दुनिया

तालिबान का दावा- खत्म हुआ जंग का दौर अगले कुछ दिनों में बनेगी सरकार, बदला जाएगा राष्ट्रीय झंडा और राष्ट्रगान

Janjwar Desk
6 Sep 2021 1:09 PM GMT
तालिबान का दावा- खत्म हुआ जंग का दौर अगले कुछ दिनों में बनेगी सरकार, बदला जाएगा राष्ट्रीय झंडा और राष्ट्रगान
x
तालिबान प्रवक्ता ने लोगों के देश छोड़कर भागने और विरोध प्रदर्शनों को लेकर कहा कि लोगों को यह समझना चाहिए कि आक्रमणकारी कभी किसी देश का पुनर्निर्माण नहीं करते....

जनज्वार। तालिबान ने दावा किया है कि पंजशीर समेत पूरे अफगानिस्तान में युद्ध का दौर अब खत्म हो चुका है और अगले कुछ दिनों में नई सरकार का गठन हो जाएगा। तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि नई सरकार बस कुछ दिनों में सबके सामने होगी।

तालिबान प्रवक्ता का यह बयान ऐसे समय में आया है जब तालिबान सरकार को लेकर मतभेदों की खबरें सामने आ रही हैं। अफगानिस्तान के प्रमुख टीवी चैनल टोलो न्यूज ने मुजाहिद के हवाले से कहा कि अफगानिस्तान में जंग खत्म हो चुकी है, अब हम सब मिलकर काम करेंगे और देश का पुनर्निर्माण करेंगे। नई सरकार जल्द ही जिम्मेदारी संभालेगी।

इससे पहले तालिबान ने सोमवाह की सुबह ऐलान किया कि पंजशीर प्रांत पर भी उसका कब्जा हो चुका है। हालांकि विरोधी गुट ने इस दावे को खारिज किया। अफगानिस्तान रेसिस्टेंस फोर्स का कहना है कि उनके नेता अहमद मसूद जल्द ही एक बयान जारी करेंगे। तालिबान प्रवक्ता जबिउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि तुर्की, यूएई और कतर की तकनीकी टीमें काबुल एयरपोर्ट को दोबार चालू किए जाने पर काम कर रही हैं।

तालिबान प्रवक्ता ने लोगों के देश छोड़कर भागने और विरोध प्रदर्शनों को लेकर कहा कि लोगों को यह समझना चाहिए कि आक्रमणकारी कभी किसी देश का पुनर्निर्माण नहीं करते। यह हमारे अपने लोगों की जिम्मेदारी है। अफगानिस्तान के पुनर्निर्माण में चीन की भूमिका को लेकर मुजाहिद ने कहा कि तालिबान पूरी दुनिया से अच्छे संबंध चाहता है और चीन एक बड़ी आर्थिक शक्ति है। अफगानिस्तान के पुनर्निर्माण और विकास में उसकी सहायता की बेहद जरूरत होगी।

इससे पहले हाल ही में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के प्रमुख फैज हमीद काबुल यात्रा की आपात यात्रा पर आए। उनकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुई थीं। माना जा रहा है कि सत्ता में भागीदारी को लेकर तालिबान नेताओं के बीच झगड़े की खबरों को लेकर सुलह समाधान के लिए वहां पहुंचे थे।

खबरों में कहा गया कि तालिबान का सह संस्थापक मुल्ला अब्दुल गनी बरादर को इस झगड़े के दौरान चोटें भी आईं थीं। तालिबान प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तान अफगानिस्तान की जेलों से कैदियों को छोड़े जाने को लेकर चिंतित है लेकिन उन्हं यह भरोसा दिया गया है कि किसी को भी अफगानिस्तान की जमीन का इस्तेमाल दूसरे देश पर हमला करने के लिए नहीं कने दिया जाएगा। तालिबान प्रवक्ता के मुताबिक नई सरकार देश के पुराने झंडे और राष्ट्रगान को भी बदलेगी।

Next Story

विविध

Share it