गवर्नेंस

Spurious Liquor Scandal : बिहार में भी बीजेपी नेता आक्रोश के होने लगे शिकार, प्रदेश अध्यक्ष को भीड़ ने घेरा

Janjwar Desk
8 Nov 2021 1:23 PM GMT
Spurious Liquor Scandal : बिहार में भी बीजेपी नेता आक्रोश के होने लगे शिकार, प्रदेश अध्यक्ष को भीड़ ने घेरा
x

(बिहार के बेतिया में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल को आक्रोशित भीड़ ने घेर लिया) File pic.

Spurious Liquor Scandal : राज्य में लागू शराबबंदी के बीच पिछले चार दिनों के अंदर चार जिलों में तीन दर्जन से ज्यादा लोगों की कथित तौर पर जहरीली शराब पीने से संदिग्ध मौत हो चुकी है।

Spurious Liquor Scandal : हरियाणा (Haryana news) आदि राज्यों में कृषि कानूनों (New Farm Laws) को लेकर बीजेपी नेताओं (BJP Leaders) के किसानों के गुस्से का शिकार होने की कई खबरें सामने आई हैं। इसके बाद अब बिहार में भी बीजेपी नेताओं को लोगों के गुस्से का शिकार होना पड़ रहा है। हालांकि, यहां मामला थोड़ा अलग है। यहां कृषि कानून नहीं बल्कि, शराबबंदी कानून (Sharabbandi Kanoon) के बीच जहरीली शराब से हुई मौतों के कारण लोग आक्रोशित हो रहे हैं।

राज्य में लागू शराबबंदी के बीच पिछले चार दिनों के अंदर चार जिलों में तीन दर्जन से ज्यादा लोगों की कथित तौर पर जहरीली शराब (Poisonous Liqour news) पीने से संदिग्ध मौत हो चुकी है। वहीं अब भी कई लोग अस्पताल में भर्ती होकर इलाज करा रहे हैं। कुछ लोगों की आंखों की रौशनी चले जाने की भी शिकायत है। इन सब घटनाओं को लेकर त्यौहारों के माहौल के बीच प्रदेश के इन प्रभावित इलाकों में कोहराम मचा है। उधर, पक्ष-विपक्ष के नेता एक-दूसरे के ऊपर ठीकरा फोड़ने में लगे हैं।

इतनी बड़ी संख्या में हुई मौतों के बाद लोगों में रोष है। इस गुस्से की जद में आज बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद संजय जायसवाल (Sanjay Jaisawal) आ गये, जो पीड़ित परिवारों से मिलने गए थे। गुस्साए लोगों ने उन्हें दौड़ा दिया। पुलिस ने किसी तरह जद्दोजहद कर उन्हें वहां से सुरक्षित बाहर निकाला। बता दें कि संजय जायसवाल उसी क्षेत्र से सांसद हैं, जहां कठित जहरीली शराब के कारण दर्जनभर से ज्यादा लोगों की मौत हुई है।

बता दें कि शराबबंदी के बीच जहरीली शराब से हुई मौतों के बाद राज्य की नीतीश सरकार निशाने पर आ गई है। विपक्ष सीधे-सीधे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) पर हमलावर है और शराबबंदी कानून को फेल बता रहा है। इन सबके बीच मुख्यमंत्री ने 16 नवंबर को शराबबंदी की समीक्षा करने के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई है।

इस बीच सोमवार, 8 नवंबर 2021 को बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल जहरीली शराब कांड के मृतकों के परिजनों से मिलने बेतिया (Bettiah news) पहुंचे। गांव में पहुंचने के बाद संजय जायसवाल को ग्रामीणों के गुस्से का सामना करना पड़ा। बताया जा रहा है कि

पीड़ित परिजनों को संजय जायसवाल ने अपनी तरफ से आर्थिक मदद के रूप में लिफाफे में बंद कर रुपये दिए। ये काफी मामूली रकम थी, जिसके बाद परिजन आक्रोशित हो गए और उनके ऊपर जुबानी हमले करने लगे।

देखते ही देखते उग्र भीड़ ने मुआवजे की मांग करते हुए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष को घेर लिया। स्थिति गम्भीर होते देख मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने काफी मशक्कत के बाद संजय जायसवाल को भीड़ के घेरे से बाहर निकाला और गाड़ी में बैठाकर वहां से रवाना कर दिया।

वहीं, मीडियाकर्मियों द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए संजय जायसवाल ने कहा कि मुआवजा देना सरकार का काम है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार मामले को लेकर काफी गंभीर है और दोषियों के खिलाफ लगातार कार्रवाई हो रही है।

हालांकि, जब उनसे पूछा गया कि क्या बिहार में शराबबंदी फ्लॉप हो गई है तो उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाएं उन राज्यों में भी होती हैं, जहां शराबबंदी कानून लागू नहीं है।

Next Story

विविध

Share it