दुनिया

Russia Ukraine War: संयुक्त राष्ट्र ने रूस को मानवाधिकार परिषद से हटाया, जानें भारत का पक्ष

Janjwar Desk
7 April 2022 7:46 PM GMT
Russia Ukraine War: संयुक्त राष्ट्र ने रूस को मानवाधिकार परिषद से हटाया, जानें भारत का पक्ष
x

Russia Ukraine War: संयुक्त राष्ट्र ने रूस को मानवाधिकार परिषद से हटाया, जानें भारत का पक्ष

Russia Ukraine War: संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) ने रूस को मानवाधिकार परिषद से निलंबित कर दिया है। इस संबंध में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) में रूस के निलंबन के पक्ष में मतदान किया।

Russia Ukraine War: संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) ने रूस को मानवाधिकार परिषद से निलंबित कर दिया है। इस संबंध में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) में रूस के निलंबन के पक्ष में मतदान किया। गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र की लिंडा थॉमस-ग्रीनफील्ड ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सामने मानवाधिकार परिषद से रूस को निलंबित करने का मामला बनाया था।

यूएनजीए में रूस को मानवाधिकार परिषद से हटाने के पक्ष में दो-तिहाई मत दिया। 93 देशों के पक्ष में मतदान के साथ, 24 ने विरोध में और 57 ने इस प्रस्ताव पर मतदान नहीं किया। विशेष रूप से, यूक्रेन के बुका में हत्याओं की निंदा करते हुए और एक स्वतंत्र जांच के आह्वान का समर्थन करते हुए, भारत ने प्रस्ताव पर मतदान से परहेज किया।

बता दें कि यूक्रेन के बुका में सैकड़ों नागरिक निवासी अपने घरों के अलावा, और सामूहिक कब्रों में, सड़कों पर मृत पाए गए। यूक्रेन ने रूस पर बुका नरसंहार का आरोप लगाया। हालांकि रूस ने आरोपों से इनकार किया है और कहा है कि यह यूक्रेन का दुष्प्रचार था।

मास्को द्वारा यूक्रेन के अलग-अलग क्षेत्रों - डोनेट्स्क और लुहान्स्क - को स्वतंत्र संस्थाओं के रूप में मान्यता देने के तीन दिन बाद यूएन ने ये कदम उठाया है। यूके, यूएस, कनाडा और यूरोपीय संघ सहित कई देशों ने यूक्रेन में रूस के सैन्य अभियानों की निंदा की है और मास्को पर प्रतिबंध लगाए हैं। इन देशों ने रूस से लड़ने के लिए यूक्रेन को सैन्य सहायता के साथ मदद करने का भी वादा किया है। रूसी सेना ने 24 फरवरी को यूक्रेन में सैन्य अभियान शुरू किया।

जानें कितने वोट से हुआ बाहर रूस

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने रूस को मानवाधिकार परिषद से बाहर करने के लिए एक प्रस्ताव तैयार किया. 93 देशों ने मसौदा प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया, 24 देशों ने इसके खिलाफ मतदान किया, 58 देशों ने मतदान नहीं किया. इस तरह से रूस मानवाधिकार परिषद से निलबिंत हो गया.

मतदान से भारत ने किया परहेज

वहीं, यूएनजीए में भारत ने यूक्रेन पर यूएनएचआरसी से रूस को निलंबित करने के लिए मसौदा प्रस्ताव पर मतदान से परहेज किया. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने कहा, इस दौरान हम बिगड़ती स्थिति पर गहराई से चिंतित रहना जारी रखते हैं और सभी शत्रुताओं को समाप्त करने के अपने आह्वान को दोहराते हैं. जब निर्दोष मानव जीवन दांव पर हो, तो कूटनीति को ही एकमात्र व्यवहार्य विकल्प के रूप में प्रबल होना चाहिए.

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने आगे कहा, बुचा में नागरिकों की हत्याओं की हालिया रिपोर्टें बहुत परेशान करने वाली हैं. हमने इन हत्याओं की स्पष्ट रूप से निंदा की है और एक स्वतंत्र जांच के आह्वान का समर्थन करते हैं.

Next Story

विविध