राजनीति

UP News : सोनभद्र से अपना दल (एस) सांसद पकौड़ी लाल कोल की बेलगाम हुई जुबान, ब्राह्मण और क्षत्रिय समाज की दीं गालियां

Janjwar Desk
19 Oct 2021 3:30 PM GMT
UP News : सोनभद्र से अपना दल (एस) सांसद पकौड़ी लाल कोल की बेलगाम हुई जुबान, ब्राह्मण और क्षत्रिय समाज की दीं गालियां
x
UP News : वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें सांसद पकोड़ी लाल कोल मंच से ब्राह्मणों व क्षत्रियों को भद्दी-भद्दी गालियां देते नजर आ रहे हैं।

मिर्जापुर से संतोष देव गिरी की रिपोर्ट

Sonbhadra। लखीमपुर खीरी कांड (Lakhimpur Kheri Violence) की तासीर अभी ठंडी भी नहीं पड़ी थी कि उत्तर प्रदेश के अंतिम छोर पर स्थित सोनभद्र (Sonbhadra) के रॉबर्ट्सगंज लोकसभा सीट से भाजपा के सहयोगी अपना दल (एस) (Apna Dal S) के नेता एवं सांसद पकौड़ी लाल कोल (Pakodi Lal Kaul) एक विवादित बयान देकर लोगों के निशाने पर आ गए हैं। अपने बयान से उन्होंने सरकार की भी खूब किरकिरी कराई है। इसको लेकर ब्राह्मण और क्षत्रिय समाज आक्रोशित हो उठे हैं। जगह-जगह पुतला दहन करने के साथ उन्हें बर्खास्त करने की मांग की जा रही है। आक्रोश इस कदर है कि खुद अपना दल की राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केंद्रीय राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल द्वारा इसकी निंदा करने के साथ माफी मांगने की बात कही गई है। स्वयं पकौड़ी कोल ने माफी मांगते हुए वीडियो को तोड़ मरोड़ कर प्रस्तुत करने का नपा तुला बयान जारी कर अपना बचाव किया है लेकिन इतने के बाद भी उनके खिलाफ आक्रोश थमने का नाम नहीं ले रहा है।

मीरजापुर (Mirzapur) जिले के मड़िहान तहसील क्षेत्र के कुबरी पटेहरा गांव के मूल निवासी तथा अपने ही गांव में ग्राम समाज की जमीन पर कब्जा कर हवेली खड़ा करने वाले सांसद पकौड़ी कोल ने एक बार फिर से सरकार की किरकिरी कराने का काम किया है। इसको लेकर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है।

पकौड़ी लाल कोल का एक वीडियो वायरल (Viral Video) हुआ है जिसमें वह अमर्यादित टिप्पणी करते हुए नजर आ रहे हैं। वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें वह मंच से ब्राह्मणों व क्षत्रियों को भद्दी-भद्दी गालियां देते नजर आ रहे हैं। सोशल मीडिया के तमाम मंचों पर लोग इस पर अपनी तीखी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। वहीं इस वीडियो पर अपना दल (एस) की राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि पार्टी इसकी घोर निंदा करती है।

अनुप्रिया पटेल (Anupriya Patel) ने सांसद को निर्देशित किया है कि वह जनता से तत्काल माफी मांगें। वायरल वीडियो में साफ सुुनाई दे रहा है कि अपना दल (एस) के सांसद ब्राह्मण एवं क्षत्रिय को भद्दी-भद्दी गालियां दे रहे हैं। वीडियो मीरजापुर के हलिया थाना क्षेत्र के बबुरा रघुनाथ सिंह गांव स्थित एक इंटर कॉलेज का बताया जा रहा है। बताया जा रहा है कि सोमवार 18 अक्टूबर की शाम को पकौड़ी लाल कोल अपने समाज के एक श्रद्धांजलि सभा कार्यक्रम में उपस्थित अपने समाज के लोगों को संबोधित कर रहे थे। वह अपने पुत्र और छानबे विधायक राहुल प्रकाश के लिए जनता से वोट मांगने पहुंचे थे। इसी दौरान हाल ही में संपन्न प्रधानी के चुनाव का जिक्र करते हुए वह भाषा के निम्न स्तर पर चले गए। उन्होंने ऐसी कई बातें कही जिसे लिखा नहीं जा सकता है। सोशल मीडिया पर लोग सांसद पर कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं।

सांसद की बढ़ी मुसीबत, वकील भी आये विरोध में..

सांसद पकौड़ी कोल के विवादित बयान के बाद देहात कोतवाली में वकीलों ने सांसद के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए पत्रक दिया है और कहा है कि ऐसे जनप्रतिनिधियों का लोकतंत्र में बना रहना उचित नहीं है।

सैकड़ों लोगों ने सांसद के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए फूंका पुतला

मीरजापुर (Mirzapur) के हलिया विकास खंड के रतेह चौराहा पर सांसद पकौड़ी लाल कोल के वायरल वीडियो पर सवर्ण समाज पार्टी के आक्रोशित सैकड़ों लोगों ने नारेबाजी करते हुए सांसद पकौड़ी लाल कोल का पुतला फूंककर विरोध जताया। सोमवार 18 अक्टूबर को विकास खंड के बबुरा रघुनाथ सिंह गांव में आयोजित एक कार्यक्रम में सांसद पकौड़ी लाल कोल ने ब्राह्मण व ठाकुर जाति के विरुद्ध कथित तौर पर अभद्र भाषा का प्रयोग किया था जिसका वीडियो वायरल होने पर लोगों में आक्रोश व्याप्त हो गया।

राघवेंद्र सिंह डिम्पू के नेतृत्व में सैकड़ों लोगों ने विरोध प्रदर्शन करते हुए सांसद का पुतला फूंककर कार्रवाई की मांग की। मामले की जानकारी होने पर मौके पर पहुंचे चौकी प्रभारी ड्रमंडगंज भरत लाल पांडेय ने आक्रोशित लोगों को समझाने बुझाने का प्रयास किया। लेकिन आक्रोशित लोग ने सांसद को बुलाए जाने की मांग करते हुए नारेबाजी करने लगे।

सूचना पर पहुंचे प्रभारी निरीक्षक राजकुमार सिंह ने भी आक्रोशित लोगों को समझाया बुझाया, तब जाकर लोगों का गुस्सा शांत हुआ और नारेबाजी बंद की। विरोध प्रदर्शन की सूचना पाकर एसडीएम लालगंज अमित कुमार शुक्ला व सीओ उमाशंकर सिंह भी मौके पर पहुंचे । विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों ने एसडीएम लालगंज अमित कुमार शुक्ला को राष्ट्रपति के नाम संबोधित ज्ञापन सौंपकर सांसद के विरुद्ध कार्रवाई किए जाने की मांग किया।

सांसद सोनभद्र के पुतले का दहन कर सड़क पर बैठकर किया प्रदर्शन

हलिया कस्बा जीप स्टैंड के पास सवर्ण समाज के लोगो के इंटरनेट मीडिया पर पकौड़ी लाल कोल का क्षत्रिय समाज व ब्राह्मण के खिलाफ गाली गलौज का वीडियो वायरल होने पर आक्रोशित सैकड़ों की संख्या में लोगो ने सांसद व उनके पुत्र छानबे विधायक राहुल प्रकाश कोल के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए सांसद व विधायक के मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए।

सांसद सोनभद्र (Sonbhadra) पकौड़ी लाल कोल का पुतला दहन कर राष्ट्रीय राजमार्ग 135 सी पर सड़क पर धरना प्रदर्शन पर बैठ गए। सवर्ण समाज के लोगो के द्वारा धरना प्रदर्शन के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग 135 सी पर दोनों ओर वाहनों के कतारें लग गई। प्रदर्शन कर रहे सवर्ण समाज के लोग सांसद सोनभद्र सांसद के खिलाफ कार्रवाई कि मांग कर रहे हैं। बबुरा रघुनाथ सिंह के किरका बस्ती में हिम्मत कोल के पुण्य तिथि के कार्यक्रम में सांसद सोनभद्र (Sonbhadra MP) पकौड़ी लाल मुख्य अतिथि के रुप में उपस्थित थे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए क्षत्रिय समाज व ब्राह्मण समाज के लोगो को ब्लाक प्रमुख के चुनाव के दौरान मारने पीटने के साथ मंच से खुले आम गलियां दे डाली।

इंटरनेट मीडिया पर सांसद के वीडियो वायरल होने के बाद सवर्ण समाज के लोग आक्रोशित हो गए हैं। क्षेत्र में लगाए गए विधायक के पैनर को सवर्ण समाज के लोगो ने उखाड़ कल फेंक दिया। समाचार लिखे जाने तक सवर्ण समाज के लोग धरना प्रदर्शन पर बैठे रहे।

दूसरी ओर लहंगपुर बाजार में सांसद पकौड़ी कोल के वायरल वीडियो में बोले गए अमर्यादित भाषा के विरोध में राम सेना के जिला अध्यक्ष के नेतृत्व में लहंगपुर बाजार में पुतला दहन किया गया। नाराज लोगों ने कहा कि सांसद के बोल संवैधानिक विधि के विरुद्ध है। वायरल वीडियो से नाराज होकर राम सेना के जिला अध्यक्ष राहुल पांडे ने के नेतृत्व में सांसद का विरोध किया गया। आरोप लगाया कि यह लोकतांत्रिक संवैधानिक व्यवस्था के विरुद्ध है। इस तरह की भाषा अराजकता को बढ़ावा देने वाली है।

विवादों से सांसद पकौड़ी कोल का है पुराना नाता

अपने गृह जनपद मिर्जापुर खासकर अपने विधायक बेटे के विधानसभा क्षेत्र में एक श्रद्धांजलि सभा कार्यक्रम के दौरान ब्राह्मण और क्षत्रिय समाज के लोगों को गाली देते हुए भरे मंच से सांसद ने मर्यादाओं की सीमा लांघते हुए न केवल शब्दों की बौछार की है, बल्कि अपने दल और सरकार की भी खूब किरकिरी करा दी है। सांसद का यह घृणित रूप कोई पहली दफा सामने नहीं आया है बल्कि इसके पूर्व उनके दामन पर ग्राम समाज की जमीन कब्जा करने का भी आरोप लग चुका है या अलग बात है कि सत्ता में होने के कारण उन पर कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है।

आश्चर्य की बात है कि बाकायदे शपथ पत्र देकर 1 सप्ताह में ग्राम समाज की भूमि को खाली करने अतिक्रमण हटाने की बात कहने वाले सांसद आज तक उक्त भूमि को खाली नहीं कर पाए हैं बल्कि उस पर कई दुकानें तन कर खड़ी हो गई हैं जिस पर प्रशासन की भी नजरें इनायत नहीं हुई है, बल्कि यूं कहा जाए कि प्रशासन ने पूरी तरह से उन्हें ग्राम समाज की जमीन को कब्जा करने की मौन स्वीकृति दे दी थी।

सांसद पकौड़ी लाल कोल मूलतः मिर्जापुर (Mirzapur) के कुबरी पटेहरा गांव के निवासी हैं जो मड़िहान विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत आता है। सोनभद्र (Sonbhadra) से सांसद चुने जाने से पहले इन पर गांव में ही ग्राम समाज की जमीन पर कब्जा किए जाने का आरोप लगा था। मामला सुर्खियों में था। परेशानी बढ़ती देख इन्होंने मड़िहान तहसील प्रशासन को हलफनामा शपथ पत्र देकर 1 सप्ताह में अतिक्रमण हटाकर ग्राम समाज की भूमि को मुक्त करने का वादा किया था। लेकिन इसे सत्ताधारी दल का हनक ही कहा जाएगा कि इन्होंने उसे आज तक खाली नहीं किया है।

अपना दल (एस) में शामिल होने से पहले यह समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के नेता कहलाते थे। समाजवादी पार्टी से सोनभद्र से सांसद भी चुने जा चुके हैं। पकौड़ी कोल को अवसरवादी नेता भी कहा जाता है। कहने को यह आदिवासी समाज से हैं, लेकिन अगर नजर डाली जाए तो जिस क्षेत्र की यह रहनुमाई करते हैं और जिस क्षेत्र के निवासी हैं उस क्षेत्र के लोगों की आज भी दशा और दिशा बदल नहीं पाई है।

यह अलग बात है कि सांसद बनते ही इनके और इनके परिवार की दशा बदल उठी है। बेटा जहां छानबे विधायक है, वही ग्राम प्रधान की कुर्सी परिवार में ही है। पुत्र वधु भाजपा (BJP) और अपना दल (एस) कोटे से जिला पंचायत सदस्य हैं। दूसरी पुत्र वधु भाजपा और अपना दल (एस) से पटेहरा कला मीरजापुर की ब्लाक प्रमुख यूं कहें कि पूरे परिवार का पंचायत से लेकर देश की सर्वोच्च पंचायत तक की कुर्सी पर कब्जा है ऐसे में भला क्यों ना बोल बिगड़े?

Next Story

विविध

Share it