Top
दुनिया

भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या के बहाने मोदी की नफरत की राजनीति का विरोध कर रहा जर्मनी का भारतीय समुदाय

Janjwar Desk
7 Oct 2020 7:37 AM GMT
भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या के बहाने मोदी की नफरत की राजनीति का विरोध कर रहा जर्मनी का भारतीय समुदाय
x
जर्मनी में भारतीय समुदाय ने इंडिया स्टार्ट अप कॉन्फ्रेंस में भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या को आमंत्रित करने पर आपत्ति जताई है, उन्होंने तेजस्वी को 'सांप्रदायिक रूप से विभाजनकारी वक्ता' और 'अत्यधिक ध्रुवीकरण करने वाला व्यक्ति' वाला व्यक्ति बताया है....

वरिष्ठ पत्रकार दिनकर कुमार का विश्लेषण

मुसलमानों के खिलाफ नफरत को ईंधन बनाकर सत्ता में आने वाली मोदी सरकार भले ही सांप्रदायिकता और ध्रुवीकरण करने वाले नेताओं को गोद में बिठाकर संसद में भेज देती है, लेकिन विदेश में रहने वाले भारतीय नफरत की भाषा बोलने वाले ऐसे नेताओं को बिलकुल पसंद नहीं करते। उनको ऐसे नेताओं की वजह से विदेश में लज्जित होना पड़ता है। भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या की एक कार्यक्रम में भागीदारी पर जर्मनी में भारतीय समुदाय ने जिस तरह विरोध प्रकट किया है, उससे इस बात का अच्छी तरह अंदाजा लगाया जा सकता है।

जर्मनी में रहने वाले भारतीयों के एक समूह ने एक कार्यक्रम - 'इंडिया स्टार्टअप कॉन्फ्रेंस 2020' - में भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या की उपस्थिति पर आपत्ति जताई है और कहा है कि यह आदमी 'सांप्रदायिक रूप से विभाजनकारी वक्ता' और 'अत्यधिक ध्रुवीकरण करने वाला व्यक्ति' है। वर्चुअल मोड में होने वाला यह कार्यक्रम आज बुधवार को ग्लॉमन कंसल्टिंग जीएमबीएच-हैम्बर्ग के साथ मिलकर भारत के हैम्बर्ग के महावाणिज्य दूतावास द्वारा आयोजित किया जा रहा है ताकि स्टार्टअप को बढ़ावा देने और भारत और जर्मनी के बीच आर्थिक संबंधों का समर्थन किया जा सके।

यूरोप में रहने वाले कई भारतीय, विशेष रूप से जर्मनी में भारतीय समुदाय के एक समूह ने 'यूरोप में सांप्रदायिक शक्तियों को मंच देना बंद करने' का तर्क देते हुए सूर्या को एक वक्ता के रूप में बाहर करने की मांग की हैं। 'इंडिया सॉलिडैरिटी जर्मनी' के बैनर तले समूह ने कहा है कि भारत के महावाणिज्य दूतावास ने एक ऐसे कार्यक्रम के लिए जो सभी धर्मों के भारतीयों के लिए समावेशी प्रतीत होता है, भारतीय राजनीति से एक 'अत्यधिक ध्रुवीकरण करने वाले व्यक्ति' तेजस्वी सूर्या को आमंत्रित किया है।

इस आयोजन में केवल एक राजनेता हैं - तेजस्वी सूर्या - जबकि अन्य वक्ता हैं मदन एल. रायगर, सीजीआई हैम्बर्ग; जूलियन ज़िक्स, प्रोजेक्ट लीड, जर्मन इंडियन स्टार्टअप एक्सचेंज प्रोग्राम; सुभाष ठकर, अंतर्राष्ट्रीय विकास विभाग के सलाहकार, यूके सरकार; सीमा भारद्वाज, निदेशक, जर्मनी व्यापार और निवेश; नागराजा एस., रिसर्च फेलो, फ्राउनहोफर आईएमडब्ल्यू; के राजगोपाल, अध्यक्ष, ग्लोमैन अकादमी; निखिल अग्रवाल सीईओ, आईआईटी कानपुर; गुंजन भारद्वाज, सीईओ इनोप्लेक्सस एजी; और गोपी वी. प्रसाद, एमडी ग्लोमैन समूह।

'भारतीय वाणिज्य दूतावास हैम्बर्ग स्टार्टअप्स के लिए एक कार्यक्रम की मेजबानी कर रहा है, जो कि इसके अनुसार प्रगतिशील आयोजन है। लेकिन वक्ताओं की सूची में तेजस्वी सूर्या का नाम देखकर निराशा हुई है। सूर्या बैंगलोर के एक अत्यधिक उत्तेजक और सांप्रदायिक राजनीतिज्ञ और आरएसएस के सदस्य हैं। यह व्यक्ति सार्वजनिक रूप से यह कहने के लिए प्रसिद्ध है कि जो भी मोदी के खिलाफ है, वह देश विरोधी है। एक सांसद होकर इस तरह का बयान देना शर्मनाक है।' समूह ने कहा है।

'यह उस भावना पर सवाल खड़ा करता है, जिसके साथ यह आयोजन किया जाता है कि क्या यह सभी भारतीयों के लिए है या केवल उन लोगों के लिए है, जो तेजस्वी सूर्या द्वारा रखे गए ध्रुवीकरण, घृणास्पद और अमानवीय विचारों के समर्थन में हैं, जो जर्मनी में भारतीयों के विविध समुदाय के खिलाफ है। यह देखना बेहद जरूरी है कि इस तरह के एक विवादास्पद व्यक्ति के लिए एक आधिकारिक मंच दिया जा रहा है, जिससे जर्मन की धरती पर आगे विभाजन और दक्षिणपंथी कट्टरपंथीकरण के अलावा कुछ भी हासिल नहीं करेगा,' समूह ने भारतीय वाणिज्य दूतावास जनरल को लिखे अपने पत्र में कहा। समूह ने सूर्या को आमंत्रित करने के विरोध में एक हस्ताक्षर अभियान भी शुरू किया, जिसमें लोगों से इस घटना का विरोध करने को कहा गया।

समूह ने अपने पत्र में सूर्या के पोस्ट किए गए भड़काऊ ट्वीट्स का हवाला दिया और भारतीय वाणिज्य दूतावास से पूछा कि क्या दूतावास सूर्या के विचारों का समर्थन करता है जो व्यक्ति खुले तौर पर सांप्रदायिक-राजनीति करता है।

'तेजस्वी सूर्या का स्पष्ट रूप से उन समुदायों के खिलाफ विभाजनकारी एजेंडा है जो हिंदू नहीं हैं। यह एजेंडा समानता, विविधता और समावेश के यूरोपीय लोकाचार के उल्लंघन में है। यह अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत यूरोपीय जिम्मेदारी के उल्लंघन में भी है। सूर्या को एक मंच देने से, हमें डर है कि ईयू भारत के भीतर और बाहर गैर-हिंदू समुदायों के लिए समान अवसर के दरवाजे बंद कर देगा।'

इसमें कहा गया है कि उनकी मेजबानी करने से वाणिज्य दूतावास सूर्या की सांप्रदायिक विचारधारा का समर्थक माना जाएगा और जर्मनी को कट्टरपंथी भारतीय प्रवासियों की मेजबानी करने की अनुमति देगा।'

'हम वास्तव में एक ध्रुवीकरण वाले व्यक्ति की मेजबानी न करके प्रगतिशील और बहुलतावादी भारत के विचार को बढ़ावा देने की दिशा में आपके कार्यों की सराहना करेंगे। हम उम्मीद कर रहे हैं कि वाणिज्य दूतावास को ऐसे कई गैर-विवादास्पद राजनीतिक और सामाजिक नेता मिलेंगे जो समावेशी हैं, विविधता का सम्मान करते हैं और भारत के भीतर और बाहर सभी लोगों के लोकतांत्रिक और मानवाधिकारों पर दृढ़ता से विश्वास करते हैं।'

सूर्या पिछले दिनों अरब महिलाओं के यौन जीवन के बारे अपने पुराने ट्वीट को लेकर विवादों केंद्र में आए थे। उनके इस बयान पर पूरे अरब जगत में लोग गुस्सा हो गए, पारंपरिक रूप से भारत के मित्र रहने वाले देश संयुक्त अरब अमीरात ने आधिकारिक रूप से इसका विरोध किया, आम जनता ने इस पर गुस्सा जताया। स्थिति इतनी बिगड़ गई कि भारत के राजूदत पवन कपूर को सफ़ाई देनी पड़ी। उन्होंने मामले को शांत करने के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्वीट को भी साझा किया। सूर्या लगातार मुसलमानों के खिलाफ जहर उगलते रहते हैं और मोदी सरकार उनकी इसी 'योग्यता' को पुरस्कृत करती रही है।

Next Story

विविध

Share it