दुनिया

Ukraine Russia War : Ukraine में परिवार को था मरने का डर, बच्ची की पीठ पर मां ने लिखा मोबाइल नंबर

Janjwar Desk
5 April 2022 11:44 AM GMT
Ukraine Russia War : Ukraine में परिवार को था मरने का डर, बच्ची की पीठ पर मां ने लिखा मोबाइल नंबर
x

Ukraine में परिवार को था मरने का डर, बच्ची की पीठ पर मां ने लिखा मोबाइल नंबर

Ukraine Russia War : रूस यूक्रेन युद्ध (Ukraine Russia War) के दौरान रुसी सेना (Russian Army) की बढ़ती आक्रामकता के बीच कई यूक्रेनी परिवारों (Ukrainian Families) को मारे जाने का डर है, अब उन्होंने अपने परिवार की जानकारी अपने बच्चों के शरीर पर लिखना शुरू कर दिया है...

Ukraine Russia War : रूस यूक्रेन युद्ध (Ukraine Russia War) के दौरान रुसी सेना (Russian Army) की बढ़ती आक्रामकता के बीच कई यूक्रेनी परिवारों (Ukrainian Families) को मारे जाने का डर है। अब उन्होंने अपने परिवार की जानकारी अपने बच्चों के शरीर पर लिखना शुरू कर दिया है। इस चौंकाने वाली घटना की तस्वीरें सोशल मीडिया (Social Media Viral) पर अब वायरल हो रही हैं। इस बच्चों की तस्वीरों को कई पत्रकारों ने ट्वीट किया है, जो युद्ध की त्रासदी को उजागर कर रहे हैं। यूक्रेनी मांएं अपने परिवार के संपर्क अपने बच्चों के शरीर पर लिख रही हैं, ताकि अगर वो मारे जाएं और उनके बच्चे बच जाएं तो उनके लिए वो संपर्क काम आ सकें।

ऐसी तस्वीरों को पत्रकार सोशल मीडिया पर कर रहे हैं पोस्ट

ट्वीटर पर एक स्वतंत्र पत्रकार एनेस्तासिया लापाटीना ने ऐसे हो एक तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लिखा है कि इसमें एक छोटी सी यूक्रेनी बच्ची की पीठ पर लिखा नाम और टेलीफोन नंबर दीखता है, जो उसकी मां ने लिखा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यह फोटो उसकी मां साशा माकोविए ने तीन दिन पहले इंस्टाग्राम पर पोस्ट की थी। यह पोस्ट स्थनीय भाषा में हैं लेकिन एक गूगल ट्रांसलेशन दिखाता है कि महिला ने अपनी बच्ची वेरा का नाम लिखने का फैसला किया ताकि अगर उसे कुछ हो जाए तोकोई उसकी जान बचा सके।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार एक और फोटो में माकोविए ने कहा है कि परिवार सुरक्षित है लेकिन अभी तक वो ऐसा कागज बाहर नहीं फेंक पाई हैं, जिसपर कुछ जानकारियां लिखी हैं।

रूस यूक्रेन युद्द एक महीने से जारी

बात दें कि रूस और यूक्रेन के युद्ध की डरावनी तस्वीरें सामने आई हैं। युद्ध को एक महीने से अधिक समय बीत चूका है। पिछले हफ्ते द गार्डियन ने एक रिपोर्ट की थी कि जिसमें कहा गया था कि रूसी सेना बच्चों को भागने के लिए मानवीय ढाल की तरह प्रयोग कर रही है।

Next Story