Up Election 2022

Uttarakhand Election 2022 : अब इस भाजपा विधायक के अस्तित्व पर मंडराया खतरा, कांग्रेस हो सकती है अगली शरणस्थली

Janjwar Desk
13 Jan 2022 7:12 AM GMT
Uttarakhand Election 2022 : अब इस भाजपा विधायक के अस्तित्व पर मंडराया खतरा, कांग्रेस हो सकती है अगली शरणस्थली
x
Uttarakhand Election 2022 : लैंसडाउन से विधायक दिलीप रावत आज कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं। आज दिल्ली में कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक भी है जिसमें कांग्रेस के तमाम नेता दिल्ली में ही मौजूद रहेंगे.....

Uttarakhand Election 2022 : उत्तराखण्ड के चर्चित नेताओं में शुमार व वर्तमान में कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत (Harak Singh Rawat) अब अंदेशे के मुताबिक अपनी ही पार्टी के लैंसडाउन विधानसभा क्षेत्र के विधायक दिलीप सिंह रावत (Dilip Singh Rawat) के राजनैतिक जीवन पर फर्क डालने को आतुर हैं। रावत के विधानसभा क्षेत्र पर हरक की नजर जम चुकी है। खतरा भांपकर पहले ही हरक के खिलाफ मोर्चा खोल चुके रावत अपने राजनैतिक वजूद को बचाने के लिए कांग्रेस का दामन थामने जा रहे हैं, यह चर्चा जोरों पर है।

जानकारी के अनुसार लैंसडाउन से विधायक दिलीप रावत (Dilip Singh Rawat) आज कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं। आज दिल्ली में कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक भी है जिसमें कांग्रेस के तमाम नेता दिल्ली में ही मौजूद रहेंगे। ऐसे में दिलीप रावत की जॉइनिंग आज ही दिल्ली में हो सकती है।

मिल रही जानकारी के अनुसार भाजपा (BJP) विधायक दिलीप सिंह रावत की लैंसडाउन विधानसभा क्षेत्र से इस बार दिलीप की जगह हरक सिंह रावत की पुत्रवधू अनुकृति रावत को चुनाव लड़ने की तैयारी कर चुकी है। हरक सिंह रावत को इसकी जानकारी भी दी जा चुकी है। ऐसे में दिलीप रावत भाजपा के इस फैसले से खासे नाराज हैं। चंद रोज पहले उन्होंने हरक के खिलाफ सीधा मोर्चा खोलते हुए सीएम आवास पर धरना देने का ऐलान कर पार्टी को दबाव में लेने की कोशिश की थी। लेकिन हरक व दिलीप के कद में फर्क होने के कारण भाजपा ने दिलीप को ज्यादा तवज्जो नहीं दी। वैसे भी भाजपा में नई-पुरानी वफादारी की जगह राजनैतिक लाभ-हानि का गणित हावी है।

लिहाजा भाजपा से निराश दिलीप ने बुधवार को कांग्रेस के बड़े नेताओं से मुलाकात कर कांग्रेस में अपनी संभावनाएं टटोलनी शुरू की थी। हरीश रावत से भी दिलीप की मुलाकात हो चुकी है। खबर है कि दिलीप की कांग्रेस में एंट्री के लिए स्थानीय स्तर पर हरी झंडी मिल चुकी है। ऐसे में अगर दिलीप कांग्रेस में शामिल होते है तो कांग्रेस के पास लैंसडाउन से लड़ने के लिए एक मजबूत चेहरा दिलीप रावत के रूप में मिल जाएगा।

Next Story

विविध