समाज

अल्मोड़ा में आदमखोर गुलदार के आतंक का live video, एक ही परिवार के 3 लोगों पर किया हमला, तीनों की हालत नाजुक

Janjwar Desk
29 Nov 2022 7:56 AM GMT
अल्मोड़ा में आदमखोर गुलदार के आतंक का live video, एक ही परिवार के 3 लोगों पर किया हमला, तीनों की हालत नाजुक
x

अल्मोड़ा में आदमखोर गुलदार के आतंक का live video, एक ही परिवार के 3 लोगों पर किया हमला, तीनों की हालत नाजुक

शाम करीब 4 बजे सुमित कुमार पुत्र हरीश कुमार अपने मकान के पास कुछ काम कर रहे थे और उनकी माता पुष्पा देवी तथा पड़ोस की महिला बचुली देवी बगल में खड़ी थीं। तभी जंगल की ओर से बस्ती में घुसे गुलदार ने अचानक सुमित पर हमला बोल दिया। उसे बचाने की कोशिश में लगी दोनों महिलाओं पर भी गुलदार झपट पड़ा...

Maneater Guldar live video : उत्तराखंड के पर्वतीय जिलों में गुलदार का आतंक इस कदर बढ़ चुका है कि रात के अंधेरे में तो दूर अब गुलदार दिनदहाड़े भी लोगों पर हमला कर रहा है। ताजा मामला अल्मोड़ा जिले के द्वाराहाट विकासखण्ड का है, जहां गुलदार ने एक ही परिवार के 3 लोगों पर जानलेवा हमला कर दिया। हमले में एक युवक व 2 महिलाएं घायल हो गए। डॉक्टरों ने युवक व एक महिला को हायर सेंटर रेफर कर दिया है।

घटना द्वाराहाट नगर से करीब 3 किमी की दूरी पर स्थित मल्ली मिरई के तोक भौरा की है। सोमवार 28 नवंबर की शाम करीब 4 बजे सुमित कुमार पुत्र हरीश कुमार अपने मकान के पास कुछ काम कर रहे थे और उनकी माता पुष्पा देवी तथा पड़ोस की महिला बचुली देवी बगल में खड़ी थीं। तभी जंगल की ओर से बस्ती में घुसे गुलदार ने अचानक सुमित पर हमला बोल दिया। उसे बचाने की कोशिश में लगी दोनों महिलाओं पर भी गुलदार झपट पड़ा।

इस हमले के दौरान गुलदार ने बचुली देवी को दूर फेंक दिया, जिस कारण उसकी आंख, हाथ, सिर में गंभीर चोटें आई हैं। वहीं, सुमित का गुलदार ने दाहिना हाथ ही फाड़ डाला। गुलदार के इस हमले में सुमित की मां पुष्पा देवी की पीठ में गहरे दांत लगे हैं। हालांकि इन लोगों की चीख पुकार सुनकर गुलदार जंगल की ओर भाग गया, जिससे इनकी जान बच गई। घटना के बाद मौके पर इकट्ठा हुए ग्रामीणों ने तीनों घायलों को निकटवर्ती सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया। जहां से प्राथमिक उपचार देकर इन्हें हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया।

दिनदहाड़े हुई इस घटना से क्षेत्र में भय और विभाग के खिलाफ रोष है। सामाजिक कार्यकर्ता नारायण सिंह रावत ने बताया कि क्षेत्र में गुलदार का लंबे समय से आतंक चल रहा है। इसकी सूचना ग्रामीणों द्वारा कई बार वन विभाग को दी गई थी। मगर कार्रवाई होना तो दूर कोई क्षेत्र में झांकने तक नहीं पहुंचा। उन्होंने घायलों को तत्काल मुआवजा देने तथा पिंजरा लगाकर गुलदार के आतंक से निजात दिलाने की मांग की है। जबकि दूसरी ओर मामले में डीएफओ महातिम यादव ने बताया कि घायलों को तात्कालिक सहायता के रूप में 5-5 हजार कुल 15000 रुपए का मुआवजा दे दिया गया है। गुलदार को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाने की कार्यवाही की जायेगी।

Next Story

विविध