Top stories

Bareilly News : बलात्कारी दबंगों का दलाल बना दरोगा, 500 की दो गड्डियों में किया नाबालिग की इज्जत का सौदा

Janjwar Desk
20 Sep 2021 11:24 AM GMT
Bareilly news
x
बरेली में इज्जत का दलाल बना दरोगा (प्रतीकात्मक तस्वीर)
दरोगा ने बच्ची की मां के हाथ में 500 के नोटों की दो गड्डियां देते हुए समझौता करने का दबाव बनाया। जिसपर बच्ची की मां ने गड्डियां दरोगा के मुँह पर फेंकते हुए समझौते से इनकार कर दिया...

मनीष दुबे की रिपोर्ट

Bareilly News (जनज्वार) : उत्तर प्रदेश की पुलिस मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) से भी उपर हो गई है। क्योंकि अगर नीचे होती तो सीएम के आदेश के बाद फोन जरूर उठाती। अब फोन न उठाकर योगी के आदेश का पालन ना करने पर पुलिस को उनसे उपर नहीं तो क्या नीचे माना जाएगा? सबसे पहले शर्म की बात यही है।

दूसरी शर्मनाक बात प्रदेश के जनपद बरेली (District Bareilly) से सामने आई है। यहां के थाना भुता पुलिस ने एक मजदूर की 9 वर्षीय बेटी की लुटी इज्जत की कीमत लगा डाली। हो सकता है कि इस दरोगा के कोई औलाद ना हो जिसके चलते उसे किसी गरीब बच्ची या महिला की इज्जत आबरू की कीमत ना पता हो। इस बेशर्म दरोगा ने मजदूर की बच्ची के साथ हुए दुष्कर्म की कीमत एक लाख रुपये लगाई है।

जानकारी करने पर एसएसपी बरेली के पीआरओ (SSP PRO) ने थानेदार भुता का नाम अश्वनी कुमार (SHO Ashwini Kumar) बताया। इस दरोगा ने बच्ची की मां के हाथ में 500 के नोटों की दो गड्डियां देते हुए समझौता करने का दबाव बनाया। जिसपर बच्ची की मां ने गड्डियां दरोगा के मुँह पर फेंकते हुए समझौते से इनकार कर दिया।

जनपद बरेली के इसी थाने का है मामला

इस सबके बाद भी दरोगा ने बेशर्मी का चोला नहीं उतारा। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। मजबूर होकर गरीब पीड़िता की मां ने एसएसपी बरेली रोहित सिंह सजवान (SSP Rohit Singh Sajwan) की चौखट पर न्याय मांगने पहुँची। हालांकि, शिकायत के बाद एसएसपी के आदेश पर दो दिन बाद मुकदमा दर्ज हो सका है।

दरअसल, थाना भुता के एक गांव का मजदूर बेहद गरीबी हालत में अपने घर का पालन पोषण कर रहा है। शुक्रवार 17 सितंबर को उनकी बेटी बदहवास हालत में खून से लथपथ होकर घर पहुंची तो परिवार में कोहराम मच गया। बदहवास सी हालत में घर पहुँची बेटी ने परिजनो को पूरी बात बताई।

परिवार के लोग बेटी के साथ रेप करने वाले आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए थाने पहुंचे। थाने से पुलिस ने जांच करके कार्रवाई करने का भरोसा देकर टरका दिया। इसके बाद गांव के दबंग रेप का सौदा करने लगे। गांव में पंचायत हुई। मजदूर को एक लाख का लालच दिया गया लेकिन पीड़ित परिवार किसी कीमत पर मानने को तैयार नहीं हुआ।

जब परिवार समझौते के लिए तैयार नहीं हुआ तो दरोगा अश्वनी कुमार दलाल (SHO Ashwini Kumar) की भूमिका में आ गया। उसने आरोपी दबंगों से 500 रुपये की दो गड्डियां ले जाकर बच्ची की मां के हाथ में देकर समझौता करने की बात कही मगर महिला ने दरोगा के मुँह पर गड्डियां फेंक दीं और रोती हुई वहां से चली गई। दबंग उसे देख लेने की धमकी भी देते रहे।

दो दिन तक थाने के चक्कर काटने के बावजूद जब पुलिस ने कार्रवाई नहीं की तो परेशान होकर मजदूर एसएसपी (SSP Bareilly) से गुहार लगाने पहुंच गी। जिसके बाद एसएसपी बरेली के आदेश पर दो दिन बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया। घटना के बाद मजदूर का पूरा परिवार दहशत में है। वहीं, बेटी की हालत चिंताजनक बनी हुई है।

इस पूरे मामले में एसएसपी बरेली रोहित सिंह सजवान ने बताया कि, 'थाना भुता अन्तर्गत 9 वर्षीय बालिका के माता-पिता के द्वारा थाने पर तहरीर दी गयी कि उनके पड़ोस के रहने वाले 13 वर्षीय लड़के द्वारा उनकी बालिका के साथ दुष्कर्म किया गया है। इसके बाद पुलिस द्वारा पाक्सो एक्ट के अन्तर्गत मुकदमा पंजीकृत किया गया है। साथ ही बालिका के 164 के बयान कराकर उसे मेडिकल परीक्षण के लिए भेजा गया है।

एसएसपी द्वारा इस मामले में जांच अधिकारी नियुक्त किए गये एसपी ग्रामीण राजकुमार (SPRA Bareilly Rajkumar) को जनज्वार संवाददाता ने फोन लगाया तो फोन नहीं उठाया गया। हमने फिर फोन किया तो फोन उटाकर काट दिया गया। इसके बाद कई फोन करने पर फोन उठा ही नहीं। फिर हमने यह समझकर फोन नहीं किया की शायद एसपी कहीं सीएम (CM) के आगे खड़ा ना हो। जिसमें बिजी भी हो सकता है।

Next Story

विविध