राष्ट्रीय

Police Custody Death : कासगंज में मृतक अल्ताफ की माँ का सवाल 'मेरे पति अनपढ़ हैं वो लिखकर कैसे दे सकते हैं क्लीनचिट?'

Janjwar Desk
13 Nov 2021 7:58 AM GMT
kasganj news
x

(अल्ताफ की मां ने रोकर जनज्वार को बताया बेटे की हुई है हत्या) 

मृतक की मां का कहना है कि अल्ताफ खुदकुशी नहीं कर सकता, उसकी हत्या हुई है। अल्ताफ के पिता अनपढ़ हैं और उनसे बच्चे का शव देने के नाम पर अंगूठा लगवा लिया गया...

Police Custody Death : उत्तर प्रदेश के कासगंज कोतवाली में हिरासत में मरे अल्ताफ की मां ने जनज्वार से बात करते हुए कहा की उसके पति अनपढ़ हैं। पुलिस ने उनके पति से मालूम नहीं कौन से कागज पर अगूंठा लगवा लिया। उन्होने आरोप लगाते हुए कहा की पुलिस ने उनके बेटे को पीटकर थाने में मार दिया है। उन्हें इंसाफ चाहिए।

दूसरी तरफ पुलिस ने इस मामले में कहा कि अल्ताफ तनाव में था, इसलिए फांसी लगाकर जान दे दी। हालांकि उसके परिजनों ने पुलिस द्वारा बेरहमी से पिटाई को मौत की वजह बताया है। फिलहाल इस मामले में अल्ताफ की मां का बयान सामने आया है। अल्ताफ की मां शबनम का कहना है कि पुलिस ने उसके बेटे की हत्या की गई है।

गौरतलब है कि अल्ताफ घरों में टाइल्स लगाने का काम करता था। उसकी मां ने कहा, 'मेरे बेटे का कभी पुलिस से वास्ता नहीं पड़ा। जिस घर से लड़की गायब है उसने कई महीने पहले उस घर में टाइल्स लगाया था। इसके बाद कभी उधर नहीं जाना हुआ। अचानक पुलिस उसे घर पूछताछ के लिए ले गई। अल्ताफ खुदकुशी नहीं कर सकता है, उसकी हत्या हुई है। अल्ताफ के पिता अनपढ़ हैं और उनसे बच्चे का शव देने के नाम पर अंगूठा लगवा लिया गया।'

क्या है पूरा मामला?

यूपी के कासगंज में एक नाबालिग लड़की को भगाने के आरोप में पूछताछ के लिए लाए गए 22 साल के लड़के अल्ताफ की कासगंज कोतवाली की हवालात में मौत हो गई थी। पुलिस का कहना है कि, अल्ताफ ने टॉयलेट जाने के बाद हवालात की टॉयलेट में ही जैकेट के नाड़े से फांसी लगा ली। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए SP कासगंज ने कोतवाली इंस्पेक्टर कासगंज सहित दो सब इंस्पेक्टरों एक हेड मोहर्रिर और एक सिपाही को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया था।

तूल पकड़ने के बाद मामले में कई विपक्षी दलों ने राज्य सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने मांग कि है कि आरोपी पुलिसकर्मियों की तुरंत गिरफ्तारी होनी चाहिए और अल्ताफ के परिवार को मुआवजा मिलना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ये यूपी में पुलिस अत्याचार की महामारी है।

Next Story

विविध