राष्ट्रीय

प्रयागराज के स्वरूपरानी अस्पताल में युवती के साथ हुए गैंगरेप की 8 दिन बाद भी नहीं हो सकी जांच

Janjwar Desk
7 Jun 2021 3:55 AM GMT
प्रयागराज के स्वरूपरानी अस्पताल में युवती के साथ हुए गैंगरेप की 8 दिन बाद भी नहीं हो सकी जांच
x

प्रयागराज के स्वरूपरानी अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझती किशोरी.8 दिन पहले अस्पताल वालों पर लगाया था रेप का आरोप. file photo - janjwar

लड़की के चचेरे भाई ने जनज्वार से बात करते हुए बताया कि जांच के नाम पर महज खानापूर्ति की जा रही है, अभी तक आरोपियों के खिलाफ दर्ज नहीं हुई है शिकायत...

जनज्वार, लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार 2022 विधानसभा चुनाव में दमखम दिखाने के लिए कमर कस रही है वहीं दूसरी तरफ उनका प्रशासन हर एक गुनाह पर पर्दा डालकर सारे राज दफन कर देने पर तुली हुई है। इसका ताजा उदाहरण प्रयागराज के स्वरूपरानी अस्पताल में इलाज के लिए गई एक लड़की के साथ हुआ गंदा काम है। जिसकी जांच कटोरे में पानी की तरह भरकर फ्रीजर में रख दी गई है।

प्रयागराज के स्वरूपरानी अस्पताल की इस घटना को हुए आज आठवां दिन है। लड़की के चचेरे भाई ने जनज्वार से बात करते हुए बताया कि जांच के नाम पर महज खानापूर्ति की जा रही है। लड़की के भाई ने यह भी कहा कि उसके साथ हुए दुष्कर्म की जांच भी यहीं के डॉक्टर कर रहे हैं, तो स्वाभाविक सी बात है इसमें खेल कर दिया जाएगा। लड़की के चचेरे भाई का साफ कहना है कि उसे बिल्कुल उम्मीद नही है कि टीक तरह जांच होगी या हो रही।


प्रयागराज में नई बस्ती मिर्जापुर रोड निवासी एक बीस वर्षीय युवती को पेट दर्द की शिकायत के चलते 29 मई को शाम 7 बजे स्वरूपरानी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। अस्पताल में जांच के दौरान लड़की की आंत में सुराख की बात कही गई थी, जिसका यहां ऑपरेशन किया गया था। लड़की ऑपरेशन के बाद 31 मई को जब ओटी से बाहर आई तो वह काफी डरी हुई थी। पूछने पर उसने ऑपरेशन थियेटर के भीतर खुद से गंदा काम किए जाने का आरोप लगाया था।

संबंधित खबर : प्रयागराज के स्वरूपरानी अस्पताल स्टाफ पर भर्ती लड़की ने लगाया गैंगरेप का आरोप, हालत बहुत गंभीर


इस मामले पर पहले तो प्रशासन पर्दा डालता रहा। जनज्वार ने मामले की विस्तृत रिपोर्ट प्रकाशित की थी, और परिजनो से बात कर एक-एक घटनाक्रम को सिलसिलेवार ढंग से उठाया था। हमने स्थानीय प्रशासन से भी बात की, जिसपर हमें बताया गया था कि इस मामले में जांच करने के लिए सीएमओ ने दो जांच कमेटी गठित की हैं। साथ ही यह भी बताया गया कि एसपी सिटी खुद मामले की पूरी निगरानी कर रहे हैं।

वहीं लड़की के भाई ने हमसे बात करते हुए बताया कि जांच में कोई इम्प्रूवमेंट नहीं है। और तो अभी तक थाने में परिजनो की तरफ से कोई कंप्लेन तक दर्ज नहीं की गई है। भाई ने बताया की पुलिस का कहना है कि जब लड़की बात करने लायक होगी तब उसका बयान लेकर रिपोर्ट दर्ज करेंगे। भाई कहता है मान लीजिए उसकी बहन को कुछ हो जाता है तो क्या ये लोग लगाश से पूछताछ करेंगे। और क्या इतने दिनो तक कोई सुबूत बचेगा?

लड़की के भाई की बात अपनी जगह पूरी तरह से वाजिब है। भाई कहता है कि लड़की की हालत अभी भी सीरियस बनी हुई है, और यह लोग उसके होश में आने का इंतजार कर रहे हैं। जबकी वह दो बार एप्लीकेशन लेकर थाने गए लेकीन उसे लिया नहीं गया।

संबंधित खबर : स्वरूपरानी अस्पताल में गैंगरेप की शिकार लड़की की मां आई सामने, कहा गुनहगारों को मिले कड़ी सजा

आपको बता दें कि स्वरूपरानी अस्पताल में भर्ती लड़की ने यहीं के चार कर्मचारियों पर खुद से दुष्कर्म करने जैसा गंभीर आरोप लगाया था। लड़की ने इस मामले में लिखित व मौखिक दोनो बयान दिेए थे, बावजूद इसके पुलिस और जांच टीम लीपापोती का भरसक प्रयास कर रही है।

Next Story

विविध