Top stories

Top 10 News Today : यूपी में वक्फ की संपत्तियों का भी होगा सर्वे, साइबर हमलों में भारतीय स्वास्थ्य सेवा नंबर दो पर, पढ़ें अहम खबरें

Janjwar Desk
21 Sep 2022 2:29 AM GMT
Top 10 News : मदरसों के बाद वक्फ संपत्तियों का भी होगा सर्वे, साइबर हमलों में भारतीयय स्वास्थ्य सेवा उद्योग दुनिया में नंबर दो पर, पढ़ें अहम खबरें
x

Top 10 News : मदरसों के बाद वक्फ संपत्तियों का भी होगा सर्वे, साइबर हमलों में भारतीयय स्वास्थ्य सेवा उद्योग दुनिया में नंबर दो पर, पढ़ें अहम खबरें

Top 10 News Today : उत्तर प्रदेश के मदरसों के बाद अब सरकार वक्फ की संपत्तियों का भी होगा सर्वे। आरएएसएस प्रमुख भागवत ने की मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मुलाकात। साइबर अटैक मामले में भारतीस स्वास्थ्य सेवा उद्योग दुनिया में नंबर दो पर। फ्रांस के राष्ट्रपति ने किया मोदी का समर्थन।

1. UP में मदरसों के बाद अब सरकार वक्फ संपत्तियों का भी होगा सर्वे

उत्तर प्रदेश के मदरसों ( Madarsa ) के बाद अब सरकार वक्फ संपत्तियों ( Waqf Board properties Survey ) को लेकर बड़ा कदम उठाने जा रही है। मदरसों के सर्वे की तर्ज पर अब वक्फ संपत्तियों का भी सर्वे कराया जाएगा, जिसकी तमाम तैयारियां पूरी की जा रही है। उत्तर प्रदेश में शिया- सुन्नी वक्फ बोर्ड में बड़ी संख्या में वक्फ संपत्तियां दर्ज है जिसमे भ्रष्टाचार की शिकायतें आम है, लेकिन अब एक महीने के अंदर इन संपत्तियों की जांच सरकार कराने जा रही है।

2. साइबर हमलों में भारतीय स्वास्थ्य सेवा उद्योग दुनिया में दूसरे स्थान पर

साइबर हमलों ( Cyber attack ) के मामले में भारतीय स्वास्थ्य सेवा उद्योग ( Indian healthcasr industry ) दुनिया में दूसरे स्थान पर है। अमेरिका पहले स्थान पर है। साइबर सुरक्षा फर्म क्लाउडसेक की मंगलवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक 2021 के दौरान दुनियाभर में स्वास्थ्य सेवा उद्योग पर हुए कुल साइबर हमले में देश की 7.7 फीसदी हिस्सेदारी थी। वैश्विक स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में साइबर हमलों में वृद्धि रिपोर्ट में फर्म ने कहा - इस क्षेत्र में साइबर हमलों के 28 फीसदी मामलों के साथ अमेरिका का दुनिया में पहला स्थान है। भारत के स्वास्थ्य सेवा उद्योग पर 2021 में 71 लाख से अधिक साइबर हमले हुए। इस तरह 7.7 फीसदी हिस्सेदारी के साथ भारत का दुनिया में दूसरा स्थान रहा। फर्म ने बताया कि स्वास्थ्य सेवा उद्योग में तकनीकी प्रगति के कारण साइबर हमले बढ़े हैं। क्लाउडसेक भारतीय साइबर सुरक्षा निगरानी संस्था सीईआरटी.इन को साइबर खतरे की खुफिया जानकारी देती है।

3. मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मिले संघ प्रमुख मोहन भागवत, सांप्रदायिक सौहार्द मजबूत करने पर हुई चर्चा

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ( RSS ) प्रमुख मोहन भागवत ( Mohan Bhagwat ) ने कई मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मुलाकात की और हाल के विवादों और देश में धार्मिक समावेश को मजबूत करने के तरीकों पर उनसे चर्चा की। आरएसएस प्रमुख से मिलने वालों में पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त एसवाई कुरैशी और दिल्ली के पूर्व उपराज्यपाल नजीब जंग समेत कई मुस्लिम बुद्धिजीवियों शामिल थे। यह बैठक ऐसे समय में हुई है जब ज्ञानवापी मस्जिद के मुद्दे पर अदालतों में सुनवाई हो रही है। बैठक में देश में सांप्रदायिक सद्भाव को मजबूत करने के लिए एक मंच बनाने का निर्णय लिया गया है। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति लेफ्टिनेंट जनरल सेवानिवृत्त जमीरुद्दीन शाह, पूर्व सांसद शाहिद सिद्दीकी और परोपकारी सईद शेरवानी भी उन मुस्लिम बुद्धिजीवियों में शामिल थे जिन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दिल्ली स्थित अस्थायी कार्यालय उदासीन आश्रम में बंद कमरे में मोहन भागवत से मुलाकात की।

4. गुजराती फिल्म छेल्लो शो ऑस्कर के लिए नॉमिनेट, कश्मीर फाइल्स को पछाड़ा

ऑस्कर 2023 के लिए भारत की तरफ से फिल्म छेल्लो को बेस्ट इंटरनेशनल फीचर फिल्म कैटेगरी के लिए नॉमिनेट किया गया है। ये एक गुजराती फिल्म है जिसे पान नलिन ने लिखा और डायरेक्ट किया है। फिल्म की पूरी कहानी गांव के एक बच्चे पर बुनी गई है। 110 मिनट की फिल्म छेल्लो शो की ऑस्कर में एंट्री से सारे प्रिडिक्टर्स शॉक हैं क्योंकि लंब समय से कयास लगाए जा रहे थे कि ऑस्कर के लिए द कश्मीर फाइल्स को नॉमिनेट किया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। अब फिल्म फेडरेशन ऑफ इंडिया ने 20 सितंबर को ऑस्कर 2023 के लिए भारत की तरफ से छेल्लो शो को भेजे जाने की ऑफिशियल अनाउंसमेंट कर दी है।

5. शादी सिर्फ शारीरिक सुख के लिए नहीं, यह परिवार बढ़ाने के लिए भी होता है मद्रास हाईकोर्ट

मद्रास हाईकोर्ट ( Madrass High court ) ने शादी ( Marriage ) और बच्चों की परवरिश को लेकर अहम टिप्पणी की है। हाईकोर्ट का कहना है कि शादी सिर्फ शारीरिक सुख के लिए नहीं होतीए बल्कि लोग अपना परिवार आगे बढ़ाने के लिए इस पवित्र बंधन में बंधते हैं। शादी के बाद जन्म लेने वाला बच्चा पति.पत्नी को जोड़ने का काम करता है। इससे उनका रिश्ता मजबूत होता है। जस्टिस कृष्णन रामास्वामी ने एक वकील दंपति के बीच बच्चे की कस्टडी के केस पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि पति-पत्नी के बीच प्यार खत्म हो सकता है, उसका रिश्ता भी खत्म हो सकता हैए लेकिन माता और पिता के रूप में बच्चे के साथ उनका रिश्ता खत्म नहीं होता। चाहे कोई महिला या पुरुष दूसरी या तीसरी शादी भी क्यों न कर लेए लेकिन बच्चों के लिए वह हमेशा माता.पिता ही रहते हैं।

6. HIV की दवा पर केंद्र को नोटिस, अब दो दिन में निकाल सकेंगे पेंशन का पैसा

सुप्रीम कोर्ट ने एचआईवी ( HIV ) पॉजिटिव मरीजों के लिए इलाज में इस्तेमाल होने वाली एंटीरेट्रोवाइरल की कमी के बारे में एक एनजीओ की याचिका पर मंगलवार को केंद्र सरकार व अन्य को नोटिस जारी किया है। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस हिमा कोहली की पीठ ने स्वास्थ्य मंत्रालय राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन व अन्य को नोटिस जारी कर दो हफ्ते में जवाब मांगा है।

7. प्रवर्तन निदेशालय को दी जा सकती है अमानतुल्लाह खान मामले की जांच

वक्फ बोर्ड में कर्मचारियों की भर्ती में हुए भ्रष्टाचार के मामले में गिरफ्तार किए गए आम आदमी पार्टी विधायक अमानतुल्लाह खान की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। भ्रष्टाचार मामले की जांच करने के दौरान विधायक के करीबियों के पास से मिले रजिस्टर और डायरियों में करोड़ों की लेनदेन का पता चला है। करोड़ों की लेनदेन को देखते हुए जांच प्रवर्तन निदेशालय ( ED ) से करवाने पर विचार किया जा रहा है। माना जा रहा है कि एक या दो दिनों के भीतर इस पर कोई फैसला लिया जा सकता है। दूसरी ओर बुधवार को अमानतुल्लाह की रिमांड समाप्त हो रही है। एसीबी की टीम विधायक को कोर्ट में पेश करेगी। सूत्रों का कहना टीम विधायक की एक सप्ताह रिमांड बढ़ाने की सिफारिश करेगी। वहीं विधायक के करीबी कौसर इमाम उर्फ लड्डन अब भी फरार हैं। पुलिस और एसीबी उसकी तलाश कर रही है।

8. 27 से फर्जी सर्टिफिकेट के आधार पर वेतन लेता रहा मेरठ का एक सहायक शिक्षक, अब हुआ खुलासा

मेरठ में फैज ए आम इंटर कॉलेज में 27 वर्ष दो महीने से तैनात सहायक अध्यापक तैयब अली, बीएड की डिग्री और मार्कशीट निकली फर्जी निकली। एसआईटी की रिपोर्ट के बाद तैयब को बर्खास्त कर दिया गया है। तैयब ने वेतन के रूप में कॉलेज से करीब एक करोड़ रुपये लिए हैं। शास्त्रीनगर निवासी राहत अली ने दो साल पहले तैयब अली की डिग्री और मार्कशीट फर्जी होने की शिकायत शासन से की थी। जिलाधिकारी के निर्देशन में गठित एसआईटी ने महर्षि दयानंद विवि रोहतक से डिग्री और मार्कशीट का सत्यापन कराया। विवि ने बताया कि तैयब ने उनके यहां से बीएड नहीं किया है। एसआईटी की रिपोर्ट के बाद डीएम ने बर्खास्तगी के लिए शासन को पत्र लिखा। अब कॉलेज के प्रबंधक डॉ वली अहमद ने प्रधानाचार्य जुल्फिकार अली को पत्र लिख तैयब की सेवा समाप्ति की सूचना दी है। उन्होंने कहा कि फर्जीवाड़ा करने वालों की कॉलेज में कोई जगह नहीं है।

9. पाक अब कश्मीर में दोहरे तरीके से बढ़ा रहा आतंकवाद

पाकिस्तान ( Pakistan ) भले ही आम मंचों पर भारत की तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाने और आतंकवाद पर काबू पाने की बातें करता हो लेकिन उसकी कथनी और करनी में अब भी बड़ा अंतर है। आतंकी गतिविधियों पर नजर रखने वाली पत्रिकाओं में प्रकाशित लेखों में फिर उसका असली चेहरा उजागर किया गया है। इनमें बताया गया है कि पाकिस्तान कश्मीर में आतंकवाद ( Terrorism ) की आग भड़काने के लिए अब दोहरा तरीका अपना रहा है। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई आतंकी संगठनों की मदद कर रही है और दूसरी तरफ ड्रग्स और हथियारों की तस्करी कर पड़ोसी देश कश्मीर को अशांत करने की साजिशों में लगा हुआ है। इनमें बताया गया है कि पाकिस्तान कश्मीर में आतंकवाद की आग भड़काने के लिए अब दोहरा तरीका अपना रहा है। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई आतंकी संगठनों की मदद कर रही है और दूसरी तरफ ड्रग्स और हथियारों की तस्करी कर पड़ोसी देश कश्मीर को अशांत करने की साजिशों में लगा हुआ है।

10. फ्रांस के राष्ट्रपति ने किया पीएम मोदी का समर्थन, कहा - यह युद्ध का समय नहीं

न्यूयॉर्क में चल रहे संयुक्त राष्ट्र महासभा के 77वें उच्च स्तरीय सत्र में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस बयान का समर्थन किया है जिसमें उन्होंने कहा था कि यह समय युद्ध का नहीं है। बता दें कि हाल ही में शंघाई सहयोग संगठन की वार्षिक बैठक के इतर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से द्विपक्षीय बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि यह समय युद्ध का नहीं है। मोदी ने यह बात रूस यूक्रेन युद्ध को लेकर कही थी। फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहाए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सही कहा था कि यह समय युद्ध का नहीं है। यह पश्चिम से बदला लेने का समय नहीं हैए या पूर्व के खिलाफ पश्चिम के विरोध का समय नहीं है। आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए यह हमारे संप्रभु समान देशों के साथ आने का समय है।

Next Story

विविध