Top
आर्थिक

पीएम मोदी ने बताया, LED के उपयोग से देश में 24 हजार करोड़ की हुई है बचत

Janjwar Desk
10 July 2020 10:14 AM GMT
पीएम मोदी ने बताया, LED के उपयोग से देश में 24 हजार करोड़ की हुई है बचत
x
मोदी बोले, अब इस बल्ब की कीमत दस गुना कम हुई है, इसी का नतीजा है कि देश में अब तक 36 करोड़ एलईडी बल्ब वितरित किया जा चुके हैं, एक करोड़ सड़क बत्ती में इसका उपयेाग हो रहा है.....

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि एलईडी के बल्व के उपयोग से देश में लगभग 24 हजार करोड़ रुपये की बचत हो रही है। मध्य प्रदेश रीवा में स्थापित एशिया की सबसे सौर उर्जा परियोजना रीवा अल्टा मेगा सोलर परियोजना का लोकार्पण करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पहले एलईडी बल्ब के उपयोग की लोग जरुरत महसूस करते थे, मगर महंगी होने के कारण उसे खरीद नहीं पाते थे।

मोदी बोले, अब इस बल्ब की कीमत दस गुना कम हुई है। इसी का नतीजा है कि देश में अब तक 36 करोड़ एलईडी बल्ब वितरित किया जा चुके हैं। एक करोड़ सड़क बत्ती में इसका उपयेाग हो रहा है।

मात्र एलईडी के उपयोग से बिजली की खपत में आई कमी का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा एलईडी के उपयोग से हर साल 24 हजार करोड़ रुपये की बचत हो रही है। इतना ही नहीं पर्यावरण की रक्षा में भी मदद मिल रही है।

मोदी ने परियोजना राष्ट को समर्पित करते हुए कहा कि रीवा की पहचान पहले नर्मदा नदी और सफेद बाघ के कारण थी मगर अब सौर उर्जा के संयंत्र के कारण होगी। इसके साथ ही राज्य में अन्य परियोजनाओं के शुरू होने से मध्य प्रदेश सस्ती और साफ -सुथरी बिजली का हब बन जाएगा। इससे किसान, गरीब और मध्यम वर्ग को सस्ती बिजली मिलेगी।

उन्होंने कहा कि सौर उर्जा आने वाली सदी की ऊर्जा का बड़ा मध्यम बनने वाली है। यह उर्जा श्योर, प्योर व सिक्योर भी है। आत्मनिर्भर भारत के लिए बिजली की आत्म निर्भरता आवश्यक है। इसमें सौर उर्जा बहुत बड़ी भूमिका निभाने वाली है।

यह परियोजना में स्थित सौर पार्क (कुल क्षेत्रफल 1500 हेक्टेयर) के अंदर 250 मेगावट की तीन सौर इकाइयां स्थित हैं। प्रत्येक इकाई 500 हेक्टेयर भूमि पर स्थापित है। सौर पार्क को मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम मर्यादित तथा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम सोलर एनर्जी कर्पोरेशन ऑफ इण्डिया की संयुक्त कम्पनी रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर लिमिटेड (आरयूएमएसएल) द्वारा विकसित किया गया है।

यह सौर उर्जा परियोजना की क्षमता 750 मेगावाट है। इसमे तीन इकाईयां 250-250 मेगावाट की है। इस परियोजना की 24 प्रतिशत बिजली दिल्ली मैट्रो को दी जाएगी। यह एशिया की सबसे बड़ी सौर उर्जा परियोजना है। इस परियोजना का प्रधानमंत्री मोदी ने दिल्ली से वर्चुअल लेाकार्पण किया।

यह लगभग चार हजार करोड़ की लागत से स्थापित की गई परियोजना है। इस मौके पर भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, दिल्ली में केंद्रीय उर्जा मंत्री आर के सिंह, ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, धर्मेंद्र प्रधान, थावरचंद्र गहलोत, प्रहलाद पटेल मौजूद रहे।

Next Story
Share it