Up Election 2022

Pilibhit News: टिकैत ने की वोटरों से बीजेपी को सजा देने की अपील, जारी की चिट्ठी

Janjwar Desk
15 Feb 2022 6:34 PM GMT
Pilibhit News: टिकैत ने की वोटरों से बीजेपी को सजा देने की अपील, जारी की चिट्ठी
x

Pilibhit News: टिकैत ने की वोटरों से बीजेपी को सजा देने की अपील, जारी की चिट्ठी

Pilibhit news: पीलीभीत में भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kishan Unian) के राष्ट्रीय प्रवक्ता (National Spokesman) राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) खुद को अराजनीतिक बताते हुए संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से पंपलेट जारी कर उत्तर प्रदेश में चल रहे विधानसभा चुनाव में किसान विरोधी भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) को सजा देने का आह्वान कर गए।

पीलीभीत से निर्मल कांत शुक्ल की रिपोर्ट

Pilibhit news: पीलीभीत में भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kishan Unian) के राष्ट्रीय प्रवक्ता (National Spokesman) राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) खुद को अराजनीतिक बताते हुए संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से पंपलेट जारी कर उत्तर प्रदेश में चल रहे विधानसभा चुनाव में किसान विरोधी भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) को सजा देने का आह्वान कर गए। चुटकी लेते हुए बोले- हम तो अराजनीतिक व्यक्ति हैं। वोट की तो बात करते नहीं हैं, जिसको जहां वोट देना है दे ले। किसान को आधे रेट पर अपनी फसलें बेचकर वोट कहां देनी है ? दे ले। 12 रुपए के रेट पर बिजली लेकर वोट कहां देनी है दे ले। हम तो सिर्फ बात बताते हैं। हम वोट की बात करते ही नहीं है।

किसान नेता राकेश टिकैत सोमवार को शहर में होटल में मीडिया से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि भाजपा के पिछले और अब के घोषणापत्र में कोई अंतर नहीं है। 400 का सिलेंडर चुपके से 1000 का हो गया, पता ही नहीं चला। आज सरकार से कौन नहीं नाराज है। जनता बीजेपी को सजा देगी।

श्री टिकैत ने कहा कि हम चाहते हैं कि चुनाव में योगी आदित्यनाथ भी जीतें और अखिलेश यादव भी जीतें ताकि विपक्ष भी मजबूत रहे क्योंकि एक मुख्यमंत्री बनेगा तो दूसरा विपक्ष। लेकिन हमें नहीं पता कौन मुख्यमंत्री बनेगा। किसान नेता बोले कि ऐसी तानाशाह सरकार तो फिर नहीं आनी चाहिए। इनको दवाई की जरूरत है। पश्चिम बंगाल में दवाई दी तो थोड़ा थोड़ा असर दिखने लगा। उत्तर प्रदेश में जनता परिवर्तन चाहती है। परिवर्तन तो जिला पंचायत के चुनाव में भी जनता ने चाहा तो बीजेपी के तीन सदस्य और अध्यक्ष इनका बन गया, पता नहीं कौन सा फार्मूला था। अब फैसला जनता को करना है कि क्या ऐसी तानाशाह सरकार चाहिए ?

किसान नेता ने मोदी और योगी का नाम लिए बगैर कहा कि इस देश में दुनिया का दूसरा किम जोंग पैदा हो गया है। श्री टिकैत ने कहा कि देश में जब तक आंदोलन और आंदोलनकारी रहेंगे तो सरकारें ठीक रहेंगी। प्रेस कॉन्फ्रेंस में भारतीय किसान यूनियन के मंडल अध्यक्ष सतविंदर सिंह कहलो, किसान नेता व यूनाइटेड अकाली दल के प्रदेश अध्यक्ष हरजिंदर सिंह कहलो, शिवकुमार कक्का जी आदि मौजूद रहे।


नोटा का कतई ना करें इस्तेमाल

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कहा कि सरकार से नाराजगी में कोई भी मतदाता नोटा का बिल्कुल भी इस्तेमाल ना करें। यह ऑप्शन सत्ताधारी दल ने अपने फायदे के लिए बनाया है। नोटा के इस्तेमाल का मतलब सीधे-सीधे भाजपा को फायदा पहुंचाना। इसलिए जिसे वोट देना है, उसे वोट दें मगर नोटा का बटन कतई ना दवाएं।

देश में तैयार हो रही अनपढ़ लेबर

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने आम जनमानस से अपील की कि चुनाव में सरकार के लोग जब आपके बीच में उनसे सवाल जरूर करो। सवाल जवाब करें, हॉस्पिटल का। बच्चों के बंद हुए स्कूल का। मतलब स्कूल बंद रहेंगे ? स्कूलों में कोरोना काल चल रहा है, लेकिन नेताओं की बड़ी-बड़ी सभाएं हो सकती हैं। बाजार खुल सकते हैं, उसके लिए कोई कोरोना काल नहीं है। स्कूल बंद किए जाने पर सवाल खड़े करते हुए श्री टिकैत ने कहा कि देश में अनपढ़ लेबर तैयार की जा रही है। सरकार के इस षड्यंत्र का अब पता चल गया है।


सरकार गुंडागर्दी पर आमादा

किसान नेता राकेश टिकैत ने मीडिया से रूबरू होकर कहा कि किसान आंदोलन के दौरान सरकार ने जो वादे किए थे, वह पूरे नहीं कर रही है। सरकार गुंडागर्दी पर उतर आई है। हमने कहा- बिजली पर बात कर लो। आस-पड़ोस के राज्यों से बिजली के रेट ले लिए जाएं। पंजाब में किसानों को बिजली फ्री है। हरियाणा में 15 रुपए हॉर्स पावर का रेट है जबकि यूपी में ₹175 रेट है यानी 12 गुना अधिक रेट। उन्होंने सवाल किया कि क्या किसान की फसल 12 गुना पर बिक रही है ? एमएसपी पर खरीद होती नहीं है। तराई की मंडियों का क्या हाल है, सबको पता है। किस तरह से केंद्रों पर खरीद-फरोख्त हुई, हर कोई जानता है। दिल्ली में जो जो भी वादे सरकार ने किए थे, कोई पूरे नहीं हुए। पूरी तरह से सरकार का रवैया तानाशाही है। इसलिए सरकारों से प्रश्न जरूर करो। 13 महीने में हमें तो दिल्ली में सरकार नहीं मिली अगर चुनाव में गांव में आ रही हो तो उससे सवाल जवाब जरूर करिए।

उत्तराखंड की घटना पर टिकैत गंभीर

पड़ोसी राज्य उत्तराखंड के जनपद उधम सिंह नगर की कोतवाली खटीमा की 17 मील पुलिस चौकी क्षेत्र में घर में घुसकर किसान को गोली मारे जाने की घटना को भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी करार देते हुए राकेश टिकैत ने कहा कि उनके परिजन पीलीभीत में न्याय के लिए मिलने आए हैं, वह इस मामले में बेहद गंभीर है। किसानों ने चौकी घेर रखी है।

किसानों के नाम टिकैत की पाती

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से पीलीभीत में मीडिया के समक्ष जारी किसानों को संबोधित चिट्ठी में कहा कि हम कभी मिले नहीं हैं लेकिन मेरी इज्जत आपके हाथ में हैं, किसान आंदोलन का एक सिपाही होने के नाते मैं आपको अपना सगा समझकर चिट्ठी लिख रहा हूं। चिट्ठी को ध्यान से पढ़ना। चिट्ठी में सबसे पहले चुनाव में किसान विरोधी बीजेपी को सजा देने की अपील की गई। इस चिट्ठी में कहा गया कि विधानसभा का चुनाव है इसलिए देशभर के किसानों की तरफ से हाथ जोड़ कर अपील है कि इस किसान विरोधी बीजेपी को चुनाव में सजा दें। सजा कैसे देंगे, यह मुझे बताने की जरूरत नहीं है। आप खुद समझदार हैं और हां भाजपा का जो नेता आपसे वोट मांगने आए, उससे किसानों के मुद्दे पर सवाल जरूर पूछें। एक किसान ही किसान का दर्द समझ सकता है। वोट डालते समय 750 सहित किसानों का चेहरा और इस चिट्ठी को याद रखना। प्रेस कॉन्फ्रेंस में जारी पंपलेट पर अपील कर्ताओं में डॉ. दर्शन पाल, हत्रान मोल्ला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, शिवकुमार (कक्का जी), राकेश टिकैत, युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव का नाम लिखा गया है।

Next Story

विविध