बिहार

Vikas par War Palatwar : नीतीश ने दिखाया आइना तो PK ने बिहार के CM को कराया सच से सामना

Janjwar Desk
7 May 2022 4:38 AM GMT
Vikas par War Palatwar : नीतीश ने दिखाया आइना तो PK ने बिहार के CM को कराया सच से सामना
x
Vikas par War Palatwar : नीतीश कुमार ने ठीक कहा कि महत्व केवल सत्य का है और सत्य यह है कि पिछले 30 साल के लालू और नीतीश के राज के बावजूद बिहार देश का सबसे गरीब और पिछड़ा राज्य है।

Vikas par War Palatwar : देश के चर्चित चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ( Prashant Kishor ) ने पूरे बिहार में सुराज यात्रा की घोषणा की है। इसका असर किसी पड़ा हो या न हो, लेकिन सुशासन बाबू और वहां के सीएम नीतीश कुमार ( CM Nitish Kumar ) पर इसका असर साफतौर पद देख्शा जा सकता है। गरमाने की वजह है। कभी नीतीश कुमार ( Nitish Kumar ) के सहयोगी रहे प्रशांत किशोर ने उन्हीं के खिलाफ सियासी मोर्चा ( Bihar Politics ) खोल दिया है। वो अपनी पार्टी बनाएंगे या नहीं यह तो अभी साफ नहीं है, लेकिन उनकी सुराज यात्रा ( Suraj yatra ) के दौरान 17 हजार से ज्यादा लोगों से निजी स्तर पर संवाद ने नीतीश कुमार की नींद हराम कर दी है।

सुशासन बाबू के खिलाफ आर या पार

दरअसल, बिहार में विकास ( Development of Bihar ) के नाम पर नीतीश कुमार ( Nitish Kumar ) और पीके ( Prashant Kishor ) बीच वार पलटवार ( Vikas par War Palatwar ) का सिलसिला चुनावी रणनीतिकार प्रशांत ने शुरू की है। गुरुवार यानि पांच अप्रैल को जब प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार पर हमला बोला और आरोप लगाया कि उनके 15 साल के शासनकाल के बावजूद बिहार सबसे गरीब प्रदेश है और यहां पर शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के अवसर बिल्कुल नष्ट हो चुके हैं। उनके इस रुख से साफ हो गया कि वो अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ आर-पार के मूड में अ गए हैं।

सीएम नीतीश : हम तो सिर्फ सत्य को महत्व देते हैं, जनता को सच पता है

सीएम नीतीश कुमार ( Nitish Kumar ) ने प्रशांत किशोर इसका जवाब दिया है। उन्होंने शुक्रवार को कहा कि कहा कि कौन उनके बारे में क्या कहता है, इसको वह महत्व नहीं देते हैं। नीतीश ने कहा कि वह महत्व सिर्फ सत्य को देते हैं और सच्चाई क्या है या बिहार की जनता जानती है कि 15 सालों में कितना काम हुआ है।

पीके : बिहार का सच ये है कि वो देश का सबसे गरीब और पिछड़ा राज्य है

सीएम नीतीश कुमार के इस जवाबी हमले के बाद ऐसा लगा कि प्रशांत किशोर ( Prashant Kishor ) के तेवर ढीले पड़ेंगे लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है। उन्होंने नीतीश के पलटवार के बाद एक बार फिर से प्रशांत किशोर ने उन पर हमला बोल दिया है। इस बार उनका हमला तंजिया लहजे में भी है। प्रशांत किशोर ने ट्वीट करते हुए कहा कि नीतीश कुमार ने ठीक कहा कि महत्व केवल सत्य का है और सत्य यह है कि पिछले 30 साल के लालू और नीतीश के राज के बावजूद बिहार देश का सबसे गरीब और पिछड़ा राज्य है। प्रशांत किशोर अपने ट्विट में आगे लिखते हैं कि बिहार को बदलने के लिए एक नई सोच और प्रयास की जरूरत है। यह सिर्फ बिहार के लोगों के सामूहिक प्रयास से ही संभव है। हालांकि, प्रशांत किशोर और नीतीश कुमार ने कई मौकों पर इस बात को कबूल किया है कि दोनों के व्यक्तिगत रिश्ते बहुत अच्छे हैं।

एक-दूसर को बख्शने का कोई इरादा नहीं

Vikas par War Palatwar : बता दें कि प्रशांत किशोर ने कई बार नीतीश कुमार को पिता तुल्य बता चुके हैं। वह कई बार कह चुके हैं कि दोनों का रिश्ता एक पिता-पुत्र की तरह है, लेकिन प्रशांत किशोर के बिहार की राजनीति में उतरने की सुगबुगाहट के साथ ही ऐसा लगता है कि बिहार के राजनीतिक संबंध में दोनों से कोई भी एक दूसरे को बख्शने के मूड में नहीं है।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध