Top
राजनीति

राजस्थान के अलवर में किसान नेता राकेश टिकैत पर हुए हमले में निकला भगवा कनेक्शन

Janjwar Desk
3 April 2021 5:42 AM GMT
राजस्थान के अलवर में किसान नेता राकेश टिकैत पर हुए हमले में निकला भगवा कनेक्शन
x
हमले का आरोपी कुलदीप यादव अखिल भारतीय विधार्थी परिषद से जुड़ा हुआ था और भाजपा से उसका रिशता है...

जनज्वार, अलवर। किसान नेता राकेश टिकैत कल शुक्रवार राजस्थान पहुंचे थे। इस दौरान भारतीय किसान यूनियन के नेता टिकैत के काफिले पर अज्ञात लोगों ने हमला कर दिया। हमलावरों ने टिकैत की कार पर हमला किया जिससे उनकी गाड़ी का शीशा टूट गया। टिकैत ने अपने ऊपर हुए हमले के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराया है। बाद में भारी पुलिस बल की मौजूदगी के बीच किसान नेता राकेश टिकैत को बानसूर पहुंचाया गया।

दरअसल किसान नेता राकेश टिकैत शुक्रवार 2 अप्रैल को अलवर के हरसौरा में सभा को संबोधित कर बानसूर जा रहे थे। इसी बीच ततारपुर में अज्ञात भीड़ ने राकेश टिकैत के काफिले पर पत्थर फेंकना शुरू कर दिया। इस दौरान भीड़ ने टिकैत को काले झंडे भी दिखाए। इस हमले में किसान नेता राकेश टिकैत की गाड़ी का शीशा भी टूट गया। हालांकि पुलिस ने तुरंत राकेश टिकैत को सुरक्षा घेरे में लेते हुए वहां से बाहर निकाल दिया। बाद में पुलिस बलों की मौजूदगी में किसान नेता को बानसूर ले जाया गया।

अपने काफिले पर हुए हमले के बाद किसान नेता राकेश टिकैत ने घटना का वीडियो ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया। राकेश टिकैत ने अपने ऊपर हुए हमले के भाजपा को दोषी ठहराया है। राकेश टिकैत ने ट्विटर पर लिखा कि राजस्थान के अलवर जिले के ततारपुर चौराहा, बानसूर रोड़ पर भाजपा के गुंडों द्वारा जानलेवा पर हमला किया गया, लोकतंत्र की हत्या की तस्वीरें। राकेश टिकैत ने घटना की जानकारी देते हुए मीडिया को बताया कि पुलिस का पिस्टल छीनने की कोशिश की गई। पत्थर मारकर गाड़ी के शीशे तोड़ दिए गए, लाठी चलाई गई।

https://twitter.com/RakeshTikaitBKU/status/1378011278669537283?s=08

इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए अलवर एएसपी गुरुशरण ने कहा कि किसान नेता राकेश टिकैत के साथ जो घटना हुई है, इसमें 4 लोगों को हिरासत में लिया गया है। बाकी लोगों को नामजद करके टीम भेज दी गई है, उन्हें भी जल्द हिरासत में लिया जाएगा। स्याही फेंकने की, काले झंडे दिखाने की बात सामने आई है। शीशा कैसे तोड़ा है इसकी जांच की जा रही है। घटना के बाद टिकैत समर्थकों व अन्य किसान नेताओं ने पुलिस के सामने गुस्सा भी जाहिर किया।

अलवर में राकेश टिकैत पर हुए हमले से गुस्साए किसानों ने दिल्ली से सटे अलग अलग मुख्य सडकों को जाम कर दिया। सिंघु बॉर्डर के किसानों ने केएमपी एक्सप्रेसवे को जाम कर दिया तो वहीं किसानों ने चिल्ला बॉर्डर को भी जाम कर दिया। हालांकि पुलिस ने लोगों को समझा बुझा कर जाम हटवाया। नोएडा के एडीशनल डीसीपी रणविजय सिंह ने कहा कि कुछ लोग चिल्ला बॉर्डर पर आ गए थे। उनका कहना था कि उनके नेता राकेश टिकैत पर हमला हुआ है, उसके बाद उन्हें सुरक्षा दी जाए और जिन्होंने हमला किया है उनपर कार्रवाई की जाए। हमने उन्हें समझाया, ये लोग अब हट गए हैं।

https://twitter.com/TabeenahAnjum/status/1377996904311615488?s=08

भारतीय किसान यूनियन के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने बताया कि, "राजस्थान में अलवर के तातारपुर चौराहे पर राकेश टिकैत पर हमला हुआ, जिसमें उनकी गाड़ी का शीशा टूट गया।" उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि, "हमला करने वाला कुलदीप यादव भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया का करीबी है। वर्तमान में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का कार्यकर्ता है। हम ऐसी घटनाओं से डरने वाले नहीं हैं।" वहीं अलवर पुलिस की ओर से जानकारी देते हुए बताया गया कि अलवर के तातारपुर चौक पर आज भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत के काफिले पर हमला किया गया। घटना के संबंध में चार लोगों को हिरासत में लिया गया है। आगे की जांच चल रही है।

गौरतलब है कि साल 2019 में राजऋषि भृतहरि मत्स्य यूनिवर्सिटी की छात्र राजनीति में निर्दलीय तौर पर चुनाव जीतकर अध्यछ बना कुलदीप यादव बाद में अखिल भारतीय विधार्थी परिषद से जुड़ गया था। 17 फरवरी 2020 को छात्रों पर लाठीचार्ज करने और एक समारोह में भाजपा नेताओं की एंट्री पर रोंक लगाए जाने के बाद कुलदीप यादव ने स्तीफा दे दिया था। स्तीफा देने के बाद कुलदीप फूट-फूटकर रोया था। आज इसी कुलदीप पर भाजपा के इशारे पर राकेश टिकैत पर हमले का आरोप लगा है।

Next Story

विविध

Share it