आर्थिक

Petrol Ka Dam : हवाई जहाज के सफर से भी ज्यादा महंगा हुआ कार-बाइक का सफर

Janjwar Desk
18 Oct 2021 12:54 PM GMT
Petrol Price in New Delhi (18th September 2021)
x

पेट्रोल-डीजल कंपनियों को हुआ 11966 करोड़ का मुनाफा

Petrol Ka Dam : राजस्थान के गंगानगर में पेट्रोल 117.86 रुपये प्रति लीटर और डीजल 105.95 रुपये प्रति लीटर पहुंच चुका है।

Petrol Ka Dam : पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ते दाम आज कल आम बात हो गई है। सिर्फ अक्टूबर के महीने में ही पेट्रोल 4.65 रुपये महंगा हुआ है। आए दिन पट्रोल (Petrol) की कीमत नया रिकॉर्ड बना रही है। पेट्रोल ने शतक तो बहुत पहले ही लगा लिया था। अब पेट्रोल ने जो नया रिकॉर्ड बनाया है उसने हवाई जहाज के ईंधन को भी काफी पीछे छोड़ दिया है। यानी कार और बाइक से रोज सफर करना हवाई जहाज में सफर करने से भी ज्यादा महंगा बन गया है। पेट्रोल - डीजल अब हवाई जहाज के तेल से भी महंगा हो गया है।

एटीएफ से 33 फीसदी महंगा हुआ पेट्रोल

एक लीटर पेट्रोल अब हवाई जहाजों में इस्तेमाल होने वाले एक लीटर एविएशन टर्बाइन फ्यूल (ATF) से 33 फीसदी ज्यादा महंगा हो गया है। जबकि एटीएफ 79 रुपए का एक लीटर है और देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 105 रुपए लीटर के पार जा चुका है। बता दें कि रविवार 17 अक्टूबर को वाहन ईंधनों में फिर बढ़ोत्तरी हुई थी। पेट्रोल और डीजल दोनों के दामों में 35-35 पैसे का इजाफा हुआ। जिससे अब पेट्रोल और डीजल एटीएफ से एक तिहाई महंगा हो गया है।

इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL) के अनुसार यह लगातार चौथा दिन था, जब पेट्रोल - डीजल के भाव में 35 पैसे की बढ़ोत्तरी हुई थी। आज वाहन ईंधनों के दामों में ठहराव के बाद भी पेट्रोल - डीजल के दाम अब आसमान छू रहे हैं। दिल्ली में पेट्रोल 105.84 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया है। वहीं डीजल 94.57 रुपये प्रति लीटर है। मुंबई में पेट्रोल 111.77 रुपये प्रति लीटर है। इसके साथ डीजल 102.52 रुपये प्रति लीटर है।

राज्यों में पेट्रोल शतक के भी ऊपर

देश के 29 राज्यों में एक लीटर पेट्रोल का दाम 100 रुपए के पार चला गया है। उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, दमन और दीव, छत्तीसगढ़, दिल्ली, ओडिशा, केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, मिजोरम, झारखंड, जम्मू-कश्मीर, आंध्र प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, कर्नाटक, मणिपुर, नागालैंड, पुडुचेरी, तेलंगाना, पंजाब, सिक्किम, गोआ, असम, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल, उत्तराखंड, मेघालय और राजस्थान इस सभी राज्यों में पेट्रोल 100 रुपए लीटर से ऊपर पहुंच चूका है। बता दें गंगानगर में पेट्रोल डीजल सबसे महंगा हुआ है। राजस्थान के गंगानगर में पेट्रोल 117.86 रुपये प्रति लीटर और डीजल 105.95 रुपये प्रति लीटर पहुंच चुका है।

इन राज्यों में डीजल 100 रुपए से पार

सितंबर के आखिरी हफ्ते से अब तक पेट्रोल 16 और डीजल 17 बार महंगा हो चुका है। इस महीने डीजल 5.95 रुपए प्रति लीटर महंगा हुआ है। डीजल का दाम कई राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों में 100 रुपये प्रति लीटर के पार पहुंच चुका है। इनमें मध्यप्रदेश, राजस्थान, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, गुजरात, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, बिहार, केरल, कर्नाटक और लद्दाख शामिल हैं। बता दें कि राज्यों के क्षेत्रीय स्तर पर टैक्स में अंतर की वजह से कीमतों में हलका फर्क होता है।

ब्रेंट क्रूड 85 डॉलर प्रति बैरल के पार

पेट्रोल डीजल की कीमतों में आई तेजी के कारण ब्रेंट क्रूड की कीमतों में भी वृद्धि देखने को मिली है। ब्रेंट क्रूड भारतीय क्रूड बास्केट का अहम हिस्सा है। एक महीने पहले अंतर्राष्ट्रीय बेंचमार्क कहे जाने वाले ब्रेंट क्रूड ऑयल का दाम 73.91 डॉलर प्रति बैरल था। सप्लाई को लेकर चिंतायें बढ़ने से कच्चे तेल की कीमते 85 डॉलर प्रति बैरल के पार पहुंच गयी हैं, जो कि 7 साल में उच्चतम कीमत हैं। भारत इनके आयात पर निर्भर है। ऐसे में मूल्य की अंतरराष्ट्रीय वृद्धि भारत को प्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करती है।

टैक्स में वृद्धि के कारण हुआ पेट्रोल डीजल महंगा

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार वृद्धि का कारण सरकार द्वारा बढ़ाया गया टैक्स है। तेल पर लगने वाला टैक्स भी कीमतों में वृद्धि का एक कारण है। क्योंकि यह दोनों उत्पाद सरकार की आय का प्रमुख स्रोत बन चुकी है। बता दें कि वहीं महामारी के असर से निपटने के लिये सरकार के द्वारा किये जा रहे खर्च से तेल पर टैक्स घटाने की भी संभावनाओं से सरकार पहले ही इनकार कर चुकी है। इसी वजह से कीमतों में बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है। यदि टैक्स में वृद्धि नहीं होती तो पेट्रोल 75 और डीजल 60 रुपए प्रति लीटर मिलता।

पेट्रोल डीजल के दामों की तुलना

2014 में तेल कंपनियां डीलरों को 49 रुपये प्रति लीटर पेट्रोल बेच रही थी। इनमें केंद्र व राज्य सरकारों के टैक्स और डीलरों का मार्जिन जोड़ने पर पेट्रोल की कीमत 74 रुपये प्रति लीटर होती थी। उस समय केंद्र 14 प्रतिशत टैक्स लेता था। लेकिन आज केंद्र 32 प्रतिशत टेक्स ले रहा है। राज्य सरकारें भी उस समय 17 प्रतिशत टैक्स लेती थी जो अब 23 प्रतिशत टैक्स ले रही हैं। यदि टैक्स की 2014 की दरें ही मौजूद रहें तो पेट्रोल 70 से 75 रुपये प्रति लीटर में मिल सकता है।

इसके साथ ही डीजल की पिछली अवस्था पर नजर डालें तो पाएंगे कि डीजल पर 2014 में केंद्र का टैक्स 8 फीसदी था। जो आज 35 फीसदी है। राज्यों का टैक्स भी 12 फीसदी से बढ़कर 15 फीसदी हो गया है। यह भी अगर 2014 के स्तर पर रहे तो डीजल 55 से 60 रुपये प्रति लीटर तक मिल सकता है।

Next Story

विविध

Share it