सिक्योरिटी

कश्मीर में आतंकियों ने स्कूल प्रिंसिपल और शिक्षक को उतारा मौत के घाट, परिजनों ने लाश के साथ दिया धरना

Janjwar Desk
8 Oct 2021 2:08 PM GMT
कश्मीर में आतंकियों ने स्कूल प्रिंसिपल और शिक्षक को उतारा मौत के घाट, परिजनों ने लाश के साथ दिया धरना
x

कश्मीर में स्कूल प्रिंसिपल सुपिंदर कौर को आतंकियों ने उतारा मौत के घाट, बिलखते परिजन (photo janjwar)

आतंकियों की गोली की शिकार बनीं स्कूल प्रिंसिपल सुपिंदर कौर के परिजनों ने कहा जिस इस्लाम के नाम पर ये लोग खून-खराबा करते हैं, वह तो इस तरह की हत्याओं खासतौर पर महिलाओं की हत्या को जायज नहीं ठहराता, ये आतंकी इस्लाम के नाम पर कुकर्म कर रहे हैं...

Terror Attack in Jammu & Kashmir, जनज्वार। कल 7 अक्टूबर को जम्मू-कश्मीर में सफाकदल इलाके में एक स्कूल के अंदर घुसकर आतंकियों ने प्रिंसिपल सुपिंदर कौर और शिक्षक दीपक चंद को मौत के घाट उतार दिया था। उससे पहले एक जाने माने कैमिस्ट बिंद्रू को भी गोलियों से भून डाला था, जिसके बाद से घाटी में अल्पसंख्यकों के सम​र्थन में जबर्दस्त माहौल बना हुआ है। स्कूल प्रिंसिपल सुपिंदर कौर की हत्या के विरोध में आज शुक्रवार 8 अक्टूबर को श्रीनगर में विरोध प्रदर्शन किया गया।

आतंकियों की गोली का शिकार बनी स्कूल प्रिंसिपल सुपिंदर कौर के परिजनों ने न्याय के लिए आयोजित धरना-प्रदर्शन में आतंकियों को चेताया कि वह उनकी इन कायराना हरकतों से डरने वाले नहीं हैं। प्रदर्शनकारी बोले सिखों को कश्मीर से बेदखल करने की साजिश हो रही है, मगर इस तरह हमें मारने से हम नहीं डरेंगे। साथ ही यह भी कहा कि जिस इस्लाम की रक्षा का दावा ये आतंकी करते हैं, वह इस्लाम तो इस तरह की हत्याओं खासतौर पर महिलाओं की हत्या को जायज नहीं ठहराता। ये आतंकी इस्लाम के नाम पर कुकर्म कर रहे हैं।

photo : janjwar

गौरतलब है कि आज 8 अक्टूबर को मारी गए स्कूल प्रिंसिपल सुपिंदर कौर के परिवार के सदस्यों और रिश्तेदारों नेनागरिक सचिवालय श्रीनगर के बाहर धरना दिया और न्याय की मांग की।

सिख समुदाय के लोगों जिनमें अधिकांश सुपिंदर कौर के परिजन और रिश्तेदार थे, ने जनज्वार से हुई बातचीत में कहा कि स्कूल प्रिंसिपल सुपिंदर कौर की उनके सहयोगी दीपक चंद के साथ गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। प्रदर्शनकारियों ने अलोचीबाग से सिविल सचिवालय तक पैदल धरना प्रदर्शन किया और कौर के परिवार के सदस्य उनके शव को स्ट्रेचर पर लेकर नागरिक सचिवालय पहुंचे।'

जब वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और सुपिंदर कौर के परिवार के सदस्यों को किसी तरह उनके शव को अंतिम संस्कार के लिए बटमालू श्मशान घाट ले जाने के लिए राजी किया। हालांकि मारे गए कौर के परिवार के सदस्यों ने श्मशान घाट के लिए आगे बढ़ने से पहले "हत्यारों को न्याय और कड़ी सजा" की मांग की।

गौरतलब है कि कश्मीर के डाउनटाउन इलाके के ईदगाह स्थित सरकारी ब्वॉयज हायर सेकेंडरी स्कूल में घुसकर आतंकियों ने प्रिंसिपल समेत दो अल्पसंख्यक शिक्षकों की हत्या कर दी थी। 7 अक्टूबर गुरुवार को हुए इस आतंकी हमले में सिख समुदाय से जुड़ीं बडगाम की रहने वाली प्रिंसिपल सुपिंदर कौर और शिक्षक जम्मू के दीपक चंद की मौके पर ही मौत हो गई थी। गोलियां बरसाने के बाद आतंकी मौके से भाग निकले। इस आतंकी वारदात के बाद पूरे इलाके में तलाशी अभियान चलाया गया, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला।

photo : janjwar

पिछले पांच दिनों में आतंकवादियों ने सात आम नागरिकों को मौत के घाट उतार दिया है, जिसमें चार अल्पसंख्यक समुदाय से हैं। इनमें से 6 सिर्फ श्रीनगर में हुई हैं। कल 7 अक्टूबर की सुबह करीब सवा 11 बजे आतंकियों ने स्कूल परिसर में घुसकर प्रिंसिपल सुपिंदर कौर और शिक्षक दीपक चंद पर अंधाधुंध गोलियां बरसाईं। दोनों लहुलूहान हो गये। स्टाफ रूम में मौजूद अन्य शिक्षक मौके पर पहुंचे। उन्होंने तत्काल उन्हें अस्पताल पहुंचाया, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। ये बात अच्छी है कि आनलाइन कक्षाओं के चलते स्कूल में बच्चे मौजूद नहीं थे।

Next Story

विविध

Share it