Top
विमर्श

बात-बात पर अमेरिका को नायक बताने वाले इंडिया वालों को ट्रंप की राजनीतिक गुंडागर्दी दे गयी सबक

Janjwar Desk
8 Jan 2021 12:28 PM GMT
बात-बात पर अमेरिका को नायक बताने वाले इंडिया वालों को ट्रंप की राजनीतिक गुंडागर्दी दे गयी सबक
x
राष्ट्रपति ट्रंप को लगता था कि उनके पास उनके समर्थकों की वह शक्ति है, जिससे वे चुनावी नतीजों को ही बदल देंगे। परसों की घटना एक ऐसी ही असफल कोशिश थी....

अमेरिका में हार के बाद भी ट्रम्प समर्थकों की गुंडागर्दी पर सामाजिक कार्यकर्ता राम मोहन राय की टिप्पणी

जनज्वार। दूर के ढोल सुहावने होते है ए यह कहावत आजकल अमेरिका पर मुकम्मल उतर रही है। जो लोग वहां नही गए उनके लिये वह किसी भी स्वर्गीय कल्पनाओं से परे न है। साधन संपन्न लोगों के लिए हर सुविधा सब जगह ही मिलती है, पर सवाल तो आम लोगों का है जिन्हें न केवल भारत में बल्कि अमेरिका समेत सभी स्थानों पर अभावग्रस्त रह कर उनके लिये लड़ाई लड़नी पड़ती है। भूख, बेकारी और बीमारी के खिलाफ संघर्ष आज सबसे बड़ी चुनौती है जो यहां भी है और वहाँ भी।

चार साल पहले डोनाल्ड ट्रंप अंध राष्ट्रवाद के नारे को लेकर राष्ट्रपति बने थे उसने बहुत बड़ी संख्या में अंध भक्त उन्हें मुहैय्या करवाये थे। 'अमेरिकन फर्स्ट' एक ऐसा प्रलोभन था, जिसमें उनके समर्थक उनकी सभी जरूरतों और मांगो का हल मानते थे। पर पूंजीवाद और उसकी नीतियाँ परलोभित तो करती हैं, परन्तु नतीजे में निराशा ही हाथ लगती है।

ऐसा नहीं है कि ट्रम्प ने कुछ नहीं किया। कई काम हुए और विशेषकर युद्धोन्मादी अमेरिका की छवि को तोड़ने की कोशिश की। भारत जैसे अनेक देशों के राष्ट्राध्यक्षो के साथ मैत्री कर अपने कॉरपोरेटस को भरोसा दिलवाया कि उनके बिजनेस की मंडी शीघ्र ही उपलब्ध होगी, पर जिस तरह से वहाँ की अफ्रीकन, एशियाई तथा अन्य देशों की मूल आबादी को दूसरे दर्जे का नागरिकता का अहसास कराया वह तो बेहद शर्मनाक था।

राष्ट्रपति ट्रंप को लगता था कि उनके पास उनके समर्थकों की वह शक्ति है, जिससे वे चुनावी नतीजों को ही बदल देंगे। परसों की घटना एक ऐसी ही असफल कोशिश थी। ट्रम्प के सामने सम्भवतः हिटलर का उदाहरण होगा, जिसने बेशक संसद पर कब्ज़ा चुनाव जी कर किया था, पर उसको बरकरार अपने अंध समर्थकों तथा मिलिट्री के बलबूते किया।

अमेरिकी संसद पर हमले के समय उनके समर्थकों के पास अपने नेता ट्रंप के उकसावे के अतिरिक्त सबकुछ था। आधुनिक हथियार, बम्ब, सेल आदि। अनेक लोग अग्निशमन कपड़ों को भी पहने थे। ऐसा नही कि ऐसा सिर्फ उनके समर्थक ही थे, विरोधी भी इसी तरह सुसज्जित थे। दोनों तरफ से मामला पूर्वनियोजित था। यदि एकतरफा होता तो दुनिया को ट्रम्प के रूप में एक नया हिटलर का अमेरिकी अवतार मिल ही गया था।

हमारे देश के बेचारे लोग सदा से ही अमेरिका के नए नायक को अपने समर्थक व शुभचिंतक के रूप में देखते हैं, पर उन्हें सदा ही निराशा मिली है। पूंजीवाद के लिये उनके हित सर्वोच्च है। दोस्ती, गले लगना और नमस्ते आदि, उनके लिए सिर्फ और सिर्फ नाटक ही है।

महान लोकतंत्र, संसदीय व्यवस्था, सबका साथ.सबका विश्वास कुछ ऐसी जुमलेबाजी है, जो पूंजीवादी दक्षिणपंथ के लिये सत्ता प्राप्त के साधन जब तक है, जब तक वे उनके मुफीद है। वरना उसे बरकरार रखने में उनकी कोई रुचि नही है।

अमेरिका कोई समाजवादी सोवियत रूस नहीं है जो आपके साथ हर मुसीबत और स्थितियों में मददगार होगा। ऐसा दोस्त कोई रूस नहीं था, बल्कि वहाँ की समाजवादी व्यवस्था थी। पूंजीवाद और समाजवाद में ही यही एक मौलिक अंतर है, जिसे अब समाजवाद नीतियों से विहीन रूस और चीन में नहीं ढूंढ़ा जा सकता।

अमेरिका में घटा घटनाक्रम हम भारतीयों के लिये भी सबक है।

Next Story

विविध

Share it