दुनिया

मंत्री बनते ही सुएला ब्रेवरमैन ने दिया था भारत विरोधी बयान, देना पड़ा पद से इस्तीफा, गोपनीयता भंग करने का लगा आरोप

Janjwar Desk
20 Oct 2022 3:21 AM GMT
यूके न्यूज : मंत्री बनते ही सुएला ब्रेवरमैन ने दिया था भारत विरोधी बयान, देना पड़ा पद से इस्तीफा, गोपनीयता भंग करने का लगा आरोप
x

यूके न्यूज : मंत्री बनते ही सुएला ब्रेवरमैन ने दिया था भारत विरोधी बयान, देना पड़ा पद से इस्तीफा, गोपनीयता भंग करने का लगा आरोप

UK News : ब्रिटेन में मंत्री बनने के तत्काल बाद भारत विरोध बयान देने की वजह से सुएला ब्रेवरमैन विवादों में आ गई थीं। वहीं सरकारी गोपनीयता भंग करने की वजह से पीएम लिज ट्रस ने सुएला ब्रेवरमैन से इस्तीफा देने को कह दिया था।

UK News : पूर्व पीएम बोरिस जॉनसन का इस्तीफा देने के बाद ब्रिटेन में नवगठित लिज ट्रस की सरकार ( Liz Truss Government ) मोर्चा संभालने से पहली ही लड़खड़ाने लगी हैं। स्थिति इतनी खराब है कि गलत फैसलों की वजह से ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था ( British Economy ) को भारी झटका लगा है। वहीं मंत्री बनते ही भारत विरोधी ( anti India ) में बयान देने वाली भारतवंशी सुएला ब्रेवरमैन ( Suella Braverman resign ) को भी गृह मंत्री से इस्तीफा देना पड़ा है। राजनीतिक संकट से गुजर रहे ब्रिटेन के लिए यह बड़ी और बुरी खबर है।

सुएला ब्रेवरमैन ( Suella Braverman ) भारत विरोधी बयान देने के कारण भी विरोधियों के निशाने पर आ गईं थीं। उनके बयानों की वजह से भारत-ब्रिटेन के बीच पहले से तय डील भी रुक गया है। पीएम मोदी ने ब्रिटेन जाने का अपना दौरा रद्द कर दिया। उसके बाद से प्रधानमंत्री लिज ट्रस की सरकार लगातार संकट से जुझ रही है। इससे पहले वित्त मंत्री क्वासी क्वार्टेंग को भी आर्थिक मोर्चे पर गलत फैसलों की वजह से बर्खास्त किया गया था।

ताजा रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने नीति पर असहमति की वजह से नहीं बल्कि अपनी एक गलती की वजह से मंत्री पद से इस्तीफा दिया है। ब्रेवरमैन ( Suella Braverman resign ) लिज ट्रस कैबिनेट की दूसरी मंत्री हैं, जिन्हें सरकार बनने के 43 दिनों के अंदर ही अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा है। बताया जा रहा है कि उन्होंने इन सरकारी नीतियों को प्रकाशित होने से पहले ही एक गोपनीय जानकारी अपने एक सहयोगी को भेजा था, जिसके बाद प्रधानमंत्री लिज ट्रस ने सुएला ब्रेवरमैन से इस्तीफा देने को कहा था।

दूसरी तरफ ब्रिटेन के एक नये सर्वेक्षण में यह दावा किया गया था कि ब्रिटेन में यदि अभी कंजरवेटिव पार्टी के नेतृत्व लिए चुनाव कराये जाते हैं तो भारतीय मूल के पूर्व वित्त मंत्री ऋषि सुनक अपनी प्रतिद्वंद्वी एवं प्रधानमंत्री लिज ट्रस को हरा देंगे। सर्वेक्षण में इसे टोरी सदस्यों द्वारा लिज को चुनने के बाद अपने फैसले पर अफसोस करना बताया गया है। टोरी सदस्यों पर ब्रिटिश अंतरराष्ट्रीय इंटरनेट आधारित बाजार अनुसंधान और डेटा एनालिटिक्स फर्म यू-जीओवी द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में यह पाया गया कि यदि उन्हें फिर से मतदान करने का मौका मिलता है तो पार्टी के 55 प्रतिशत सदस्य अब सुनक (42) को वोट देंगे, जबकि ट्रस को महज 25 प्रतिशत लोग वोट देंगे।

बता दें कि सुएला ब्रेवरमैन ( Suella Braverman resign ) भारतीय मूल की हैं। ब्रेवरमैन भी ब्रिटिश पीएम की रेस में थीं। भारतवंशी सुएला ब्रेवरमैन के पिता गोवा और मां तमिल मूल के हैं।

Next Story

विविध