राष्ट्रीय

देवेंद्र फडणवीस के अरोपों पर नवाब मलिक का पलटवार, कहा - एनसीबी के अधिकारी को बचाने की कोशिश कर रहे हैं पूर्व सीएम

Janjwar Desk
10 Nov 2021 4:44 AM GMT
Sharad pawar, Nawab Malik, ED
x

सत्ता का दुरुपयोग कर रही है केंद्र सरकार।

आर्यन ड्रग्स केस मामले में देवेंद्र फडणवीस झूठ बोल रहे हैं। उनके संबंध बांग्लादेशी माफियाओं से हैं और वह समीर वानखेड़े को बचाने की कोशिश कर रहे हैंं।

नई दिल्ली। महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक ने आज देवेंद्र फडणवीस के अरोनों पर पलटवर किय हैं। उन्होंने आरोप लगाय है कि देवेंद्र फडणवीस एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े को बचा रहे हैंं। समीर उनका चहेता अधिकारी हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि देवेंद्र जी के संबंबध बांग्लादेशी माफियाओं से भी हैं। वह ड्रग्स केस मामले में लोगों को गुमराह करने की भी कोशिश कर रहे हैं। हमारे खिलाफ उन्होंने सभी आरोप झूठे लगाए हैं। उन्होंने कहा कि ड्रग्स केस में हजारों करोड़ की वसूली हुई है। उनके कार्यकाल में देश में जाली नोटों का कारोबार हुआ।

Also Read : नोबेल पुरस्कार विजेता और सामाजिक कार्यकर्ता Malala Yousafzai ने रचाई शादी, दुनियाभर के लोगों से की ये अपील

Also Read : आर्यन खान ड्रग्स केस में महिलाओं ने संभाला मोर्चा, ये हैं अमृता-क्रांति से लेकर पूजा-यास्मीन के दावे

सीएम पद पर रहते हुए जाली नोटों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान नवाब मलिक ने कहा कि कल देवेंद्र फडणवीस ने मुझे पर सलीम पटेल के बारे में जानकारी होने के आरोप लगाए थे। इस बारे में बता दूं कि 2005 में मंत्री मैं नही था। नवाब मलिक ने कहा कि मैंने सजायाफ्ता मुजरिम से मैंने प्रॉपर्टी खरीदी, वो कनविक्टेड नहीं था, लेकिन एनसीबी जो निर्दोष लोगों को फंसाने और पैसों की उगाही कर रहा है देवेंद्र जी उसे बचाने का काम कर रहे हैं। देवेंद्र फडणवीस पर गंभीर आरोप लगाते हुए मलिक ने कहा कि 8 नवबंर, 2016 में नोटबंदी के बाद बहुत से राज्यों में जाली नोट पकडे जाने लगे। इसके बावजूद 1 साल तक महाराष्ट्र में कोई भीं जाली नोट का मामला सामने नहीं आया। 8 अक्टूबर, 2017 में DRI ने 14 करोड़ 56 लाख रुपए की जाली नोट BKC में पकड़ी थीं



अपराधियों को संरक्षण देने का आरोप लगाया

नवाब मलिक ने आगे कहा कि इनकी गिरफ्तार मुंबई में हुई। पुणे में भी एक गिरफ्तारी हुई थी, लेकिन 14 करोड़ को 8 लाख 80 बताकर मामला दबाया गया। पाकिस्तान की जाली नोट भारत में चले और आरोपियों की जमानत हो गई। ये मामला NIA को क्यों नही दिया गया। वहीं, पकड़े गए आरोपी को कांग्रेसी बताया गया। मलिक ने आगे कहा कि आरोपी के भाई को 6 महीने बाद दलबदल करवाकर माइनॉरिटी कमीशन का चेयरमैन बनाते हैं। देवेंद्र जी आपने पूरी तरह से राजनीति का क्रिमिनालिजेशन करने का काम किया।

Next Story