समाज

2014 के बाद मिली आजादी वाले बयान पर उठी अवार्ड वापसी की मांग तो बोलीं कंगना 'जो चोर हैं उनकी जलेगी, कोई नहीं बुझा सकता'

Janjwar Desk
13 Nov 2021 8:42 AM GMT
bollywood news
x

कंगना रनौत (file photo)

1947 में कौन सा युद्ध हुआ था, मुझे पता नहीं है। अगर कोई मुझे बता सकता है तो मैं अपना पद्मश्री वापस कर दूंगी और माफी भी मांगूंगी…कृपया इसमें मेरी मदद करें...

Bollywood : बड़े पर्दे की झांसी की रानी यानी कंगना रनोट ने अपनी 'आजादी' वाले बयान के बाद अवार्ड लौटाने की मांग पर जवाब दिया है। अभिनेत्री ने कहा कि अगर कोई उन्हें 1947 में हुई घटना के बारे में बता सकता है तो वह अपना पद्मश्री लौटाने के लिए तैयार हैं। दरअसल कंगना ने अपने विवादित बयान में कहा था कि भारत को 2014 में आजादी मिली थी, जब नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार सत्ता में आई थी। कंगना ने 1947 में देश की आजादी को 'भीख' बताया था।

नहीं पता 1947 में कौन सा युद्ध हुआ

एक्ट्रेस ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरीज पर एक किताब के कुछ अंश शेयर करते हुए लिखा, उसी इंटरव्यू में सब कुछ बहुत स्पष्ट रूप बताया गया है। 1857 में स्वतंत्रता के लिए पहली सामूहिक लड़ाई सुभाष चंद्र बोस, रानी लक्ष्मीबाई और वीर सावरकर जी जैसे महान लोगों के बलिदान के साथ शुरु हुई। 1857 की लड़ाई मुझे पता है, लेकिन 1947 में कौन सा युद्ध हुआ था, मुझे पता नहीं है। अगर कोई मुझे बता सकता है तो मैं अपना पद्मश्री वापस कर दूंगी और माफी भी मांगूंगी…कृपया इसमें मेरी मदद करें।

1857 पर मैनें किया रिसर्च

कंगना ने लिखा है, 'मैंने शहीद वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की फीचर फिल्म में काम किया है... आजादी की पहली लड़ाई 1857 पर बड़े पैमाने पर रिसर्च किया था... राष्ट्रवाद के साथ राइट विंग का भी उदय हुआ... लेकिन अचानक खत्म क्यों हो गया? और गांधी ने भगत सिंह को क्यों मरने दिया?... नेता बोस को क्यों मारा गया और गांधी जी का सपोर्ट उन्हें कभी क्यों नहीं मिला? एक गोरे (ब्रिटिश) ने पार्टीशन की लाइन क्यों खींची...? स्वतंत्रता का जश्न मनाने के बजाय भारतीयों ने एक-दूसरे को क्यों मारा कुछ जवाब जो मैं मांग रही हूं कृपया जवाब खोजने में मेरी मदद करें।

जो चोर हैं उनकी जलेगी

कंगना का कहना है कि मैं परिणाम भुगतने के लिए तैयार हूं। जहां तक ​​2014 में आजादी का संबंध है, मैंने विशेष रूप से कहा था कि भौतिक आजादी हमारे पास हो सकती है, लेकिन भारत की चेतना और विवेक 2014 में मुक्त हो गया था.. पहली बार... अंग्रेजी न बोलने या छोटे शहरों से आने या भारत में बने उत्पादों का उपयोग करने के लिए लोग हमें शर्मिंदा नहीं कर सकते... एक ही इंटरव्यू में सब कुछ स्पष्ट है... लेकिन जो चोर हैं उनकी तो जलेगी। .. कोई बुझा नहीं सकता... जय हिंद।

देश भर में हो रहा जबर्दस्त विरोध

वहीं आम आदमी पार्टी ने मुंबई पुलिस को एक एप्लीकेशन जमा कर उनके खिलाफ 'देशद्रोही और भड़काऊ' बयान देने के लिए मामला दर्ज करने की मांग की है। भाजपा सांसद वरुण गांधी सहित कई राजनेताओं ने उनके बयान पर नाराजगी के साथ अपना रिएक्शन दिया है। देश भर में उनके बयान की आलोचना के साथ प्रदर्शन हो रहे हैं। लोग कंगना के लिए तरह-तरह की बातें कर रहे हैं।

Next Story

विविध

Share it