हाशिये का समाज

उत्तराखण्ड में जंगली पौधे की जहरीली पत्तियां खाने से गुर्जरों के 3 बच्चों की मौत, हरिद्वार इलाके की है घटना

Janjwar Desk
5 Dec 2022 4:23 AM GMT
उत्तराखण्ड में जंगली पौधे की जहरीली पत्तियां खाने से गुर्जरों के 3 बच्चों की मौत, हरिद्वार इलाके की है घटना
x
दो बच्चों की मौत के बाद बाकी बच्चों की हालत बिगड़ने पर बशीर (5 वर्ष) को ऋषिकेश के एम्स और आशिफा (6 वर्ष) को देहरादून के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया था। ऋषिकेश में इलाज के दौरान रविवार को बशीर की भी मौत हो गई...

देहरादून। राज्य के हरिद्वार जिले में जंगल में किसी जहरीले पौधे की पत्तियां खाने से गुर्जर समुदाय के तीन बच्चों की मौत हो गई। हरिद्वार जिले के बुग्गावाला क्षेत्र में जहरीली पत्तियां खाने वाले तीन बच्चों में से एक बच्चे की रविवार 4 दिसंबर को इलाज के दौरान मौत हुई है। जबकि इससे पहले दो बच्चों ने शनिवार 3 दिसंबर को इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। इसके साथ ही जहरीली पत्तियां खाने वाले एक और बच्चे का देहरादून के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है।

दरअसल हरिद्वार जिले बुग्गावाला क्षेत्र में बुधवा शहीद गांव के पास जंगल में ही इमरान और सद्दाम नाम के गुर्जर परिवार डेरा बनाकर रहते हैं। आम गुर्जरों की तरह यह भी पशुपालन से जुड़े हैं, जो दूध बेचने के काम से जुड़े हुए हैं। शुक्रवार 2 दिसंबर की देर शाम इस दोनों परिवारों के चार बच्चे शीबू (6 वर्ष), साजिया (6 वर्ष), बशीर (5 वर्ष) और आशिफा (6 वर्ष) घूमते हुए जंगल की तरफ चले गए। जंगल में घूमने के दौरान ही इन बच्चों ने जंगल में किसी जहरीले पेड़ की पत्तियों को खा लिया था। देर शाम चारों बच्चे जब अपने डेरे पर पहुंचे तो उन्हें उल्टियां शुरू हो गई। इसी के साथ सभी बच्चे बेहोश हो गए। बच्चों की हालत खराब होते देख आनन-फानन में परिजन उन्हें नजदीकी अस्पताल ले गए थे। जहां इलाज के दौरान शीबू (6 वर्ष) पुत्री सद्दाम की मौत हो गई। शेष तीनों बच्चों के इलाज की कोशिश की गई। लेकिन इसके बाद भी शनिवार को इलाज के दौरान साजिया (6 वर्ष) पुत्री इमरान की भी मौत हो गई थी।

दो बच्चों की मौत के बाद बाकी बच्चों की हालत बिगड़ने पर बशीर (5 वर्ष) को ऋषिकेश के एम्स और आशिफा (6 वर्ष) को देहरादून के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया था। ऋषिकेश में इलाज के दौरान रविवार को बशीर की भी मौत हो गई, जबकि अस्पताल में भर्ती आशिफ़ा की हालत नाजुक बनी हुई है।

इससे पूर्व दो बच्चों की मौत के बाद परिजनों ने उनका पुलिस को सूचना दिए बिना अंतिम संस्कार कर दिया। इस मामले में हरिद्वार के एसपी देहात एसके सिंह ने बताया कि अभी तक उन्हें तीन बच्चों की मौत की जानकारी मिली है। जबकि चौथा बच्चा देहरादून के अस्पताल में भर्ती है। पुलिस अपने स्तर पर मामले की छानबीन कर रही है। वन विभाग के अधिकारियों को घटना से अवगत करा दिया गया है।

दूसरी ओर पुलिस ने इस दर्दनाक घटना के बाद इलाके में जहरीले पौधों को नष्ट करने का अभियान चलाते हुए लोगों को इन जहरीले पौधों के प्रति जागरूक किया। हरिद्वार पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि खानपुर वनरेंज में जहरीले पौधे के बीज खाने से तीन बच्चों की मृत्यु के मामले में एसएसपी हरिद्वार अजय सिंह के दिशानिर्देश पर विषैले पौधों का नष्टीकरण किया गया है। इसके साथ ही लोगों को पनवाड़ के पौधे के बारे में जानकारी दी गयी और जागरूक किया गया कि वे पनवाड़ के पौधे को डेरों के आस पास न उगने दें और अपने बच्चों को पनवाड़ के पौधों से दूर रखें जिससे भविष्य में ऐसी घटना न हो सके।

Next Story

विविध