राजनीति

Punjab CM race: जाखड़, सिंगला, सोनी या सिद्धू, कौन होगा पंजाब का अगला 'कैप्टन'

Janjwar Desk
19 Sep 2021 2:30 AM GMT
Punjab CM race: जाखड़, सिंगला, सोनी या सिद्धू, कौन होगा पंजाब का अगला कैप्टन
x

(पंजाब के नए सीएम के रेस में चार नाम सबसे आगे चल रहे हैं)

Punjab CM race : फिलहाल ये चार नाम ऐसे हैं, जो घूम फिरकर सामने आ जा रहे हैं, माना जा रहा है कि पंजाब के अगले 'कैप्टन' यानी राज्य के अगले मुख्यमंत्री (New CM) की रेस में ये चारों नाम सबसे ऊपर बताए हैं..

Punjab CM race : पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh) ने शनिवार को इस्तीफा दे दिया है। इस्तीफा के बाद उनके तेवर काफी तल्ख दिखे। खासकर नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर। हालांकि, अब सारी चर्चाएं इस ओर केंद्रित हो गई हैं कि आखिरकार पंजाब का नया कैप्टन (New captain of Punjab) कौन होगा।

क्या पंजाब कांग्रेस प्रमुख सुनील जाखड़, या पूर्व केंद्रीय मंत्री अंबिका सोनी या फिर राज्य के मंत्री विजय इंदर सिंगला या फिर नवजोत सिंह सिद्धू, इन चारों में से कोई नया सीएम बनेगा या कोई और। फिलहाल ये चार नाम ऐसे हैं, जो घूम फिरकर सामने आ जा रहे हैं। माना जा रहा है कि पंजाब के अगले 'कैप्टन' यानी राज्य के अगले मुख्यमंत्री (New CM) की रेस में ये चारों नाम सबसे ऊपर हैं।

उधर राज्य में तेजी से गुजरे इस सियासी घटनाक्रम (political incidents) के बीच कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद राज्य का अगला सीएम कौन होगा, यह अब यक्ष प्रश्न बन गया है। खबर है कि इसे लेकर कांग्रेस (Congress) आलाकमान के बीच मंथन जारी है और इन चारों नामों की चर्चा ही सबसे ज्यादा है।

अब भी बताया जा रहा है कि कुर्सी के अगले दावेदार के नाम पर आज रविवार (Sunday) को मुहर लग जाएगी। नाम तय होने तक ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी (AICC) के ऑबजर्वर चंडीगढ़ में ही मौजूद रहेंगे। खबर है कि नए मुख्यमंत्री के नाम को लेकर नई दिल्ली में राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के आवास पर एक महत्वपूर्ण बैठक भी हुई है।

इससे पहले आज कांग्रेस विधायकों की एक बैठक हुई थी और इसमें यह फैसला लिया गया कि सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ही नए मुख्यमंत्री के नाम पर मुहर लगाएंगी। सूत्रों के हवाले से खबर है कि राज्य कांग्रेस प्रमुख सुनील जाखड़ (Sunil Jakhad) सीएम बनने की रेस में सबसे आगे चल रहे हैं। उनके अलावा जिन तीन नामों की चर्चा सबसे ज्यादा है उनमें अंबिका सोनी, पंजाब के मंत्री विजय इंदर सिंगला और नवजोत सिद्धू के नाम शामिल हैं।

वहीं, यह भी कहा जा रहा है कि पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव (Assembly election) होने हैं। लिहाजा, कयास यह भी लगाए जा रहे हैं कि पंजाब में नए मुख्यमंत्री के अलावा दो डिप्टी चीफ मिनिस्टर भी बनाए जा सकते हैं।

इससे पहले कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में चली उठापटक के बाद अमरिंदर सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। शाम पांच बजे कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले उन्होंने अपने करीबी विधायकों के साथ बैठक भी की थी। अब उन्होंने राजभवन जाकर राज्यपाल को इस्तीफा सौंप दिया है।

कैप्टन अमरिंदर सिंह शाम साढ़े चार बजे राजभवन पहुंचे और इस्तीफा सौंपा। उनके अलावा राज्य की पूरी मंत्री परिषद (Cabinet) ने भी राज्यपाल को इस्तीफा सौंपा है। कैप्टन अमरिंदर सिंह और पूरे मंत्रीपरिषद की ओर से इस्तीफे के बाद अब पंजाब कांग्रेस को पूरी नयी कैबिनेट का चुनाव करना होगा।

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि पिछले कुछ महीनों में ये तीसरी बार हो रहा है कि विधायकों को दिल्ली बुलाया गया। मैं समझता हूं कि अगर मेरे ऊपर कोई संदेह है, मैं सरकार नहीं चला सका, जिस तरीके से बात हुई है, मैं अपमानित महसूस कर रहा हूं। अमरिंदर सिंह ने कहा कि मैंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया है। फ्यूचर पॉलिटिक्स (Future politics) हमेशा एक विकल्प होती है और जब मुझे मौका मिलेगा मैं उसका इस्तेमाल करूंगा।

उन्होंने राजभवन गेट पर मीडिया को बताया कि "मैंने सुबह कांग्रेस अध्यक्ष से बात की थी और मैंने उन्हें कह दिया था कि मैं इस्तीफा दे रहा हूं।"

उन्होंने जोर देकर कहा, ''जहां तक मेरी भविष्य की राजनीति का सवाल है, तो एक विकल्प हमेशा रहता है, समय आने पर उस विकल्प को देखूंगा। मैं अपने साथियों से बात करके कोई फैसला करूंगा। इससे पहले, कांग्रेस के 50 से अधिक विधायकों ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर अमरिंदर सिंह को मुख्यमंत्री के पद से हटाने की मांग की थी। इसी पत्र के बाद पार्टी आलाकमान ने विधायक दल की बैठक बुलाने का निर्देश दिया।

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस के 50 से ज्यादा विधायकों और मंत्रियों (ministers) ने कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ जाकर पार्टी हाईकमान से शिकायत की थी। इन विधायकों और मंत्रियों का कहना था कि जरूरी काम के लिए भी मुख्यमंत्री से मिलना बेहद मुश्किल है।

इस्तीफा देने से पहले, अमरिंदर सिंह ने अपने आवास पर समर्थक विधायकों की बैठक की। सूत्रों का कहना है कि करीब 15 विधायकों एवं मंत्रियों ने उनके प्रति अपना समर्थन जताया, जबकि राज्य की 117 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के करीब 80 विधायक हैं। कांग्रेस

वहीं, एक दिन पहले उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत (Harish Rawat) ने ट्वीट कर कहा था कि प्रदेश के पार्टी विधायकों ने पार्टी हाईकमान को पत्र लिखकर विधायक दल की तत्काल बैठक बुलाने की मांग की है जिसे देखते हुए 18 सितंबर को शाम पांच बजे यह बैठक बुलाने का फैसला किया गया है।

Next Story

विविध

Share it