Up Election 2022

UP Election 2022 : बेटे पर FIR के बाद स्वामी प्रसाद मौर्य को मिला EC का नोटिस, पूर्व मंत्री ने BJP पर इस तरह साधा निशाना

Janjwar Desk
4 March 2022 2:59 PM GMT
श्रीकांत त्यागी केस : स्वामी प्रसाद मौर्य ने नोएडा पुलिस आयुक्त पर लगाया मानहानि का आरोप, नोटिस भेजकर मांगे साढ़े 11 करोड़ रुपये
x

श्रीकांत त्यागी केस : स्वामी प्रसाद मौर्य ने नोएडा पुलिस आयुक्त पर लगाया मानहानि का आरोप, नोटिस भेजकर मांगे साढ़े 11 करोड़ रुपये 

UP Election 2022 : पुलिस ने स्वामी प्रसाद मौर्य को नोटिस जारी करते हुए जवाब तलब किया है, वहीं उनके बेटे के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें जिले की सीमा से बाहर भेज दिया है.....

UP Election 2022 : उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान कुशीनगर जिले की फाजिलनगर विधानसभा क्षेत्र से समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के उम्मीदवार और पूर्व राज्य मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की मुश्किलें बढ़ती नज़र आ रही हैं। बता दें कि इससे पहले उनके बेटे के खिलाफ निर्वाचन आयोग के नियमों का उल्लंघन करने को लेकर पुलिस ने उनके खिलाफ केस दर्ज कर दिया है।

पुलिस ने स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) को नोटिस जारी करते हुए जवाब तलब किया है, वहीं उनके बेटे के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें जिले की सीमा से बाहर भेज दिया है। इधर स्वामी प्रसाद की बेटी संघमित्रा भी अब ठीक उस भूमिका में आ चुकी हैं जो भूमिका इस वक्त भाजपा में रहते हुए वरुण गांधी निभा रहे हैं।

कुशीनगर में गुरुवार 3 मार्च को मतदान हुआ था और आरोप है कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने चुनाव के दौरान चुनाव आचार संहित का उल्लंघन किया है। फाजिलनगर विधानसभा क्षेत्र के आरओ आलोक राय ने जानकारी दी है कि स्वामी प्रसाद मौर्य पर आचार संहिता उल्लंघन का इल्जाम है। क्योंकि मौर्य ने बगैर अनुमति के चुनाव प्रचार खत्म होने के बाद रोड शो किया। जिस वजह से उन्हें नोटिस जारी करते हुए जवाब मांगा गया है।

गौरतलब है कि स्वामी प्रसाद मौर्य, चुनाव से ठीक पहले ही भाजपा को छोड़कर समाजवादी पार्टी में शामिल हुए हैं। पार्टी ने उन्हें कुशीनगर की फाजिलपुर विधानसभा सीट से टिकट दिया है।

वहीं, चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के इल्जाम में उनके बेटे अशोक मौर्य के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। फाजिलपुर में बाहरी होने के बाद भी उनके चुनाव क्षेत्र में होने की वजह से उन्हें जिले से बाहर निकाल दिया गया है। पुलिस का कहना है कि उन्हें उनके परिचितों को सौंपकर जिले की सरहद से बाहर भेज दिया गया है।

Next Story

विविध