राष्ट्रीय

डैमेज कंट्रोल में जुटे RSS प्रमुख, बोले लिंचिंग हिंदुत्व विरोधी, लोगों की एकता को खत्म करने का हथियार बन सकती है राजनीति

Janjwar Desk
4 July 2021 2:28 PM GMT
आरएसएस के खिलाफ नागपुर में बवाल, भारत मुक्ति मोर्चा के 200 से ज्यादा कार्यकर्ता गिरफ्तार
x

आरएसएस के खिलाफ नागपुर में बवाल, भारत मुक्ति मोर्चा के 200 से ज्यादा कार्यकर्ता गिरफ्तार

मोहन भागवत ने कहा कि ऐसे कुछ काम हैं, जो राजनीति नहीं कर सकती है। राजनीति लोगों को एक नहीं कर सकती है, राजनीति लोगों को एक करने का उपकरण नहीं बन सकती है, लेकिन एकता खत्म करने का हथियार बन सकती है...

जनज्वार डेस्क। मॉब लिंचिंग की घटनाओं को लेकर सरकार की लगातार हो रही किरकिरी के बीच आरएसएस डैमेज कंट्रोल में जुट गया है। आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत ने कहा है कि लिंचिंग करने वाले हिंदुत्व विरोधी हैं। भागवत ने कहा कि भारत में रहने वाले सभी लोगों का डीएनए एक है, भले ही वे किसी भी धर्म के हों।

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में भागवत ने कहा कि हिंदू-मुस्लिम एकता भ्रामक है क्योंकि वे अलग-अलग नहीं, बल्कि एक हैं। पूजा करने के तरीके के आधार पर लोगों में भेद नहीं किया जा सकता।

मोहन भागवत ने कहा, ''ऐसे कुछ काम हैं, जो राजनीति नहीं कर सकती है। राजनीति लोगों को एक नहीं कर सकती है, राजनीति लोगों को एक करने का उपकरण नहीं बन सकती है, लेकिन एकता खत्म करने का हथियार बन सकती है।''

उन्होंने कहा कि देश में एकता के बिना विकास संभव नहीं। एकता का आधार राष्ट्रवाद और पूर्वजों की महिमा होनी चाहिए।

मोहन भागवत ने कहा कि हम लोकतांत्रिक देश में रहते हैं। यहां हिंदू या मुसलमानों का प्रभुत्व नहीं हो सकता। केवल भारतीयों का प्रभुत्व हो सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि भीड़ द्वारा पीट-पीटकर की जाने वाली हत्या (लिंचिंग) में शामिल होने वाले लोग हिंदुत्व के खिलाफ हैं।

Next Story

विविध