समाज

Mob Lynching : मुस्लिम व्यापारी ने नहीं लगाये जयश्री राम के नारे तो 8-10 लड़कों ने ट्रेन में कपड़े उतारकर बेल्ट से बुरी तरह पीटा, वीडियो वायरल

Janjwar Desk
14 Jan 2023 2:02 PM GMT
Mob Lynching : मुस्लिम व्यापारी ने नहीं लगाये जयश्री राम के नारे तो 8-10 लड़कों ने ट्रेन में कपड़े उतारकर बेल्ट से बुरी तरह पीटा, वीडियो वायरल
x

Mob Lynching : मुस्लिम व्यापारी ने नहीं लगाये जयश्री राम के नारे तो 8-10 लड़कों ने ट्रेन में कपड़े उतारकर बेल्ट से बुरी तरह पीटा, वीडियो वायरल

Mob lynching in Padmawat Express : जब मैंने जय श्रीराम के नारे नहीं लगाए तो मेरे सारे कपड़े उतार लिए और मेरे पास रखे 2200 रुपए भी ले लिए, उसके बाद चमड़े की बेल्ट से मारने लगे, मैंने खुद को बचाने की बहुत कोशिश की, डिब्बे में सवाल लोगों से भी मदद मांगी, लेकिन कोई भी मदद नहीं आगे नहीं आया, उन लोगों ने मुझे मारते मारते अधमरा कर दिया...

Mob lynching in Padmawat Express : उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के रहने वाले एक मुस्लिम कारोबारी के साथ मॉब लिंचिंग की घटना सामने आई है, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जानकारी के मुताबिक दिल्ली से मुरादाबाद आते समय पद्मावत एक्सप्रेस में कुछ हिंदुवादियों ने व्यापारी के साथ लिंचिंग की घटना को अंजाम दिया था।

जानकारी के मुताबिक मुरादाबाद के स्क्रैप कारोबारी आसिम हुसैन गुरुवार 12 जनवरी की रात को पद्मावत एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे थे कुछ हिंदुत्ववादियों ने जबरन उनसे जय श्रीराम बोलने को कहा और जब उन्होंने ऐसा नहीं यिका तो उनको बेल्ट से बुरी तरह पीटा,जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। मीडिया में आ रही जानकारी के मुताबिक यह घटनाह पद्मावत एक्सप्रेस में हापुड़ से मुरादाबाद के बीच की है।

पीड़ित व्यापारी आसिम हुसैन का आरोप है कि ट्रेन की जनरल बोगी में हापुड़ से चढ़े 8 से 10 लोगों ने उनके साथ धक्का-मुक्की की और जय श्री राम के नारे लगाने को कहा। नारे नहीं लगाने पर उनके कपड़े उतरवाए और फिर बेल्ट से बुरी तरह पीटा।

आसिम हुसैन अपनी तकलीफ साझा करते हुए कहते हैं, ट्रेन में पूरे रास्ते उन 8-10 युवाओं ने उन्हें बुरी तरह पीटा। मुरादाबाद आउटर पर ट्रेन की रफ्तार थोड़ी कम हुयी तो एक यात्री ने आरोपियों से बचाकर उन्हें नीचे धक्का देकर उतारा और बमुश्किल उनकी जान बच पायी।

वहीं इस मामले में मुरादाबाद GRP SP अपर्णा गुप्ता कहती हैं कि पीड़ित व्यापारी की शिकायत पर हमने FIR दर्ज कर ली है। मामले की जांच करने के बाद आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। मारपीट की सूचना मिलने पर पद्मावत एक्सप्रेस में चल रही जीआरपी एक्सकॉर्ट संबंधित बोगी में पहुंची थी, मगर बोगी में पीड़ित व्यक्ति नहीं मिला क्योंकि वह मुरादाबाद में उतर चुका था। बाकी यात्रियों से मिली सूचना के आधार पर चलती ट्रेन से मारपीट के आरोपी दो लड़कों को हिरासत में लिया गया था। एक का नाम सूरज है। वह प्रतापगढ़ का रहने वाला था। दूसरे का नाम सतीश है। वह रायबरेली का रहने वाला है। ट्रेन के बरेली जंक्शन पहुंचने पर जीआरपी एस्कॉर्ट ने दोनों को बरेली जीआरपी थाने को सौंप दिया था। हालांकि तब तक कोई पीड़ित सामने नहीं आया था। कोई FIR भी नहीं मिली थी। ऐसे में बरेली जीआरपी से शांतिभंग में दोनों का चालान कर दिया गया था। दोनों जमानत पर छूट चुके हैं।'

SP अपर्णा गुप्ता कहती हैं, 'शुक्रवार 13 जनवरी की रात पीड़ित ने मुरादाबाद जीआरपी थाने पहुंचकर तहरीर दी है, जिसके आधार पर केस दर्ज कर लिया गया है। आरोपियों को फिर से गिरफ्तार किया जाएगा। जब दोनों आरोपियों सतीश और सूरज से मारपीट करने का कारण पूछा गया था तो उन्होंने कहा था कि आसिम हुसैन ट्रेन में अश्लील हरकत कर रहे थे। मना करने पर वह आक्रामक हो गए। इसके बाद विवाद हुआ था।'

वहीं GRP को दी गयी अपनी शिकायत में पीड़ित आसिम हुसैन कहते हैं, "मैं 12 जनवरी की रात को पद्मावत एक्सप्रेस से दिल्ली से मुरादाबाद के लिए जनरल बोगी में रवाना हुआ। रास्ते में हापुड़ रेलवे स्टेशन पर गाड़ी रुक गई। तभी 8-10 लोग पद्मावत एक्सप्रेस की उसी जनरल बोगी में चढ़े जिसमें मैं दिल्ली से सफर कर रहा था। ट्रेन चलते ही उन लोगों ने धक्का-मुक्की शुरू कर दी। मेरे पास आकर मेरी दाढ़ी पकड़कर खींची। कहने लगे ये ..चोर होते हैं। तू भी चोर है। ये कहते हुए वो मुझे बुरी तरह लात घूसों से मारने लगे और जयश्री राम के नारे लगवाए।

जब मैंने नारे नहीं लगाए तो मेरे सारे कपड़े उतार लिए और मेरे पास रखे 2200 रुपए भी ले लिए। उसके बाद चमड़े की बेल्ट से मारने लगे। मैंने खुद को बचाने की बहुत कोशिश की, डिब्बे में सवाल लोगों से भी मदद मांगी, लेकिन कोई भी मदद नहीं आगे नहीं आया। उन लोगों ने मुझे मारते मारते अधमरा कर दिया। ये लोग मुझे जान से मारने के लिए अपने साथ ले जाना चाहते थे, लेकिन एक सहयात्री को मुझ पर रहम आ गया। उसने मुझे स्टेशन के आउटर में अधमरी हालत में मुझे धक्का देकर ट्रेन से फेंक दिया।"

Next Story

विविध