राष्ट्रीय

Mirzapur News : शिक्षक ने दी तालिबानी सजा- स्कूल की पहली मंजिल से मासूम को उल्टा लटकाया, अब दर्ज होगा मुकदमा

Janjwar Desk
28 Oct 2021 3:57 PM GMT
Mirzapur News : शिक्षक ने दी तालिबानी सजा- स्कूल की पहली मंजिल से मासूम को उल्टा लटकाया, अब दर्ज होगा मुकदमा
x

(मिर्जापुर में प्रिंसिपल ने तालिबानी सजा देते हुए मासूम को उल्टा लटका दिया)

Mirzapur News : मासूम के पढ़ाई न करने की बात को लेकर प्रिंसिपल को इस कदर गुस्सा आया कि उन्होंने आव देखा न ताव, कक्षा 4 में पढ़ने वाले छात्र को पहली मंजिल के बारजे से उल्टा लटका दिया..

Mirzapur News : प्राथमिक विद्यालय में मिड डे मील (Midday Meal) योजना के तहत नमक रोटी परोसे जाने को लेकर सुर्खियों में रहने वाले उत्तरप्रदेश के मिर्जापुर जनपद (Mirzapur District) स्थित अहरौरा का एक निजी स्कूल सुर्खियों में आ गया है। इस बार मामला थोड़ा हटकर है। यहां पढ़ाई ना करने की सजा एक निजी स्कूल के मासूम को प्रिंसिपल (School Principal) ने उसे विद्यालय की पहली मंजिल से उल्टा लटका कर दिया।

इस वाकये का फोटो सोशल मीडिया पर वायरल (Viral in social media) होने के बाद न केवल प्रिंसिपल की खूब किरकिरी हो रही है, बल्कि लोगों में इसको लेकर आक्रोश भी देखा जा रहा है। वहीं, अब जिलाधिकारी (District Magistrate) ने मामले का संज्ञान लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है। डीएम ने संबंधित लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है।

उपलब्ध जानकारी के अनुसार मिर्जापुर जनपद के अहरौरा (Ahraura) थाना क्षेत्र में एक निजी स्कूल के प्रिंसिपल को एक मासूम का पढ़ाई ना करना नागवार लगा। इस बात को लेकर उन्हें इस कदर गुस्सा आया कि उन्होंने आव देखा न ताव आक्रोश में आकर कक्षा 4 में पढ़ने वाले छात्र (Student of std 4) को पहली मंजिल के बारजे से उल्टा लटका दिया।

प्रिंसिपल की इस हरकत से स्कूल के अन्य छात्र सहम गए तो गए, लेकिन जैसे ही छात्र को उल्टा लटकाने का फोटो वायरल हुआ, वैसे ही अभिभावकों (Guardians) में आक्रोश हो गया। इसके साथ ही जिला प्रशासन ने भी मामले का संज्ञान ले लिया।

हालांकि, मौके के नजाकत को भांपते हुए बिना किसी देर के तत्काल प्रिंसिपल ने यह कह कर पल्ला झाड़ लिया कि बच्चा पढ़ाई पर ध्यान नहीं दे रहा था, इसलिए उसे डराने के लिए दंड दिया।

मामला अहरौरा थाना क्षेत्र के डीह गांव में स्थित सद्भावना स्कूल (Sadbhavana School) का है। गांव के लोगों में प्रिंसिपल की इस हरकत को लेकर काफी आक्रोश बना हुआ है। लोगों ने इस प्रकार के दंड दिए जाने की कड़ी निंदा की और कहा कि अगर बालक का पैर छूट जाता तो सिर के बल गिरने से बड़ी घटना हो सकती थी।

कुछ लोग विद्यालय भी पहुंचे, लेकिन तब तक गेट पर ताला बंद हो चुका था। हालांकि बाद में मामला बढ़ता देख सद्भावना स्कूल के प्रिंसिपल और प्रबंधक मनोज विश्वकर्मा ने कहा कि बच्चा पढ़ाई पर ध्यान नहीं दे रहा था। इससे उस पर गुस्सा आ गया। फोटो वायरल होने के बाद उसने माना कि यह उनकी गलती है। इस प्रकार दंड नहीं देना चाहिए था।

गौरतलब हो कि यह वही अहरौरा क्षेत्र है जहां कुछ वर्ष पूर्व प्राथमिक विद्यालय में नमक रोटी परोसे जाने को लेकर शासन-प्रशासन की किरकिरी हुई थी। उस घटना में कुछ लोगों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज करना पड़ा था। उस मामले में खबर को उजागर करने वाले पत्रकार पर ही मुकदमा दर्ज कर दिया गया था। हालांकि, बाद में पत्रकार दोषमुक्त हो गया था।

इस बीच जिलाधिकारी के निर्देश पर बीएसए ने बीईओ जमालपुर अरुण सिंह को आरोपित प्रधानाचार्य मनोज विश्वकर्मा के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराने का निर्देश दिया है। इस सम्बन्ध में बीएसए ने बताया कि बीईओ जमालपुर अरुण सिंह को आरोपित प्रधानाचार्य के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराने के निर्देश दिया गया है।

Next Story

विविध