दिल्ली

Gazipur-Tikri Borders: 11 महीने बाद टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर से हटे बैरिकेड्स, रास्ता खोलने की तैयारी में जुटी दिल्ली पुलिस

Janjwar Desk
29 Oct 2021 11:01 AM GMT
Gazipur-Tikri Borders: 11 महीने बाद टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर से हटे बैरिकेड्स, रास्ता खोलने की तैयारी में जुटी दिल्ली पुलिस
x

(करीब 11 महीनें बाद टिकरी और गाजीपुर सीमा से हटे बैरिकेड्स)

Gazipur-Tikri Borders: महीनों से लगे कंटीली तारें हटाकर गाड़ियों के आवाजाही के लिए रास्‍ता खोला जा रहा है। NH-9 औरNH-24 को खोल दिया गया है। सूत्रों की मानें तो आने वाले दिनों में सड़क का एक कैरिजवे खुल जाएगा...

Gazipur-Tikri Borders: दिल्‍ली-एनसीआर से हरियाणा और यूपी आने-जाने वालों के लिए राहत की खबर है। करीब एक साल से किसान आंदोलन के कारण बंद पड़े दिल्‍ली-उत्‍तर प्रदेश और दिल्‍ली-हरियाणा बॉर्डर अब खुल रहे हैं। दिल्‍ली पुलिस ने टिकरी (Tikri Border) और गाजीपुर बॉर्डर (Gazipur Border) से अब बैरिकेड्स हटाने शुरू कर दिए हैं। महीनो से लगे कंटीली तारें हटाकर गाड़ियों के आवाजाही के लिए रास्‍ता खोला जा रहा है। NH-9 और NH-24 को खोल दिया गया है। सूत्रों की मानें तो आने वाले दिनों में सड़क का एक कैरिजवे खुल जाएगा। दिल्ली प्रशासन ने यह कदम सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के कुछ दिनों उठाया है जिसमें किसान संघों ने तर्क दिया था कि दिल्ली की सीमाओं पर नाकेबंदी के लिए पुलिस जिम्मेदार थी।

बता दें कि पिछले साल देश भर में तीन कृषि कानून बिल लागू होने के बाद नवंबर में पंजाब, हरियाणा और यूपी के हजारों किसानों ने दिल्ली का रुख किया और सीमा पार करने की कोशिश की थी। इसलिए दिल्ली पुलिस ने दिल्ली-यूपी बॉर्डर और दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर की सड़कों पर बड़ी-बड़ी कीलें और कंक्रीट के बड़े-बड़े बैरिकेड्स लगा दिए थे।

दिल्‍ली पुलिस ने गुरुवार, 28 अक्टूबर की रात से ही टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर रास्‍ता खोलने की तैयारी शुरू कर दी। शुक्रवार को इस प्रक्रिया में और तेजी आई। इस दौरान 100 से भी ज्‍यादा संख्‍या में पुलिसकर्मी सड़क पर लगे बैरिकेड्स और कंटीली तारें हटाते नजर आए। टिकरी सीमा पर लगे बैरिकेड्स की आठ लेयर्स में से चार को हटा दिया गया है। सीमेंट के बने बैरिकेड्स अभी भी लगे हुए हैं। फलहाल यहां यात्रियों के लिए सड़क बंद है।

टिकरी बॉर्डर पर हटाए गए बैरिकैड्स के बारे में पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पुलिस द्वारा लगाए गए अवरोधकों के कुछ स्तर को हटा लिया गया है। उन्होंने कहा कि यातायात व्यवस्था को जल्द ही खोलने के लिए ये किया गया है। वरिष्ठ अधिकारी ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि बॉर्डर पर सड़कें बंद होने के कारण यातायात की आवाजाही नहीं है। यातायात को धीरे-धीरे शुरू करने के लिए जल्द ही बैरिकेड्स को पूरी तरह से हटा दिया जाएगा।'

सुप्रीम कोर्ट ने किसानों को लगाई थी फटकार

बता दें कि 26 नवंबर, 2020 से केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों का विरोध करते हुए हजारों किसान दिल्ली के टिकरी, सिंघू और गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं। किसान आंदोल के कारण अन्य राज्यों से दिल्ली आने जाने वाले लोगों को इस दौरान काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। आम जनता के परेशानी को लेकर सुप्रीम कोर्ट(Supreme Court of India) ने 21 अक्टूबर को किसानों फटकारते हुए कहा था कि तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को आंदोलन करने का अधिकार है, लेकिन वे अनिश्चित काल के लिए सड़कों पर आवाजाही को बाधित नहीं कर सकते।

जबकि किसान संघों ने आरोप लगाया था कि नाकेबंदी के दिल्ली पुलिस जिम्मेदार थी क्योंकि सरकार लोगों के बीच संदेश देना चाहती थी कि सड़क को किसान अवरुद्ध कर रहे हैं। करीब 11 महीनें बाद रास्ते खुलने पर किसान नेता राकेश टिकैत ने दोहराया कि रास्‍तों को किसानों ने नहीं रोका हैं। वहीं, राकेश टिकैत ने सरकार को चेतावनी दी कि रास्‍ते खुलेंगे तो आंदोलनकारी किसान ट्रैक्‍टर लेकर फसल बेचने सीधे संसद जाएंगे।

राहुल गांधी ने कहा- जल्द कृषि कानून भी हटेंगे

प्रशासन द्वारा बैरिकेडिंग हटाए जाने के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Congress Leader Rahul Gandhi)ने ट्वीट किया और लिखा कि अभी सिर्फ बैरिकेडिंग (Barricading)हटे हैं, जल्द ही सरकार को कृषि विरोधी कानून भी वापस लेना होगा।


बता दें कि केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों का देश भर में किसानों ने विरोध किया। दिल्ली के टिकरी, गाजीपुर और सिंधु बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन अभी भी जारी है।








Next Story

विविध

Share it