे पहले थावरचंद गहलोत को राज्यपाल बनाया दिया गया है, ऐसे में वो भी कैबिनेट से बाहर हो गये हैं।

विस्तार से पहले कईयों की छुट्टी

रमेश पोखरियाल निशंक के अलावे संतोष गंगवार, महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री देबोश्री चौधरी, और सदानंद गौड़ा की कैबिनेट से छुट्टी होने की खबर है। इनसे पहले थावरचंद गहलोत को राज्यपाल बनाया दिया गया है, ऐसे में वो भी कैबिनेट से बाहर हो गये हैं। खबर है कि पश्चिम बंगाल (West Bengal) से सांसद देबोश्री चौधरी की केंद्रीय मंत्रिमंडल से छुट्टी तय है। खबर है कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देबोश्री चौधरी का इस्तीफा मांग लिया है। माना जा रहा है कि पश्चिम बंगाल के कुछ नए चेहरों को मोदी कैबिनेट में जगह मिल सकती है।

इन दो बड़े नामों के अलावा केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा का भी इस्तीफा लिये जाने की बात सामने आ रही है। सदानंद गौड़ा अभी रसायन और उर्वरक मंत्री थे, लेकिन अब उनकी छुट्टी कर दी गई है। माना जा रहा है कि कर्नाटक में जारी सियासी उथल-पुथल के बीच पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने ये फैसला लिया है। खबर है कि बुधवार को होनेवाले कैबिनेट विस्तार में कई मंत्रियों को प्रमोशन भी मिल सकता है।

19 नये चेहरों को मिलेगी जगह!

खबर है कि बुधवार शाम छह बजे केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले नए मंत्रियों के लिए शपथ ग्रहण समारोह होगा। मोदी सरकार के दूसरे शासनकाल में ये पहला कैबिनेट विस्तार है। इसमें 19 नए चेहरों को शामिल किया जा सकता है। इसके साथ ही मंत्रिपरिषद की संख्या 53 से बढ़़कर 72 हो जाएगी। कैबिनेट फेरबदल में कुछ मंत्रियों का कद भी बढ़ाया जा सकता है।

Next Story

विविध