कोविड -19

India-Nepal Bus Service : बस से 29 लोग निकले कोरोना संक्रमित, भारत-नेपाल मैत्री बस सेवा दे सकती है कोरोना को दावत

Janjwar Desk
15 Dec 2021 12:53 PM GMT
India-Nepal Bus Service : बस से 29 लोग निकले कोरोना संक्रमित, भारत-नेपाल मैत्री बस सेवा दे सकती है कोरोना को दावत
x

 (29 लोगों के कोरोना संक्रमित निकलने से मचा हड़कंप) 

India-Nepal Bus Service : प्रति दिन भारत-नेपाल मैत्री बस सेवा के तहत नेपाल की राजधानी काठमांडू सहित सीमावर्ती शहर महेंद्रनगर से 6 से 7 बसें बनबसा बॉर्डर से भारत के विभिन्न स्थानों के लिए आनी शुरू हुई हैं....

India-Nepal Bus Service : कोविड काल में कोविड फैमिली के नए सदस्य ओमिक्रोन को लेकर जहां देशभर में सतर्कता बरती जा रही है, तो दूसरी तरफ भारत-नेपाल सीमा (India-Nepal Border) पर कोविड संक्रमितों की आवाजाही ने उत्तराखण्ड सरकार (Uttarakhand Govt.) की पेशानी पर बल डाल दिये हैं। राज्य के चंपावत जनपद (Champawat) के बनबसा नेपाल बॉर्डर पर नेपाल से आ रहे 29 लोगों के कोरोना संक्रमित निकलने से प्रशासन में हड़कंप मच गया है।

भारत-नेपाल के बीच मैत्री बस सेवा (Maitri Bus Service) के नाम पर नेपाल से चल रही बसों में सवार 18 लोग अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर (Internatioal Border) पर हो रही जांच के दौरान संक्रमित पाए गए हैं। इसके अलावा बनबसा के इसी बॉर्डर पर ही अन्य माध्यम से आवागमन करने वाले 11अन्य लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इतनी बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित पाए जाने से राज्य का स्वास्थ्य विभाग व स्थानीय प्रशासन अलर्ट मोड पर आ गया है।

पाठकों को बताते चलें कि भारत-नेपाल मैत्री बस सेवा के नाम पर 6 से 7 बसें रोजाना नेपाल से भारत की राजधानी दिल्ली सहित अन्य स्थानों को जाती हैं। कोरोना काल में इस अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर को बंद कर दिया गया था। लेकिन कोविड रोगियों की घटती संख्या के बाद यह बॉर्डर एक बार फिर आवागमन के लिए खोला गया है। अब इन बसों का आवागमन रोजाना हो रहा है। जिससे कोरोना संक्रमण फैलने की संभावना बढ़ गई है। हालांकि इस बॉर्डर से गुजरने वाले यात्रियों को सघन जांच से होकर गुजरना पड़ रहा है।

लेकिन बुधवार को एक साथ 29 नेपाली यात्रियों के बनबसा बॉर्डर (Banbasa Border) पर कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद कोरोना संक्रमण की संभावनाएं बढ़ गई है। स्थानीय प्रशासन द्वारा मैत्री बसों के इन यात्रियों को संक्रमित पाए जाने के बाद उन्हें वापस नेपाल लौटा दिया गया है। इसके साथ ही बॉर्डर पर सघनता के साथ आवागमन करने वालों के कोरोना जांच करने के भी निर्देश दिए गए हैं।

एक तरफ जहां देश मे ओमिक्रोन वेरिएंट के फैसले का डर बना हुआ है। तो दूसरी ओर करीब एक माह पहले ही पूरी तरह यातायात के लिए खुले बनबसा बॉर्डर से आवाजाही के चलते अब कोरोना संक्रमण के भारत में फिर से दस्तक देने व नए वेरिएंट के नेपाल के रास्ते फैलने का खतरा बढ़ गया है।

प्रति दिन भारत-नेपाल मैत्री बस सेवा के तहत नेपाल की राजधानी काठमांडू सहित सीमावर्ती शहर महेंद्रनगर से 6 से 7 बसें बनबसा बॉर्डर से भारत के विभिन्न स्थानों के लिए आनी शुरू हुई हैं। जिनमें सवार होकर आने वाले यात्रियों से भारत मे ओमिक्रोन वेरिएंट के फैलने की संभावना बढ़ गई है।बॉर्डर पर सघन जांच के दौरान नेपाल की बस से 18 व 11 अन्य सहित कुल 29 लोगो के कोरोना संक्रमित निकलने से खतरे की घण्टी बज चुकी है। जिसको लेकर स्वास्थ्य महकमे व प्रशासन में हलचल मच गई है।

फिलहाल बनबसा बॉर्डर पर स्वास्थ्य विभाग की टीम के डॉ. दानिश अपनी टीम के साथ सुबह से लेकर रात दस बजे तक नेपाल से आने वाले हर शख्स की कोरोना जांच को कर भारत में संक्रमण फैलने की सम्भावनाओं को रोकने में जुटे हैं। लेकिन इसके बावजूद जरा सी चूक इन मैत्री बसों की वजह से संक्रमण फैलने की बड़ी वजह बन सकती है, इस संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता।

Next Story

विविध