दुनिया

पराग, नेड और विजया को एक दिन भी बर्दाश्त नहीं कर पाये एलन मस्क, एवज में 856 करोड़ रुपए चुकाने के लिए क्यों हैं तैयार

Janjwar Desk
29 Oct 2022 2:44 AM GMT
Elon Musk Twittr News : ट्विटर हेडक्वार्टर में पराग, नेड और विजया को एक दिन भी बर्दाश्त नहीं कर पाये एलन मस्क, इसकी एवज में 856 करोड़ रुपए क्यों हैं चुकाने को तैयार
x

Elon Musk Twittr News : ट्विटर हेडक्वार्टर में पराग, नेड और विजया को एक दिन भी बर्दाश्त नहीं कर पाये एलन मस्क, इसकी एवज में 856 करोड़ रुपए क्यों हैं चुकाने को तैयार

आखिर एलन मस्क पराग अग्रवाल, नेड सेगल और विजया गाड्डे से दुश्मनी की हद से भी ज्यादा नाराज क्यों कि तीनों को तत्काल ट्विटर से निकालने के बदले 856 करोड़ रुपए यानि 104 मिलियन करोड़ की कीमत चुकाने को भी तैयार हैं।

नई दिल्ली। साल 2022 के शुरुआत से ही साल को सबसे बड़ा वैश्विक डील यानि ट्विटर ( Twitter ) को एलन मस्क ( Elon musk ) द्वारा खरीदने का मसला चर्चा में रहा। कुछ समय पहले उन्होंने इस डील को रद्द करने का भी मन बनाया था, लेकिन अमेरिकी अदालत के रुख के चलते उन्होंने ट्विटर को समय से पहले खरीद लिया। इन सब घटनाक्रमों में सबसे ज्यादा चर्चा का विषय यह है कि आखिल एलन मस्क ट्विटर के पूर्व सीईओ पराग अग्रवाल ( Parag Agrawal ), सीएफओ नेड सेगल ( Ned Segal ) और लीगल पॉलिसी हेड विजया गाड्डे ( Vijaya Gadde ) को एक दिन भी बर्दाश्त क्यों नहीं कर पाए। आखिर मस्क इसके बदले 856 करोड़ रुपए यानि 104 मिलियन करोड़ की कीमत चुकाने को भी तैयार क्यों हैं।

दरअसल, अप्रैल 20222 में जब Elon Musk ने Twitter को खरीदने के पीछे की वजह का खुलासा करते हुए बताया था कि उन्होंने ट्विटर को इसलिए खरीदा है ताकि हमारी आने वाली सभ्यता के पास एक कॉमन डिजिटल स्पेस हो, जहां विभिन्न विचारधारा और विश्वास के लोग किसी भी तरह की हिंसा के बिना स्वस्थ चर्चा कर सकें। यही वजह है कि माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर और एलन मस्क के बीच हुई डील खूब चर्चा में रही। कई उतार-चढ़ाव के बाद आखिरकार 28 अक्टूबर को ट्विटर की कमान पूरी तरह से मस्क के हाथों में आ गई।

पराग सहित 3 टॉप अफसर को इसलिए दिखाया बाहर का रास्ता

एक दिन पहले ट्विटर की कमान संभालते ही सबसे पहले एलन मस्क ( Elon Musk ) ट्विटर हेडक्वाट्रर ( Twitter Headquarter ) पहुंचे और पराग अग्रवाल ( Parag agrawal ) को धक्का देकर ट्विटर से बाहर निकाल दिया। उसके कुछ देर बाद सीएफओ नेड सेगल और लीगल मामलों के हेड विजया गाड्डे को भी ट्विटर हेडक्वार्टर से बाहर निकला दिया।

आखिर पराग अग्रवाल का अपराध क्या था

बता दें कि ट्विटर (Twitter) से बाहर किए गए भारतीय मूल के पराग अग्रवाल (Parag Agarwal) शुरू से ही यानि ट्विटर डील के समय से ही मस्क के खिलाफ खासे मुखर रहे हैं। मस्‍क की ओर से ट्विटर के लिए बोली लगाने के बाद से ही कंपनी के सीईओ पराग अग्रवाल ( Parag Agrawal ) के साथ उनकी नोकझोंक चल रही थी। एलन मस्क के ट्विटर को खरीदने का प्रस्ताव देने के बाद पराग अग्रवाल ने कई ऐसे बयान दिए थे, जिनसे दोनों के बीच तनातनी साफ उजागर हुई थी। पराग अग्रवाल ने डील की घोषणा के तुरंत बाद कर्मचारियों से टाउनहाल में कहा था कि कंपनी का भविष्य अब अंधेरे में हैं। पता नहीं यह किस दिशा में जाएगी।

मस्क 856 करोड़ रुपए चुकाने को तैयार

दुनिया के सबसे अमीर शख्स ( Elon Musk ) फिलहाल ट्विटर के अंतरिम सीईओ बन गए हैं। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक मस्क ने पराग अग्रवाल समेत ट्विटर से जिन तीन बड़े अधिकारियों को निकाला है। अब उन्हें वह 104 मिलियन डॉलर यानि 856 करोड़ रुपए का हर्जाना देंगे। यानि ट्विटर से तीनों को बाहर निकालने की कीमत चुकाएंगे। इनमें पराग अग्रवाल को 50 मिलियन डॉलर यानी करीब 412 करोड़ रुपये, ट्विटर के सीएफओ रहे नेड सेगल को 37 मिलियन डॉलर यानी करीब 304 करोड़ रुपये और कंपनी की लीगल पॉलिसी, ट्रस्ट और सेफ्टी विभाग की हेड रहीं विजया गाड्डे को 17 मिलियन डॉलर यानी करीब 140 करोड़ रुपये दिए जाएंगे।

Next Story

विविध