Top
दुनिया

किसान आंदोलन पर संयुक्त राष्ट्र का बयान, "लोगों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने का अधिकार"

Janjwar Desk
5 Dec 2020 2:10 PM GMT
किसान आंदोलन पर संयुक्त राष्ट्र का बयान, लोगों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने का अधिकार
x

संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंतोनियो गुतारेस.

संयुक्त राष्ट्र संघ ने भारत के किसान आंदोलन पर कहा है कि लोगों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन का अधिकार है और प्राधिकारियों को इसे नहीं रोकना चाहिए...

जनज्वार। संयुक्त राष्ट्र संघ ने भारत में किसानों के जारी विरोध प्रदर्शन पर कहा है कि एक लोकतांत्रिक देश में लोगों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने का अधिकार है और प्राधिकारियों को उन्हें करने देना चाहिए।

संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंतोनियो गुतारेस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने शुक्रवार को कहा, जहां तक भारत का सवाल है तो मैं वहीं चाहता हूं कि मैंने इन मुद्दों को उठाने वाले अन्य लोगों से कहा है, यह कि लोगों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने का अधिकार है और अधिकारियों को उन्हें करने देना चाहिए। दुजारिक भारत में किसानों के प्रदर्शन से जुड़े एक सवाल पर प्रतिक्रिया दे रहे थे।

वहीं, भारत ने किसानों द्वारा किए गए विरोध प्रदर्शन पर विदेशी नेताओं द्वारा की गई टिप्पणी को भ्रामक व गैर जरूरी बताया है और इसे एक लोकतांत्रिक देश के आंतरिक मामलों से जुड़ा विषय बताया है।

मालूम हो कि विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने विदेशी नेताओं की टिप्पणियों के बारे में मंगलवार को कहा था, हमने भारत के किसानों से संबंधित कुछ ऐसी टिप्पणियों को देखा है जो भ्रामक सूचनाओं पर आधारित हैं। इस तरह की टिप्पणियां अनुचित हैं, खासकर जब वे एक लोकतांत्रिक देश के आंतरिक मामलों से संबंधित हों।

विदेश मंत्रालय ने एक संदेश में कहा, बेहतर होगा कि कूटनीतिक बातचीत राजनीतिक उद्देश्यों के लिए गलत तरीके से प्रस्तुत नहीं की जाए। भारत ने शुक्रवार को कनाडा के उच्चायुक्त नादिर पटेल को तलब कर कहा था कि किसानों के आंदोलन के संबंध में उनके प्रधानमंत्री जस्टिन टूडो और वहां के कुछ अन्य नेताओं की टिप्पणी देश के आंतरिक मामले में अस्वीकार्य हस्तक्षेप है।

विदेश मंत्रालय ने कनाडा के राजनयिक को यह भी कहा कि ऐसी गतिविधि अगर जारी तो इससे द्विपक्षीय संबंधों को गंभीर क्षति पहुंचेगी।

हालांकि इसके बाद फिर कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन टूडो ने कहा कि विश्व में कहीं भी शांतिपूर्ण आंदोलन हो, हम उनके साथ हैं। पत्रकारों ने उनसे आंदोलनरत किसानों को दिए समर्थन पर भारत-कनाडा के रिश्तों पर पड़ने वाले प्रभाव पर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि दुनिया भर में कहीं भी शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन हो कनाडा हमेशा उनके अधिकार के लिए उनके साथ खड़ा रहेगा और हम मामले के निराकरण की दिशा में बढाए गए कदम और संवाद के प्रति आशान्वित रहेंगे।

Next Story

विविध

Share it