समाज

USA : चलती ट्रेन में महिला से 40 मिनट तक रेप करता रहा आरोपी - यात्री बनाते रहे वीडियो

Janjwar Desk
21 Oct 2021 11:55 AM GMT
USA : चलती ट्रेन में महिला से 40 मिनट तक रेप करता रहा आरोपी - यात्री बनाते रहे वीडियो
x

(वारदात के समय ट्रेन में काफी लोग मौजूद थे, जो ये सब होते हुए देख रहे थे) 

USA : पेन्सिलवेनिया में 13 अक्टूबर को एक महिला रात करीब 10 बजे अपने घर जाने के लिए एक ट्रेन में सवार हुई थी। इस ट्रेन में और भी बहुत सारे लोग थे।

दिनकर कुमार की रिपोर्ट

USA: महिलाओं को बराबरी का दर्जा देने और महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करने के मामले में अमेरिका (USA) खुद को अव्वल और सभ्य देश होने का दावा करता रहा है। चलती ट्रेन में रेप (Rape) की एक घटना ने अमेरिका के इस दावे के सामने सवालिया निशान लगा दिया है। भारत में तो इस तरह रेप की घटनाएं दिन-रात घटती ही रहती है और लोग मूकदर्शक बने रहते हैं। पीड़िता को न्याय देने की जगह गिरफ्तार कर लिया जाता है और बलात्कारी आजाद घूमता रहता है। भारत स्त्री विरोधी बर्बर समाज (Anti Women Society) में रूपांतरित हो चुका है। लेकिन अमेरिकी समाज में इस तरह की घटना रोज-रोज नहीं घटती। ट्रेन में रेप की घटना और यात्रियों का मदद करने की जगह वीडियो बनाना दर्शाता है कि तकनीकी संवेदनशून्यता अमेरिका को भी भारत की तरह बर्बर बना रही है।

पेन्सिलवेनिया (Pennsylvania) में 13 अक्टूबर को एक महिला रात करीब 10 बजे अपने घर जाने के लिए एक ट्रेन में सवार हुई थी। इस ट्रेन में और भी बहुत सारे लोग थे लेकिन 35 साल का एक व्यक्ति अचानक से इस महिला के साथ वाली सीट पर आकर बैठ गया। कुछ देर तक उसने इस महिला को परेशान किया लेकिन जब वो बात करने के लिए तैयार नहीं हुई तो इस व्यक्ति ने उसके साथ अश्लील हरकतें शुरू कर दीं और इसके बाद 40 मिनट तक चलती ट्रेन में इस महिला के साथ रेप की घटना हुई।

वारदात के समय ट्रेन में काफी लोग मौजूद थे, जो ये सब होते हुए देख रहे थे लेकिन किसी ने भी उस व्यक्ति को रोकने की कोशिश नहीं की। 40 मिनट तक एक महिला चलती ट्रेन में मदद के लिए चीखती चिल्लाती रही, लोगों से ये कहती रही कि वो पुलिस बुलाने में उसकी मदद करें। उसने मदद के लिए लोगों के सामने गुहार लगाई। लेकिन इसके बावजूद इन लोगों ने कुछ नहीं किया।

पिछले दिनों अमेरिका (USA) में एक सर्वे हुआ था, जिसमें लोगों से ये पूछा गया था कि अगर उनके सामने किसी महिला के साथ छेड़छाड़ होती है या उसके साथ बलात्कार जैसी कोई भयानक घटना होती है तो उनकी पहली प्रतिक्रिया क्या होगी?

तब अमेरिका के ज्यादातर लोगों का कहना था कि ऐसी स्थिति में अपराध (Crime) को रोकने की जिम्मेदारी उनकी होगी। सबसे पहले उस महिला को बचाएंगे। इस सर्वे का तब सार यह था कि अमेरिका (USA) के लोग दूसरे देशों की तुलना में ज्यादा जागरूक, ज्यादा जिम्मेदार और ज्यादा सजग हैं। पश्चिमी देशों में इस तरह के हजारों सर्वे और रिपोर्ट्स उपलब्ध हैं जो यह बताती हैं कि वहां के लोग और वहां का समाज सभ्यता के मामले में दुनिया में सबसे आगे हैं।

अमेरिकी अधिकारियों ने कहा है कि पेन्सिलवेनिया में एक ट्रांजिट ट्रेन में यात्रियों ने कथित तौर पर एक महिला के बलात्कार को 40 मिनट से अधिक समय तक फिल्माने के लिए अपने फोन का इस्तेमाल किया। वे चाहते तो महिला की मदद कर सकते थे। अधिकारियों ने कहा कि एक दर्जन से भी कम लोग मौजूद थे, "लेकिन हस्तक्षेप करने के लिए पर्याप्त थे", जिन्होंने घटना को रिकॉर्ड किया, लेकिन महिला की मदद नहीं की।

ट्रांजिट मार्ग (Transit Route) के पुलिस प्रमुख ने कहा कि 35 वर्षीय फिस्टर नगोय ने कथित तौर पर महिला को टटोलना, परेशान करना और मारपीट करना जारी रखा। इस दौरान साउथईस्टर्न पेनसिल्वेनिया ट्रांसपोर्टेशन अथॉरिटी (SEPTA) के कम से कम 24 ट्रेन स्टॉप मार्केट-फ्रैंकफोर्ड लाइन पर गुजरे।

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि हमले के एक भी गवाह ने 911 पर कॉल करने और हस्तक्षेप करने की जहमत नहीं उठाई जबकि बेघर माने जाने वाले व्यक्ति ने महिला के साथ मारपीट जारी रखी।

13 अक्टूबर को रात करीब 11 बजे हुए हमले की रात एक ही स्टॉप पर एक ही स्टॉप पर ट्रेन में सवार पुरुष और महिला दोनों को रिकॉर्ड किया गया था। पुरुष को पहले महिला के बगल में बैठा देखा गया और उसने बातचीत करने की कोशिश की। लेकिन धीरे-धीरे वह आक्रामक हो गया और उसके साथ छेड़छाड़ करने लगा। हमले को देखने वाले एक सेप्टा कर्मचारी ने 911 पर कॉल किया और अधिकारियों ने तीन मिनट के भीतर जवाब दिया।

अधिकारियों ने कहा कि जब तक ट्रेन अपने अंतिम पड़ाव पर पहुंची, अधिकारियों ने हमलावर को महिला से दूर खींच लिया। घटना सेप्टा के सर्विलांस कैमरों में कैद हो गई। इस बात की जांच की जा रही है कि क्या कुछ लोगों ने मारपीट की रिकॉर्डिंग की है।

सेप्टा के पुलिस प्रमुख थॉमस जे नेस्टेल ने कहा, "मैं आपको बता सकता हूं कि लोग इस महिला पर हमला करने की दिशा में अपना फोन पकड़े हुए थे।" उन्होंने आगे कहा: "हम चाहते हैं कि इस घटना से हर कोई नाराज और क्षुब्ध हो और सिस्टम को सुरक्षित बनाने के लिए दृढ़ हो।"

आरोपी व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया है और बलात्कार और हमले के आरोप में आरोपित किया गया है। उसे सोमवार 25 अक्टूबर को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

गिरफ्तारी के हलफनामे के अनुसार, ऐसा प्रतीत होता है कि महिला ने मिस्टर नोय को बार-बार धक्का दिया। अदालत के दस्तावेजों से पता चलता है कि महिला ने कहा कि उससे दूर जाने की उसकी दलीलों को नजरअंदाज कर दिया गया।

आरोपी के पुलिस बयान से पता चलता है कि उस व्यक्ति ने पीड़िता को जानने का दावा किया था लेकिन उसे उसका नाम याद नहीं था या वह कौन थी। उसने दावा किया कि बलात्कार आपसी सहमति से हुई थी। आरोपी ने अपने अंतिम पते के रूप में एक बेघर आश्रय को सूचीबद्ध किया है।

गवाहों की चुप्पी से निराश, सेप्टा (SEPTA) ने एक बयान जारी किया और इसे एक "भयानक आपराधिक कृत्य" कहा, इस तरह की घटनाओं को देखने वाले लोगों से 911 डायल करके, प्रत्येक ट्रेन पर एक आपातकालीन बटन दबाकर या आपातकालीन सुरक्षा ऐप का उपयोग करके अधिकारियों को इसकी रिपोर्ट करने का आग्रह किया।

सेप्टा के बयान में कहा गया है, "ट्रेन में अन्य लोग भी थे जिन्होंने इस भयानक कृत्य को देखा, और अगर कोई सवार 911 पर कॉल करता तो इसे जल्द ही रोक दिया जाता।" महिला को अस्पताल ले जाया गया और हमले के बाद उसकी चोटों का इलाज किया गया।

Next Story

विविध

Share it