Top
विमर्श

रिलायंस और वॉलमार्ट पर गिर रही किसान आंदोलन की गाज, लाखों डॉलर के राजस्व का हुआ नुकसान

Janjwar Desk
15 Jan 2021 8:43 AM GMT
रिलायंस और वॉलमार्ट पर गिर रही किसान आंदोलन की गाज, लाखों डॉलर के राजस्व का हुआ नुकसान
x
देश में नए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की वजह से रिलायंस इंडस्ट्रीज के पंजाब में मौजूद दर्जनों रिटेल स्टोर और वॉलमार्ट जैसी दिग्गज कंपनी का एक आउटलेट तीन महीने से अधिक समय से बंद है.....

वरिष्ठ पत्रकार दिनकर कुमार का विश्लेषण

देश में चल रहे किसान आंदोलन के बीच किसानों के मन में ऐसी धारणा बनी है कि नए कृषि कानूनों से मुकेश अंबानी-गौतम अडानी जैसे उद्योगपतियों को फायदा होगा और कॉरपोरेट के लोग उनकी जमीनें हड़प लेंगे। इसलिए किसान इन कंपनियों के संसाधनों पर अपना गुस्सा निकाल रहे हैं और इन कंपनियों के कारोबार पर साफ असर भी नजर आने लगा है।

इस लिहाज से किसान आंदोलन एक ऐतिहासिक आंदोलन कहा जा सकता है जिसके सूत्र को महात्मा गांधी के विदेशी सामानों के बहिष्कार के आंदोलन के साथ जोड़कर देखा जा सकता है। कृषि क़ानूनों के मूल लाभार्थी पूंजीपति ही हैं और जब उनके सामान का बहिष्कार होगा तो स्वाभाविक रूप से वे बिलबिला उठेंगे।

देश में नए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की वजह से रिलायंस इंडस्ट्रीज के पंजाब में मौजूद दर्जनों रिटेल स्टोर और वॉलमार्ट जैसी दिग्गज कंपनी का एक आउटलेट तीन महीने से अधिक समय से बंद है। आंदोलन की अगुआई कर रहे ज्यादातर किसान संगठनों के प्रमुख पंजाब से ही हैं ऐसे में कंपनियों को आशंका है कि उनके रिटेल आउटलेट को निशाना बनाया जा सकता है जिसकी वजह से उनके कर्मचारी भी असुरक्षित होंगे। उद्योग सूत्रों का कहना है कि इसी आशंका की वजह से दर्जनों आउटलेट बंद होने के लिए मजबूर हैं।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के दर्जनों खुदरा स्टोर और एक विशाल वॉलमार्ट आउटलेट को तीन महीने से अधिक समय तक बंद रखने के चलते लाखों डॉलर के राजस्व नुकसान का सामना करना पड़ा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उन कृषि कानूनों को रद्द करने के लिए मजबूर करने के लिए पंजाब सहित विभिन्न राज्यों के हजारों किसानों ने राजधानी दिल्ली के पास हफ्तों तक डेरा डाल रखा है, जो कानून खेती के बजाय कॉर्पोरेट्स को लाभान्वित करेंगे। किसान आंदोलन के नेता पंजाब के रहने वाले हैं और कंपनियों को आशंका है कि उनके आउटलेट्स को नुकसान पहुंच सकता है और कर्मचारियों को भी खतरा हो सकता है। इसीलिए दर्जनों दुकानों, कर्मचारियों और उद्योग स्रोतों को बंद रखा गया है।

अक्टूबर के बाद से पंजाब के शीर्ष रिटेलर रिलायंस रिटेल के आधे से अधिक 100 स्टोर और बठिंडा में वॉलमार्ट के 50,000 वर्ग फुट का होलसेल आउटलेट, जो विरोध प्रदर्शन का केंद्र है, बंद हो गए हैं।

"हम प्रदर्शनकारी किसानों से डरते हैं," एक समृद्ध शहर मोहाली में एक बंद रिलायंस आउटलेट के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा।

उद्योग के स्रोत ने कहा कि रिलायंस के राज्यव्यापी बंद से होने वाले नुकसान का अनुमान लाखों डॉलर में है। दो अन्य स्रोतों ने कहा कि वॉलमार्ट को देश भर में 29 में से एक बड़े आउटलेट से भारी राजस्व नुकसान हुआ है, जो 8 मिलियन डॉलर से अधिक है।

एक सूत्र ने कहा, "किसान रोजाना वॉलमार्ट स्टोर के बाहर डेरा डालते हैं, वे किसी को अंदर नहीं जाने देते।" उसने कहा स्टोर में 250 कर्मचारियों को रोजगार मिला हुआ है। दुकान में हजारों वस्तुओं पर धूल जम चुकी हैं और उनके उपयोग की तिथि भी पार कर चुकी है।

कंसल्टेंसी टेक्नोपैक एडवाइजर्स के कंज्यूमर और रिटेल के प्रमुख अंकुर बिसेन ने कहा, "दोनों कंपनियां अभी के लिए नुकसान को अवशोषित कर सकती हैं, लेकिन उन्हें इस बात का ध्यान रखना होगा कि शटडाउन अन्य राज्यों तक नहीं पहुंचे। "

पंजाब के एक अधिकारी ने कहा कि प्रशासन सुरक्षा प्रदान करने के लिए तैयार था, लेकिन अगर कंपनियां अपने स्टोर बंद रखने का निर्णय लेतीं हैं तो प्रशासन कुछ नहीं कर सकता।कुछ किसान यूनियनों ने विरोध प्रदर्शनों को जारी रखने और स्टोर की घेराबंदी करने की कसम खाई है।

डेमोक्रेटिक किसान यूनियन के एक प्रदर्शनकारी समूह के एक नेता कुलवंत सिंह संधू ने कहा, "रिलायंस जैसे कॉरपोरेट्स के खिलाफ हमारा विरोध जारी रहेगा। हमारे पीछे हटने का सवाल ही नहीं उठता।"

एक अन्य कृषि नेता, जगतार सिंह ने कहा कि रिलायंस के खिलाफ विरोध प्रदर्शन तब तक जारी रहेगा जब तक सरकार कानूनों को रद्द नहीं करती।

किसान आंदोलन की तपिश झेल रही रिलायंस सफाई देने के लिए अदालत भी पहुंच चुकी है। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की सब्सिडियरी रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड ने पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में दायर एक याचिका में कहा है कि तीनों कृषि कानूनों से उसका कोई लेना-देना नहीं है इससे किसी भी तरह से उसका कोई फायदा नहीं है।

कंपनी ने कहा कि रिलायंस रिटेल, जियो इन्फोकॉम या इनसे जुड़ी कोई भी कंपनी ने कभी भी 'कॉरपोरेट' या 'कॉन्ट्रैक्ट' खेती नहीं की है और निकट भविष्य में भी उसका ऐसा करने का कोई इरादा नहीं है।

कंपनी ने कहा, 'रिलायंस और उसकी किसी सब्सिडियरी ने पंजाब, हरियाणा या देश के किसी भी हिस्से में कॉरपोरेट या कॉन्ट्रैक्ट खेती के लिए प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कृषि भूमि नहीं खरीदी है। हमारा आगे भी ऐसा करने की कोई योजना नहीं है।'

कंपनी ने राज्य सरकार से अनुरोध किया है कि वह उसके टावरों को नुकसान पहुंचाने के अवैध कार्रवाई को रोकने के लिए दखल दे। कंपनी ने अपनी याचिका में कहा, 'हिंसा की कार्रवाई से उसके हजारों कर्मचारियों का जीवन खतरे में आया है और जरूरी संचार, बिक्री और सेवा ढांचे में बाधा उत्पन्न हुई है।'

रिपोर्ट के मुताबिक अब तक पंजाब में 1500 से ज्यादा मोबाइल टावरों को नुकसान पहुंचाया जा चुका है, कई मोबाइल टावरों की बिजली काट दी गई तो कई जगह तार के बंडल जला दिए गए हैं।

Next Story

विविध

Share it